breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशबीमारियां व इलाजराज्यों की खबरेंहेल्थ
Trending

दिल्ली में 23.48 फीसदी लोगों को हुआ कोरोना,बनी एंटीबॉडीज: सीरो सर्वे

इस प्रतिशत को देखकर ऐसी संभावना जताई जा रही है कि शायद दिल्ली हर्ड इम्यूनिटी की ओर बढ़ रही है...

Delhi serological survey says 23.48 percent Delhi COVID-19 infected people have antibodies

नई दिल्ली: Delhi COVID-19 infected 23.48 percent people have antibodies-दिल्ली में कोरोना संक्रमण कितने लोगों को अब तक हो चुका है इसकी रिपोर्ट सीरो सर्वे (Delhi serological survey results) से पता चली है।

दिल्ली के 23.48 फीसदी लोग कोरोना संक्रमित हो चुके है और अब उनमें एंटीबॉडीज (antibodies) भी बन गई है।

इस प्रतिशत को देखकर ऐसी संभावना जताई जा रही है कि शायद दिल्ली हर्ड इम्यूनिटी की ओर बढ़ रही है।

हालांकि दिल्ली में ज्यादातर कोरोना संक्रमित एसिप्टमैटिक यानि बिना लक्षण वाले मरीज है।

ऐसा सीरो सर्वे में बताया गया है। इस सर्वे के डाटा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किया है।

हेल्थ मिनिस्ट्री के अनुसार, सीरो सर्वे 27 जून से 10 जुलाई के बीच हुआ था।

इसे नैशनल सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल (NCDC) और दिल्ली सरकार ने मिलकर किया था।

 
Delhi serological survey says 23.48 percent Delhi COVID-19 infected people have antibodies

दिल्ली में कोरोना संक्रमण पर हुए सीरोलॉजिकल सर्वे पर हेल्थ मिनिस्ट्री ने राहत जताई

दिल्ली में हुए सीरो सर्वे के नतीजों से पता चला है कि 23.48 फीसदी लोगों में कोरोना एंटीबॉडीज हैं। इस सर्वे पर हेल्थ मिनिस्ट्री ने राहत की सांस ली है। यह सर्वे दिल्ली में 27 जून से 10 जुलाई के बीच हुआ था।

हेल्थ मिनिस्ट्री का कहना है कि सीरो सर्वे से पता चलता है कि दिल्ली में कोरोना संक्रमण 6 महीने में उतना नहीं फैला, जितनी संभावना थी।

सरकार ने कहा कि कोरोना संक्रमण की रफ्तार कम करने का बड़ा कारण लॉकडाउन लगाना, कंटेनमेंट जोन बनाना रहा है।

लोगों के सहयोग की भी तारीफ की गई है।

गौरतलब है कि देश में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या अब 11 लाख के पार जा चुकी है। आज NCDC के डायरेक्टर ने सीरो सर्वे को लेकर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने बताया कि दिल्ली में हुए सीरोलॉजिकल सर्वे से पता चला है कि 23.48 फीसदी लोगों में एंटीबॉडीज उपलब्ध है।

यह एक कामयाबी है जोकि डॉक्टरों, पैरा मेडिकल स्टाफ का कमाल है।

 
 
Delhi serological survey says 23.48 percent Delhi COVID-19 infected people have antibodies

कैसे हुआ था सीरो सर्वे-Delhi serological survey

सीरो सर्वे में दिल्ली के सभी 11 जिलों को कवर किया गया। सर्वे में शामिल टीमों ने सहमति लेने के बाद कुछ चुनिंदा लोगों के खून के नमूने लिए।

इसके बाद इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकर रिसर्च के मानकों के मुताबिक ऐंटिबॉडी टेस्ट किया गया। इस सर्वे में लैब स्टैंडर्ड के मुताबिक 21 हजार 387 सैंपल जमा किए गए।

इस टेस्ट की मदद से यह जाना गया कि आखिर कितने लोगों के अंदर कोरोना वायरस से लड़ने के लिए ऐंटिबॉडी तैयार हो चुकी है।

इस सर्वे में एंटीबॉडीज का रैपिड टेस्ट करके पता लगाया गया कि शख्स में कोरोना एंटीबॉडी बनी है या नहीं। इससे पता लगता है कि क्या शख्स कभी कोरोना के संपर्क में आया था या नहीं।

 
 

जानें क्या है हर्ड इम्यूनिटी-What is Herd immunity

हर्ड इम्युनिटी (Herd immunity) एक बहुत पुरानी प्रक्रिया है। इसके अंतर्गत देश की आबादी के एक तय हिस्सों को वायरस से संक्रमित कर दिया जाता है।

जिससे वो इस वायरस से इम्यून हो जाएं। यानी उनके शरीर में वायरस (Virus) को लेकर एंटीबॉडीज (antibodies) बन जाएं।

इससे भविष्य में कभी भी वो वायरस परेशान नहीं करेगा।

अगर राजधानी की 60-70 फीसदी आबादी कोरोना से पीड़ित हो जाए और लोगों में इसका एंटीबॉडी बन जाए।

जब वायरस एक शरीर से दूसरे शरीर में ट्रांसफर होगा तो उसकी क्षमता धीरे-धीरे कम होते जाती है और धीरे-धीरे यह खत्म हो जाता है।

ऐसे में कमजोर वायरस को फिर से फैलने के लिए किसी मजबूत वायरस की जरूरत पड़ती है।

हालांकि हर्ड इन्यूनिटी पर अभी भी विशेषज्ञों में मतभेद हैं और कई विशेषज्ञ तो इसे खतरा भी बताते हैं।

 
 
 
Delhi serological survey says 23.48 percent Delhi COVID-19 infected people have antibodies
 

(इनपुट एजेंसी से भी)

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen + 5 =

Back to top button