breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंफैशनलाइफस्टाइल

गणेश चतुर्थी : जानियें गणपति की स्थापना को क्यों माना जाता है खुशहाली का प्रतिक

जानें, गणेश उत्सव में गणपति की स्थापना क्यों की जाती है?

know why Ganapati is established in Ganesh festival

मुंबई (समयधारा) : देशभर में हर साल धूमधाम से गणेश चतुर्थी और गणेश उत्सव मनाया जाता है।

हर साल लोग अपने घर में गणपति की स्थापना करते हैं।

महाराष्ट्र में इस त्यौहार को सबसे ज्यादा धूमधाम में मनाया जाता है, ठीक ऐसे जैसी दीपावली मनाई जाती है।

लेकिन क्या आपने कभी ये सोचा है कि गणेश उत्सव 10 दिनों का क्यों होता है?

या फिर गणेश उत्सव के दौरान गणपति की स्थापना क्यों की जाती है?  जी हां, इसके पीछे भी पुराणों में कई कथाएं शामिल हैं।

चलिए जानते हैं गणेश उत्सव की स्थापना और गणेश चतुर्थी के बारे में कुछ अहम बातें।

गणेशोत्सव 2021 पर फिर कोरोना की मार,2/4 फुट से ज्यादा ऊंची मूर्ति नहीं

ये है पौराणिक कथा-

ये तो बहुत से लोग जानते हैं कि भगवान गणेश को ज्ञान का देवता भी कहा जाता है।

कहते हैं जितना तेज वो लिख सकते थे उतना कोई और नहीं लिख सकता है।

गणेश जी के इसी गुण के कारण महर्षि वेद व्यास जी ने उनसे महाभारत लिखवाई थी।

पौराणिक ग्रंथों के मुताबिक, बेशक महर्षि वेद व्यास जी ने महाभारत की रचना की है

लेकिन महाभारत का लेखन कार्य गणेश जी ने किया है।

Ganesh Chaturthi 2020: गणपति आला रे…हाथ में सैनिटाइज़र डाला रे…

know why Ganapati is established in Ganesh festival

ऐसा कहा जाता है कि जब महर्षि वेद व्यास जी ने भगवान गणेश जी से महाभारत लिखने के कार्य के लिए पूछा था,

तो भगवान गणेश ने हामी भर दी थी। महाभारत के लेखन का कार्य शुरू होने के बाद 10 दिनों तक लगातार चला।

महर्षि वेद व्यास महाभारत की कथा बोलते गए और भगवान गणेश उसे ग्रंथ स्वरूप लिखते गए।

इसीलिए मनाई जाती है गणेश चतुर्थी :

बिना रूके 10 दिन तक लेखन कार्य के बाद गणेश जी को बहुत ज्यादा थकान हो गई थी।

गणेश जी की ऐसी स्थिति को देखकर महर्षि वेद व्यास जी ने गणेश जी के पूरे शरीर पर मिट्टी से लेप लगाकार उनकी खूब पूर्जा अर्चना की,

Ganesha Visarjan 2020:कल है गणेश विसर्जन, इस शुभ मुहूर्त में बप्पा को करें विदा

ऐसा इसीलिए किया ताकि भगवान गणेश के शरीर का तापमान सामान्य रहे। know why Ganapati is established in Ganesh festival

इसी दिन को अब गणेश चतुर्थी के रूप में मनाया जाता है। पुराणों के अनुसार, ये भी माना जाता है कि

चतुर्थी के दिन ही महाभारत के लेखन का कार्य संपन्न हुआ था और उसी के बाद भगवान के शरीर पर लेप लगाकर उनकी पूजा की गई थी।

इसीलिए की जाती है गणपति की स्थापना :

जब महर्षि वेद व्यास जी ने गणेश जी के शरीर पर लेप लगाया था तो,

इससे गणेश जी का शरीर बहुत ज्यादा अकड़ गया जिससे गणेश जी को नया नाम पार्थिव गणेश भी मिला।

Ganesha Chaturthi Guidelines : जाने कोरोना गणेशोत्सव गाइडलाइंस व विसर्जन की सभी जानकारी

हालांकि अकड़न के साथ ही गणेश जी के शरीर का तापमान बहुत बढ़ता जा रहा था।

ऐसे में महर्षि व्यास जी ने 10 दिन तक गणेश जी की खूब आवभगत की और उन्हें उनके पसंदीदा व्यंजन भी खिलाएं।

know why Ganapati is established in Ganesh festival

10 वें दिन गणपति जी को शीतल सरोवर में नहलाया जिससे वे प्रसन्न हो गए और ठीक हो गए।

ऐसे में गणेश जी की महर्षि व्यास द्वारा की गई 10 दिनों की आवभगत को भक्त‍जन गणपति उत्सव की तरह मनाते हैं।

इतना ही नहीं, पूरे विधि विधान के साथ भक्त जन गणेश जी की स्थापना करते हैं, उनके पसंदीदा व्यंजन बनाते हैं

और उनकी आवभगत करते हैं जिससे गणपति जी उनसे भी प्रसन्न हो और उनकी मुरादें पूरी करें।

महाराष्ट्र कोरोना व गणेश उत्सव, जाने कैसा होगा इस बार बाप्पा का स्वागत

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten + 5 =

Back to top button