breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबीमारियां व इलाजब्लॉग्सविचारों का झरोखाहेल्थ

Mother’s day-जानें भारत में कब है मदर्स डे? क्यों मनाया जाता है..? क्या है महत्व..?

'मां' न केवल आपको एक मजबूत शख्स बनाती है बल्कि प्रेम,समर्पण और त्याग का पाठ भी एक बच्चा केवल अपनी मां से ही सीखता है...

when is mother’s day in India happy mothers day

‘मां’ सिर्फ एक शब्द नहीं बल्कि स्वंय में सृष्टि है। जिस प्रकार सृष्टि सृजन करती है ठीक उसी तरह मनुष्य का सृजन भी एक ‘मां’ ही करती है।

‘मां’ एक होती है लेकिन उसके आशीष अनेक होते है। वो ‘मां’ ही है जो हमारी सर्वप्रथम अध्यापिका होती है। मां और बच्चे का रिश्ता पैदा होने से पहले ही कोष में आते ही जुड़ जाता है।

अपने बच्चे की रक्षा करके जीवन की हर परेशानी में उसकी ढाल बनने का माद्दा सिर्फ और सिर्फ मां में ही होता है। इसलिए कहा जाता है कि पुत कपूत हो सकते है लेकिन माता कभी कुमाता नहीं हो सकती।

‘मां’ न केवल आपको एक मजबूत शख्स बनाती है बल्कि प्रेम,समर्पण और त्याग का पाठ भी एक बच्चा केवल अपनी मां से ही सीखता है।

Mother’s day: जानें भारत में कब है मदर्स डे?, क्यों मनाया जाता है,क्या है महत्व?

Mother’s day: जानें भारत में कब है मदर्स डे?, क्यों मनाया जाता है,क्या है महत्व?

आज की स्वार्थी दुनिया में कई लालची,स्वार्थी और एहसानफरामोश बच्चे अपनी मां को एक बोझ से कम नहीं समझते।

उनके पास हर चीज के लिए समय है लेकिन अपनी मां के लिए नहीं। जीते जी अपनी मां के लिए आधा घंटा भी न निकालने वाले स्वार्थी बच्चे उनकी मृत्यु पर तेरहवीं,बरसीं और शोक का नाटक करके खाना-पूर्ति करते है।

मां एक ऐसी शख्सियत है जिसके दूध का कर्ज उतारना सब के बस की बात नहीं।

इसलिए जरुरी है कि आप अपनी भागती-दौड़ती जिंदगी से कुछ पल मां को समर्पित करें और उन्हें एहसास दिलाएं कि वे आपके लिए कितनी और क्यों खास है।

when-is-mothers-day-in-india-happy-mothers-day-importance-history-2-min

जीवन में हर चीज आपको वापस मिल सकती है लेकिन एक मां-बाप का रिश्ता है जो आपके जन्म से पहले ही ईश्वर आपके लिए तय कर देते है। इसलिए इन्हें ईश्वर की नेमत समझकर न केवल स्वीकार करें बल्कि सम्मान करें।

एक मनुष्य के जीवन में मां कितनी अनमोल है इसका ही एहसास कराने के लिए प्रत्येक वर्ष मई महीने के दूसरे हफ्ते के रविवार को मदर्स डे मनाया जाता (when is mother’s day in India)है।

जी हां, भारत में भी इस वर्ष मदर्स डे 8 मई 2022 को रविवार को मनाया जाएगा। मां की अनमोल ममता को सेलिब्रेट करने के लिए मई महीने के दूसरे हफ्ते के रविवार को मदर्स डे मनाया जाता है और उन्हें हैप्पी मदर्स डे कहा जाता(happy mothers day) है।

रविवार को ही मदर्स डे मनाने के पीछे कारण है कि इस दिन सभी की छुट्टी होताी है और सभी अपनी प्यारी मां को मदर्स डे पर स्पेशल फील करवा सकते है।

हालांकि इंटरनेशनल मदर्स डे(International mothers day) विश्व के विभिन्न देशों में अपनी-अपनी मान्यताओं के मुताबिक अलग-अलग तिथियों पर मनाया जाता है।

Mother’s Day Special Exclusive:ममता की मूरत और संकट में विधाता की सूरत है ये ‘मां’

Mother’s Day Special Exclusive:ममता की मूरत और संकट में विधाता की सूरत है ये ‘मां’

चलिए अब बताते है मदर्स डे आखिर क्यों मनाया जाता है? इसका महत्व क्या है ?

mother’s-day-importance-history

दरअसल, अमेरिका में एना जार्विस नामक एक लड़की थी जो अपनी मां से बेइन्तहा प्यार करती थी। वह अपनी मां की मौत के पहले उसकी खुशियों और इच्छाओं को सेलिब्रेट करना चाहती थी।

एना जार्विस ने अपनी मां की मौत के 3 साल बाद 1808 में एक स्मारक बनाया था।

वेस्ट वर्जीनिया के सेंट एंड्रयूज मेथोडिस्ट चर्च में यह स्मारक बनाया गया था। तब से संयुक्त राज्य अमेरिका में मदर्स डे को छुट्टी के रूप में मान्यता देने के लिए एक अभियान शुरू किया गया।

Mother’s Day Thoughts : इस संसार में… सबसे बड़ी सम्पत्ति ‘बुद्धि’ सबसे अच्छा हथियार ‘धैर्य’ सबसे अच्छी सुरक्षा ‘विश्वास’ है 

गौरतलब है कि मई के दूसरे रविवार को मदर्स डे(mother’s day) के रूप में सेलिब्रेट करने के लिए 1841 में एक बिल पास किया गया था, जिसे पहले राष्ट्रपति वुड्रो विल्सन ने अमेरिका में पारित किया था।

फिर बाद में इस परंपरा को कई और देशों ने निभाया और अपनाया है।

 

Happy Mother’s Day 2021 : दूर होकर भी पास है, माँ …..भेजें ऐसी ही Wishes

मदर्स डे पर आप अपनी को ऐसे कराएं स्पेशल फील

when is mother’s day in India-happy mothers day

यूं तो आज के टाइम में हर व्यक्ति रोटी,कपड़ा और मकान की जद्दोजहद में इतना उलझा है कि इसके कारण उसके पास अपनी के लिए ही समय नहीं बचा है

लेकिन मदर्स डे के दिन आप उनके लिए अपनी बिजी लाइफ से थोड़ा समय जरूर निकालें और मदर्स डे पर उन्हें स्पेशल फील करवाएं।

इसलिए आज हम आपको कुछ ऐसे टिप्स दे रहे है जिनसे आप मदर्स डे(mothers day) पर अपनी मां को स्पेशल फील करा सकते है।

 

कौन कहता है कि 60 के ठाठ है?…यही से तो जिंदगी के नए संघर्षो की शुरुआत है….

अपनी मां के साथ थोड़ा समय बिताएं

मदर्स डे पर आप अपने कामकाज से थोड़ा समय निकालकर अपनी मां के साथ समय बिताएं। उनके लिए वो सब काम करें जो उन्हें पसंद है।

काफी समय से जो बातें वो आपसे करना चाह रही है और आपके पास उन्हें सुनने का समय नहीं है,उन बातों को आज सुनें और उन्हें टाइम दें।

मां के साथ बैठकर उनकी पसंदीदा फिल्म या शो देखें।

अपने बचपन की पुरानी एलबम्स को खोलकर बचपन की बीती यादों को ताजा करें। यह सब करने से मां बहुत अच्छा फील करेगी।

Happy fathers day:पापा का प्यार निराला है, पापा के साथ रिश्ता न्यारा है..भेजें ऐसे ही फादर्स डे संदेश

 

मदर्स डे पर मां के लिए कुछ स्पेशल खाना बनाएं

मां अपने बच्चे के लिए हमेशा खाना बनाती है इसलिए आप मदर्स डे पर अपनी मां के लिए खाना बनाएं।इस मदर्स डे पर आप अपनी मम्मी के लिए कुछ खास बनाएं।

उनके लिए आप भी केक बेक कर सकतें है। उनके लिए ब्रेकफास्ट भी बना सकते है। आपकी खाना बनाने की थोड़ी-सी कोशिश मां को बहुत खुशी दे सकती है।

मां को भेजें केक 

हैप्पी मदर्स डे लिखा स्वीट सा केक भी आप मदर्स डे पर अपनी मां को भेज सकते है। अगर आज के दिन आप अपनी मां से किसी भी कारणवश दूर है।

Happy Daughter’s Day : आज के दौर की सच्चाई-बेटी ही है असली कमाई

फूलों का गुलदस्ता और हाथ से बना कार्ड अपनी मम्मी के लिए भेजें
यूं तो आप मदर्स डे पर ढ़ेरों कार्ड आपको मार्केट में मिल जाएंगे लेकिन अपने हाथों से बनाएं कार्ड पर आपकी मां को आपका एहसास और प्यार ज्यादा फील होगा।

इसलिए मदर्स डे(mothers day) पर आप अपनी मां को अपने हाथों से बना कार्ड भेजें या दें और उसपर उनके लिए कोई कविता,शायरी इंटरनेट से देखकर लिख दें। आपके प्यार भरे शब्द उनके जीवनभर की पूंजी है।

Sunday Thoughts : अगर हम ध्यान न रखें तो, बीमारियां शरीर में घुसकर

Show More

Reena Arya

रीना आर्य www.samaydhara.com की फाउंडर और एडिटर-इन-चीफ है। रीना आर्य ने पत्रकारिता के महज 6-7 साल के भीतर ही अपने काम के दम पर न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपनी पहचान बनाई बल्कि तमाम चुनौतियों और पारिवारिक जिम्मेदारियों को निभाते हुए समयधारा.कॉम की नींंव रखी। हर मुद्दे पर अपनी ज्वलंत और बेबाक राय रखने वाली रीना आर्य एक पत्रकार, कंटेंट राइटर,एंकर और एडिटर की भूमिका निभा चुकी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button