breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबजट 2024बिजनेस

जानियें बजट आने से पहले इस आम बजट से जुडी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां

आज मोदी सरकार पेश करेगी अपने दूसरें कार्यकाल का अंतिम बजट(Budget)

Important Information Related Budget-2024 

नयी दिल्ली / मुंबई (समयधारा) : आज मोदी सरकार पेश करेगी अपने दूसरें कार्यकाल का अंतिम बजट(Budget) l

अंतरिम बजट से पहले स्टॉक मार्केट्स में कारोबार की शुरुआत मजबूती के साथ हुई थी।

लेकिन, अब बाजार के दोनों प्रमुख सूचकांक लाल निशान में आ गए हैं। पिछले साल भी बजट के दिन इंडियन स्टॉक मार्केट्स मजबूत खुले थे।

लेकिन, बाद में उनकी तेजी खत्म हो गई थी। खासकर वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण का बजट भाषण खत्म होने के बाद मार्केट पर दबाव देखने को मिला था।

जानियें Budget के दिन कैसा रहा share बाजार का हाल

पिछले साल अमेरिकी रिसर्च फर्म हिंडनबर्ग की अदाणी ग्रुप की कंपनियों पर रिपोर्ट आई थी। इसका निगेटिव असर बाजार पर देखने को मिला था।

जानियें बजट आने से पहले इस आम बजट से जुडी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां  l 

लोकसभा चुनाव से पहले आने वाले इस बजट में किसानों, युवाओं और महिलाओं पर सरकार का फोकस होने की उम्मीद है।

वित्तमंत्री पीएम किसान सम्मान निधि का पैसा बढ़ाने का ऐलान अंतरिम बजट में कर सकती हैं। अभी इस स्कीम में किसान को सालाना 6,000 रुपये मिलते हैं।

इसे बढ़ाकर 8,000 या 9,000 रुपये किया जा सकता है। इस स्कीम का ऐलान 2019 में हुआ था।

Important Information Related Budget-2024 

Union Budget 2024 Live Updates: सरकार का फोकस गरीब पर या खर्च बचाने पर\n\nनिर्मला सीतारमण को इकोनॉमिक ग्रोथ के उपायों के साथ सरकार के खर्च को नियंत्रण में रखने की कोशिश करनी होगी।

इस वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 7.6 फीसदी रही है। यह अनुमान से ज्यादा है। माना जा रहा है कि सरकार के पूंजीगत खर्च बढ़ाने के अच्छे नतीजे मिले हैं।

1 February rules change:आज से बदल गए NPS,फास्टैग,IMPS सहित कई सेवाओं के नियम,आप पर पडेगा असर

इससे इकोनॉमिक ग्रोथ बढ़ाने में मदद मिली है। इस वित्त वर्ष के लिए सरकार ने पूंजीगत खर्च के लिए 10 लाख करोड़ रुपये का टारगेट तय किया था।

उम्मीद है कि आज अंतरिम बजट में वित्त मंत्री अगले वित्त वर्ष के लिए पूंजीगत खर्च का टारगेट बढ़ा सकती हैं।

पेरिस की हेज फंड हेडोनोवा के CEO सुमन बनर्जी ने कहा, “जैसा कि हम अंतरिम बजट 2024 का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं, हमारी उम्मीदें प्रमुख सेक्टर्स को लेकर हैं।

रेलवे में, हम निवेश में इजाफा, बदलाव वाले प्रोजेक्ट का अनावरण और 300-400 वंदे भारत ट्रेनों की शुरुआत की आशा करते हैं।

नए राजमार्गों के प्रति प्रतिबद्धता बढ़ी हुई कनेक्टिविटी और आर्थिक जीवन शक्ति का वादा करती है।

मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर इनोवेशन और वैश्विक प्रतिस्पर्धात्मकता को बढ़ावा देने वाली एक दूरदर्शी PLI योजना की आशा करता है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का बजट एक कैटेलिस्ट बनने की ओर अग्रसर है, जो भारत को आधुनिक इंफ्रा, कुशल रेलवे, मजबूत हाइवे और एक संपन्न मैन्युफेक्चरिंग इकोसिस्टम के भविष्य की ओर प्रेरित करेगा।

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की तरफ से 1 फरवरी को पेश किए जाने वाले आगामी अंतरिम बजट में घरों के लिए हाल ही में शुरू की गई छत पर सोलर पैनल लगाने वाली योजना,

जिसे प्रधान मंत्री सूर्योदय योजना के रूप में जाना जाता है, उसके लिए बजट आवंटन शामिल होने की उम्मीद है।

Important Information Related Budget-2024 

उम्मीद है कि बजट में योजना के हिस्से के रूप में बढ़ी हुई सब्सिडी का खुलासा किया जाएगा।

कार्यक्रम से जुड़े दो अधिकारियों ने नाम न छापने की शर्त पर Moneycontrol को बताया कि योजना के लिए अंतरिम बजट में आवंटन कम से कम 20,000 करोड़ रुपए होने की संभावना है।

Interim Budget 2024 Expectations Live-विकसित भारत की इमारत चार स्तंभो पर खड़ी-राष्ट्रपति मुर्मू

22 जनवरी को, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा की कि राम मंदिर में अभिषेक समारोह के बाद अयोध्या से लौटने के बाद उनका पहला निर्णय एक करोड़ घरों में प्रधान मंत्री सूर्योदय योजना शुरू करना था।

फिनवेसिया के कोफाउंडर और MD सर्वजीत विर्क ने कहा, “जैसे-जैसे हम बजट 2024 के करीब पहुंच रहे हैं,

हम भारत के डिजिटल पब्लिक इंफ्रास्ट्रक्चर को आगे बढ़ाने पर लगातार ध्यान केंद्रित करने की उम्मीद करते हैं,

जो 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था के सपने को साकार करने के लिए एक प्रमुख स्तंभ है।

मैं वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने वाली सरकारी पहलों की आशा करता हूं, जिससे न केवल भारत को लाभ होगा।

तकनीकी मोर्चे पर, मुझे AI सेंटर ऑफ एक्सीलेंस स्थापित करने में और प्रगति देखने की उम्मीद है।

मैं जनरेटिव और पूर्वानुमानित AI के अंतिम उपयोग के मामलों को बढ़ावा देने और भारत में इसके अपनाने को बढ़ाने के लिए PPP यानि पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप को सक्षम करने के लिए और ज्यादा नीतियों की भी उम्मीद करता हूं।

फिनटेक इंडस्ट्री, हमेशा की तरह, इनोवेशन का ध्वजवाहक होगा। नीतियों और फंडिंग दोनों के संदर्भ में सरकारी समर्थन,

फिनटेक सेक्टर को सफलता की नई ऊंचाइयों पर ले जाने में सहायक होगा।

न्यूज एजेंसी PTI ने सूत्रों के हवाले से बताया कि चालू वित्त वर्ष में आय और कॉरपोरेट टैक्स कलेक्शन में उछाल दिख रहा है।

Important Information Related Budget-2024 

इससे कुल डायरेक्ट टैक्स क्लेक्शन बजट अनुमान से लगभग एक लाख करोड़ रुपए ज्यादा रह सकता है।

सरकार ने वित्त वर्ष 2023-24 के लिए डायरेक्ट टैक्स से 18.23 लाख करोड़ रुपए जुटाने का बजट लक्ष्य रखा था।

इस मद में 10 जनवरी, 2024 तक टैक्स क्लेक्शन 14.70 लाख करोड़ रुपए हो चुका था, जो बजट अनुमान का 81 प्रतिशत है।

अभी वित्त वर्ष पूरा होने में दो महीने महीने से ज्यादा का समय बाकी है।

अंतरिम केंद्रीय बजट 2024 पर, PATTON ग्रुप के मैनेजिंग डायरेक्टर, संजय बुधिया का कहना है,

भले ही यह एक अंतरिम बजट है, सरकार प्राथमिकता वाले क्षेत्रों- रक्षा, कृषि, शिक्षा पर जोर देगी l

हम कहते हैं कि भारत दुनिया के लिए कारखाना बन सकता है… किसी भी प्रोडक्ट,

प्रोसेस या कंपनी के लिए रिसर्च एंड डवलपमेंट बेहद अहम है। हमारा औसत R&D खर्च एक प्रतिशत भी नहीं है, लेकिन बाकी देशों में यह लगभग 5 प्रतिशत है।

पूर्व वित्त सचिव सुभाष चंद्र गर्ग का मानना था कि लोकसभा चुनाव से पहले पेश होने वाला अंतरिम बजट,

सत्ता में मौजूद पार्टी के लिए मुफ्त और लोकलुभावन योजनाओं के जरिए मतदाताओं को आकर्षित करने का एक मौका होता है।

उन्होंने कहा, \2019 में आम चुनाव से पहले पेश अंतरिम बजट में भी हम ऐसा होते हुए देख चुके हैं।

गर्ग ने न्यूज एजेंसी PTI से बातचीत में कहा, सरकार ने 2019 में आम चुनाव से पहले पेश अंतरिम बजट में मध्यम वर्ग, किसानों और असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों-को लक्षित किया था।

कुल मिलाकर ये लगभग 75 करोड़ मतदाता हैं। ऐसी संभावना है कि सरकार इस बार भी इन मतदाताओं का खास ध्यान रखेगी।

(इनपुट मनी कंट्रोल पीटीआई से भी )

Important Information Related Budget-2024 

Show More

Dharmesh Jain

धर्मेश जैन www.samaydhara.com के को-फाउंडर और बिजनेस हेड है। लेखन के प्रति गहन जुनून के चलते उन्होंने समयधारा की नींव रखने में सहायक भूमिका अदा की है। एक और बिजनेसमैन और दूसरी ओर लेखक व कवि का अदम्य मिश्रण धर्मेश जैन के व्यक्तित्व की पहचान है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button