breaking_newsअन्य ताजा खबरेंबिजनेसबिजनेस न्यूजमार्केट
Trending

सस्ते लोन की उम्मीद नहीं! महंगाई बढ़ने से RBI ने रेपो रेट में नहीं किया बदलाव, 5.15% पर कायम

बजट2020 के बाद आज आरबीआई ने पहली बार पॉलिसी रेट का मूल्यांकन किया है।

नई दिल्ली: RBI unchanged repo rate keep at 5.15% – भले ही आज लोकसभा में पीएम मोदी ने कहा हो कि महंगाई नियंत्रण में है लेकिन आरबीआई (RBI) ने रेपो रेट (Repo Rate) में कोई बदलाव न करते हुए स्पष्ट कर दिया है कि फिस्कल ईयर 2020 में महंगाई बढ़ने के कारण से RBI ने रेपो रेट को पहले जितना 5.15% पर ही रखा (RBI unchanged repo rate keep at 5.15%) है।

गौरतलब है कि बजट2020 (budget 2020) के बाद आज आरबीआई (RBI) ने पहली बार पॉलिसी रेट का मूल्यांकन किया है।

आरबीआई मॉनेटरी पॉलिसी कमिटी (RBI monetary policy (MPC) ने फिलहाल रेपो रेट (Repo Rate) में कोई भी बदलाव नहीं किया (RBI unchanged repo rate keep at 5.15%) है।

फिस्कल ईयर 2020 में महंगाई बढ़ने की वजह से RBI ने रेपो रेट को जस का तस बनाए रखा है।

पहले की तरह ही अभी भी रेपो रेट 5.15 फीसदी पर कायम है।

इससे सस्ते लोन (cheap loan) की उम्मीद खत्म हो गई है। हालांकि RBI ने दूसरी बार रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया (RBI unchanged repo rate keep at 5.15%)है।

जबकि इससे पहले आरबीआई ने निरंतर पांच बार रेपो रेट को घटाकर कुल 1.35 फीसदी की कटौती की थी।

RBI की MPC ने कहा है कि जब तक ग्रोथ को रिवाइव करने की जरूरत पड़ेगी तब तक वह अकॉमडेटिव (Accommodative) रहेगा।

साथ ही RBI ने इस बात का भी भरोसा दिलाया कि महंगाई दर दर भी काबू पा लिया जाएगा।

वैसे मूल्यांकन या समीक्षा के समय MPC ने स्वीकार किया कि महंगाई दर दिसंबर 2019 में नियत लक्ष्य से ऊपर निकल गया था और इसका प्रमुख कारण प्याज की दामों में तेजी से बढ़ोतरी है।

एमपीसी (MPC) ने बताया कि आगामी हफ्तों और महीनों में प्याज की कीमत घट सकती हैं चूंकि सप्लाई बढ़ी है।

इस बाबत एक्सपर्ट्स का कहना है कि RBI पहला रेट कट जून 2020 में कर सकता है। हालांकि HDFC बैंक ने भी अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि खाने-पीने की चीजों के दाम बढ़ने से महंगाई बढ़ गई है।

गौरतलब है कि मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी (MPC) ने फिस्कल ईयर 2020-21 के लिए जीडीपी (GDP) ग्रोथ 6 फीसदी रहने का अनुमान जताया है।

फिस्कल ईयर 2021 की प्रथम छमाही में 5.5-6 फीसदी और तीसरी तिमाही में 6.2 फीसदी रहने का अनुमान है।

स्मॉल सेविंग्स स्कीम पर MPC ने कहा  है कि इंटरेस्ट रेट एडजस्ट करने की जरूरत है।

गौरतलब है कि 1 अक्टूबर 2019 से एक्सटर्नल बेंचमार्क सिस्टम लागू हो गया है जिससे हम चेंज की तरफ बढ़ रहे हैं।

रेपो रेट (Repo rate) न घटने के कारण फिलहाल होम लोन की दरों में भी कोई राहत नहीं मिलेगी।

ध्यान दें कि अधिकतर बैंकों ने होम लोन (Home loan) की दर को रेपो रेट (Repo rate) से लिंक कर दिया है जिससे रेपो रेट (repo rate) में कमी का लाभ उन्हें जल्दी मिले।

लेकिन इस बार लोन लेने वाले ग्राहकों को कोई राहत नहीं मिलेगी।

RBI unchanged repo rate keep at 5.15%

Show More

Dharmesh Jain

धर्मेश जैन www.samaydhara.com के को-फाउंडर और बिजनेस हेड है। लेखन के प्रति गहन जुनून के चलते उन्होंने समयधारा की नींव रखने में सहायक भूमिका अदा की है। एक और बिजनेसमैन और दूसरी ओर लेखक व कवि का अदम्य मिश्रण धर्मेश जैन के व्यक्तित्व की पहचान है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − 1 =

Back to top button