breaking_newsअन्य ताजा खबरेंचटपट चुटकले और शायरीदिल की बात
Trending

धोखेबाज शायरी : रिश्तों की दलदल से कैसे निकलेंगे…जब हर साजिश के पीछे अपने ही निकलेंगे.

दूरियाँ तो पहले ही आ चुकी थी ज़माने में कोरोना ने आकर इल्ज़ाम अपने सर ले लिया-Shayari

dhokebaz shayri dhokh shayaris risto ki shayari corona shayris sayaris izzat shayaris

रिश्तों की दलदल से कैसे

निकलेंगे…

जब हर साजिश के पीछे अपने ही

निकलेंगे…

====================

दूरियाँ
तो पहले ही आ चुकी थी ज़माने में 

कोरोना ने आकर
इल्ज़ाम अपने सर ले लिया 

====================

मँज़िले बड़ी ज़िद्दी होती हैँ ,

हासिल कहाँ नसीब से होती हैं !

मगर वहाँ तूफान भी हार जाते हैं ,

जहाँ कश्तियाँ ज़िद पर होती हैँ !

===================

यह शायरियां भी पढ़े :

कोरोना शायरी : ये कैसा समय आया कि,  दूरिया ही दवा बन गई… 

दिलवालें शायर की शायरी : मेरे दिल को अगर तेरा एहसास नहीं होता…

इश्क़ शायरी : दिवाना हर शख़्स को बना देता है इश्क़, सैर जन्नत की करा देता है इश्क़

Happy Mother’s Day 2021 : दूर होकर भी पास है, माँ …..भेजें ऐसी ही Wishes

Hindi Shayari : न मैं गिरा और न मेरी उम्मीदों के मीनार गिरे..!

दारुबाजों की शायरी : रोक दो मेरे जनाजे को, अब मुझमे जान आ रही हैं…

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten + fourteen =

Back to top button