breaking_newsअन्य ताजा खबरेंघरेलू नुस्खेहेल्थ
Trending

कैंसर ने ली इरफान खान,ऋषि कपूर की जान, इस फल को खाने से होता है कैंसर से बचाव

कौन सा फल है जो कैंसर का खात्मा कर सकता है?

नई दिल्ली, (समयधारा) : Papaya Leaf to cure cancer- कैंसर एक ऐसी बीमारी जिसने बॉलिवुड इंडस्ट्री के दो दिग्गज और प्रतिभाशाली एक्टर्स इरफान खान (Irrfan Khan died) और ऋषि कपूर (Rishi kapoor died) को हमसे छीन लिया।

इरफान खान जहां हार्मोन्स बनाने वाली ग्रांथियों से संबंधित कैंसर न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर से पीड़ित थे, तो वहीं ऋषि कपूर ल्यूकेमिया से पीड़ित थे।

IrrfanKhandiedandRishiKapoordied_optimized
इरफान खान(बाएं) और ऋषि कपूर (दाएं)

ल्यूकेमिया ब्लड कैंसर का एक प्रकार होता है। ल्यूकेमिया को क्रोनिक लिम्फोसाइटिक ल्यूकेमिया या सीएलएल (CLL) भी कहा जाता है।

हालांकि देश और मेडिकल में अब कैंसर (Cancer) का इलाज संभव है लेकिन फिर भी किसी भी बीमारी के इलाज से ज्यादा महत्वपूर्ण है उससे बचाव करना।

वक्त रहते अगर आप कुछ ऐसे उपाय और सतर्कता कर बरत लें जिससे कैंसर जैसी बीमारी से भी छुटकारा मिल जाएं तो इससे बड़ी बात और क्या हो सकती है। 

कैंसर जैसी बीमारी के लिए भी एक्सपर्ट्स ने कुछ घरेलू उपाय सुझाएं है, जिनके बारे में हम आपको बता रहे है। पपीता तो आप सभी ने देखा और खाया होगा।

अगर हम कहें कि पपीते की पत्तियां कैंसर के इलाज के लिए रामबाण साबित हो सकती है (Is papaya good for cancer patients?) तो शायद आपको यकीन करना मुश्किल होगा,लेकिन यह सच है।

अगर आप जानना चाहते है कि वो

कौन सा फल है जो कैंसर का खात्मा कर सकता है? (Which foods kill cancer cells?)

तो इसका जवाब भी यही है कि कैंसर के इलाज में पपीते (Papaya की अहम भूमिका है। 

क्या पपीते की पत्तियां कैंसर का खात्मा कर सकती है? Can papaya seeds cure cancer?

papaya-leaf-cure-cancer2_optimized

रिसर्चरों ने भी माना है कि पपीता एक कैंसर रोधी फल है। इसका इस्तेमाल करने से आप गर्भाश्य ग्रीवा (cervix), ब्रेस्ट ( breast), लिवर (liver), लंग (lung) और पैनक्राइसेज (pancreas)  कैंसर की रोकथाम के लिए उपयोगी है।

जानियें कैसे पपीते की पत्तिया कैंसर को खत्म करती है?

Whichfoodskillcancercell-Papayabenefits_optimized

Papaya Leaf to cure cancer

1. पपीता कैंसर रोधी अणु Th1 cytokines के उत्पादन को ब़ढाता है जो की इम्यून सिस्टम को शक्ति प्रदान करता है जिससे कैंसर कोशिका को खत्म किया जाता (Cancer can be treat to Papaya) है।
2. पपीते की पत्तियों में papain नामक एक प्रोटीन को तोड़ने (proteolytic) वाला एंजाइम पाया जाता है जो कैंसर कोशिका पर मौजूद प्रोटीन के आवरण को तोड़ देता है जिससे कैंसर कोशिका शरीर में बचा रहना मुश्किल हो जाता है।

Papain blood में जाकर macrophages को उतेजित करता है जो immunity system को उतेजित करके कैंसर कोशिका को नष्ट करना शुरू करती है, chemotherapy / radiotherapy और पपीता की पत्तियों के द्वारा ट्रीटमेंट में ये फर्क है कि chemotherapy में immune system को दबाया जाता है जबकि पपीता immune system को उतेजित करता है, chemotherapy और radiotherapy में नार्मल कोशिका भी प्रभावित होती है पपीता सोर्फ़ कैंसर कोशिका को नष्ट करता है।

सबसे बड़ी बात की कैंसर के इलाज में पपीते का कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है।

Cancer treatment Papaya role

कैंसर में पपीते के सेवन की विधि :–
कैंसर (Cancer) में सबसे बढ़िया है पपीते की चाय। दिन में 3 से 4 बार पपीते (Papaya) की चाय बनायें, ये आपके लिए बहुत फायदेमंद होने वाली है। अब आइये जाने लेते हैं पपीते की चाय बनाने की विधि।

1. 5 से 7 पपीता के पत्तो को पहले धूप में अच्छी तरह सुखा ले फिर उसको छोटे छोटे टुकड़ों में तोड़ लो आप 500 ml पानी में कुछ पपीता के सूखे हुए पत्ते डाल कर अच्छी तरह उबालें।

इतना उबाले के ये आधा रह जाए। इसको आप 125 ml करके दिन में दो बार पिए। और अगर ज्यादा बनाया है तो इसको आप दिन में 3 से 4 बार पियें। बाकी बचे हुए लिक्विड को फ्रीज में स्टोर का दे जरुरत पड़ने पर इस्तेमाल कर ले। और ध्यान रहे के इसको दोबारा गर्म मत करें।

Papaya Leaf to cure cancer

2. पपीते के 7 ताज़े पत्ते लें इनको अच्छे से हाथ से मसल लें। अभी इसको 1 लीटर पानी में डालकर उबालें, जब यह 250 ml। रह जाए तो इसको छान कर 125 ml. करके दो बार में अर्थात सुबह और शाम को पी लें। यही प्रयोग आप दिन में 3 से 4 बार भी कर सकते हैं।

पपीते के पत्तों का जितना अधिक प्रयोग आप करेंगे उतना ही जल्दी आपको असर मिलेगा। और ये चाय पीने के आधे से एक घंटे तक आपको कुछ भी खाना पीना नहीं है।

कब तक करें ये प्रयोग वैसे तो ये प्रयोग आपको 5 हफ़्तों में अपना रिजल्ट दिखा देगा, फिर भी हम आपको इसे 3 महीने तक इस्तेमाल करने का निर्देश देंगे

और ये जिन लोगों का अनुभूत किया है उन लोगों ने उन लोगों को भी सही किया है, जिनकी कैंसर में तीसरी और चौथी स्टेज थी।

पपीते के पत्तो (Papaya-Leaf) की चाय किसी भी स्टेज के कैंसर को सिर्फ 60 से 90 दिनों में कर देगी जड़ से खत्म,

पपीते के पत्ते 3rd और 4th स्टेज के कैंसर को सिर्फ 35 से 90 दिन में सही कर सकते हैं।

Know-How Papaya-Leaf Kills Cancer

अभी तक हम लोगों ने सिर्फ पपीते के पत्तों को बहुत ही सीमित तरीके से उपयोग किया होगा, बहरहाल प्लेटलेट्स के कम हो जाने पर या त्वचा सम्बन्धी या कोई और छोटा मोटा प्रयोग, मगर आज जो हम आपको बताने जा रहें हैं, ये वाकई आपको चौंका देगा, आप सिर्फ 5 हफ्तों में कैंसर जैसी भयंकर रोग को जड़ से ख़त्म कर सकते हैं।

ये प्रकृति की शक्ति है और बलबीर सिंह शेखावत जी की स्टडी है जो वर्तमान में  बतौर एक सरकारी फार्मासिस्ट अपनी सेवाएँ सीकर जिले में दे रहें हैं।

कई प्रकार के वैज्ञानिक शोधों से पता लगा है कि पपीते के सभी भागों जैसे फल, तना, बीज, पत्तिया, जड़ सभी के अन्दर कैंसर की कोशिका को नष्ट करने और उसके वृद्धि को रोकने की क्षमता पाई जाती है।

Papaya Leaf to cure cancer

विशेषकर पपीते की पत्तियों के अन्दर कैंसर की कोशिका को नष्ट करने और उसकी वृद्धि को रोकने का गुण अत्याधिक पाया जाता है। तो आइये जानते हैं उन्ही से।

Nam Dang MD, Phd जो कि एक शोधकर्ता है, के अनुसार पपीता की पत्तियां डायरेक्ट कैंसर को खत्म कर सकती है, उनके अनुसार पपीता कि पत्तिया लगभग 10 प्रकार के कैंसर को खत्म कर सकती है जिनमे मुख्य है।

breast cancer, lung cancer, liver cancer, pancreatic cancer, cervix cancer, इसमें जितनी ज्यादा मात्रा पपीता के पत्तियों की बढ़ाई गयी है, उतना ही अच्छा परिणाम मिला है, अगर पपीता की पत्तिया कैंसर को खत्म नहीं कर सकती है लेकिन कैंसर की प्रोग्रेस को जरुर रोक देती है।

Papaya Leaf to cure cancer

खाना डाइजेस्ट न हो रहा हो या पेट में बनें गैस तो खाएं सौंफ, अदरक, दही और पपीता

 
 

नोट: उपरोक्त बताएं नुस्खे जानकारी के लिए है। समयधारा इनकी प्रमाणिकता की पुष्टि नहीं करता।

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty + seven =

Back to top button