breaking_newsअन्य ताजा खबरेंटेक न्यूजटेक्नोलॉजीदेशदेश की अन्य ताजा खबरें

Breaking News:चांद की सतह के लिए सफलतापूर्वक रवाना हुआ चंद्रयान-3,LVM 3 से चंद्रयान 3 की लॉन्चिंग,Video

चंद्रयान 3 की लॉन्चिंग एलवीएम3 से हुई।चंद्रयान 3 ने अपना पहला पड़ाव सफलतापूर्वक पार कर लिया है। अंतरिक्ष की कक्षा में सफलतापूर्वक अलग होकर चंद्रयान 3 चांद के रास्ते चल दिया है।

Chandrayaan-3-launch-now-from-Sriharikota-Isro’s-moon-mission-latest-update-भारत का तीसरा चांद मिशन चंद्रयान 3 आज, शुक्रवार 14 जुलाई को 2:35 मिनट पर श्रीहरिकोटा से चांद के लिए रवाना हो(Chandrayaan-3-launch-now-from-Sriharikota)गया।

चंद्रयान 3 सफलतापूर्वक प्रक्षेपित हो गया है।चंद्रयान 3 की लॉन्चिंग एलवीएम3 से हुई।

चंद्रयान 3 ने अपना पहला पड़ाव सफलतापूर्वक पार कर लिया है।यह अपनी कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित हो गया(Chandrayaan-3-launch-now-from-Sriharikota-Isro’s-moon-mission-latest-update)है। 

रॉकेट से अलग होकर अब चंद्रयान 3 चांद के रास्ते चल दिया है।

चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग के लिए इसरो के चंद्रयान 3 ने अब अपनी उड़ान चांद के रास्ते भर ली(Chandrayaan-3-launch-now-from-Sriharikota-Isro’s-moon-mission-latest-update)है।

चंद्रयान 2 का अनुसरण करते हुए चंद्रयान 3 आज वैज्ञानिकों ने लॉन्च कर दिया। 1000 वैज्ञानिकों की दिन रात अथक मेहनत का परिणाम है आज चंद्रयान 3 का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण।

लॉन्चिंग के बाद 23 या 24 अगस्त को चंद्रमा की सतह पर इसके सॉफ्ट-लैंडिंग की उम्मीद है. ISRO ने चंद्रयान-3 में काफी बदलाव भी किये हैं।

एक इंटरव्यू में ISRO चीफ एस सोमनाथ ने बताया कि पिछली बार की 3 बड़ी गलतियों को इस बार सुधारा गया है. ISRO चीफ ने बताया कि चंद्रयान-2 की बजाए चंद्रयान-3 में विक्रम के लेग्स को काफी मजबूत बनाया गया है।

वह पहले की तुलना में अधिक वेग से उतरने में सक्षम है. ISRO के साथ-साथ देशवासियों को भी उम्मीद है कि इस बार हर हाल में सफलता मिलेगी।

ISRO चंद्रयान-3 मिशन की मदद से चांद से जुड़ी कई अहम जानकारियां इकट्ठा करने की कोशिश में जुटा है। चंद्रयान-3 40 दिनों में 3.80 लाख किमी का सफर तय कर चांद पर पहुंचेगा।

वैज्ञानिकों का लक्ष्य चंद्रमा की कक्षा तक पहुंचना, लैंडर का उपयोग करके चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट-लैंडिंग करना और चंद्रमा की सतह का अध्ययन करने के लिए लैंडर से बाहर निकलने सहित विभिन्न क्षमताओं का प्रदर्शन करना(Chandrayaan-3-launch-now-from-Sriharikota-Isro’s-moon-mission-latest-update) है।

आज का दिन भारत(India)के लिए बहुत अहम है।पूरे विश्व की नजर आज भारतीय स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन अर्थात ISRO के चांद मिशन चंद्रयान-3(Chandrayaan-3)की सफल लॉन्चिंग पर टिकी(Chandrayaan-3-launch-now-from-Sriharikota-Isro’s-moon-mission-latest-update)है।

जी हां, आज भारत अपना चंद्रयान-3 अंतरिक्ष में चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग के लिए भेजने जा रहा है।

चंद्रयान-3 की सफल सॉफ्ट लैंडिंग अगर हो जाती है तो यह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) सहित भारत के लिए ऐतिहासिक उपलब्धि होगी। 

पीएम मोदी सहित विभिन्न विपक्षी नेताओं ने भी इसरो को चंद्रयान-3 मिशन के लिए शुभकामनाएं दी है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी भारतीय वैज्ञानिकों को शुभकामनाएं देते हुए लिखा है कि “पूरा होगा ख्वाब, हम होंगे कामयाब। वैज्ञानिकों की 3 वर्ष की तपस्या, साधना और मेहनत के बाद स्पेसशिप #Chandrayaan3 चांद को जीतने के लिए तैयार है। पूरा देश इस बहुप्रतीक्षित ऐतिहासिक प्रक्षेपण के सफल होने की कामना करता है।

के प्रबुद्ध वैज्ञानिकों व मिशन की सम्पूर्ण टीम को शुभकामनाएं।

चंद्रयान-3 की लॉन्चिंग आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में सतीश धवन अंतरिक्ष स्टेशन से आज  शुक्रवार,दोपहर 2:35 बजे की(Chandrayaan-3-launch-now-from-Sriharikota-Isro’s-moon-mission-latest-update) जाएंगी।

पूरा देश सहित विश्व भारत के तीसरे चांद मिशन चंद्रयान-3 की उड़ान की लाइव स्ट्रीमिंग देखने को बेकरार(ISRO Chandrayaan-3 Launch Live Streaming) है।

चांद की सतह पर अपने प्रक्षेपण की सॉफ्ट लैंडिंग कराने वाले देशों में अमेरिका, चीन और इजराइल के नाम शामिल है और अगर आज इसरो का चांद मिशन चंद्रयान-3 सफलता पूर्वक चांद पर अपनी सॉफ्ट लैंडिग करा लेता(Chandrayaan-3-launch-now-from-Sriharikota-Isro’s-moon-mission-latest-update)है तो भारत भी इन देशों की तरह चांद पर अपनी उपस्थिति का इतिहास रचने वाला चौथा देश बन जाएगा। 

आपको बता दें कि इससे पहले वर्ष 2019 की जुलाई में भी इसरो ने अपने अंतिम चांद मिशन चंद्रयान-2(Chandrayaan-2)को चांद के लिए भेजा था, लेकिन इसकी विफलता से भारत को बड़ी निराशा हाथ लगी है,हालांकि इसका ऑर्बिटर सफलतापूर्वक पहुंच गया था।

तब पीएम मोदी भी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग में शामिल हुए थे।

लेकिन अब चार साल बाद इसरो ने फिर से श्रीहरिकोटा में अपने तीसरे चंद्रमा मिशन प्रक्षेपण चंद्रयान-3 की लॉन्चिंग आज 14 जुलाई रखी है जोकि दोपहर में ढाई बजे के करीब होने जा रही(Chandrayaan-3-launch-now-from-Sriharikota-Isro’s-moon-mission-latest-update)है।

ऐसा पहली बार होगा जब  भारत का चंद्रयान चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा, जहां पानी के अणु पाए गए हैं।

साल 2008 में भारत के पहले चंद्रमा मिशन के दौरान की गई इस खोज ने दुनिया को चौंका दिया था।

अगर चंद्रयान-3 प्रक्षेपण की सफल लॉन्चिंग हो जाती है तो यह हमारे भारतीय वैज्ञानिकों के अथक मेहनत का ही परिणाम(Chandrayaan-3-launch-now-from-Sriharikota-Isro’s-moon-mission-latest-update) होगा।

 

 

 

 

 

 

 

Chandrayaan-3 की लाइव स्ट्रीमिंग कब, कहां और कैसे देखें –Chandrayaan3 Live Streaming update

आप चाहे तो चांद पर भारत के इस ऐतिहासिक मिशन चंद्रयान-3(Chandrayaan-3) की लॉन्चिंग को इसरो के यूट्यूब(Youtube) चैनल या फिर दूरदर्शन(DoorDarshan)पर लाइव देख सकते(Chandrayaan-3-launch-now-from-Sriharikota-Isro’s-moon-mission-latest-update) है।

इसरो ने इस ऐतिहासिक चांद मिशन(Isro’s Moon Mission)चंद्रयान-3 की उड़ान को देखने के लिए जनता को सतीश धवन स्पेस सेंट में इंवाइट भी किया है। सतीश धवन स्पेस सेंटर की गैलरी से इसकी लाइव स्ट्रीमिंग जो भी करना चाहते है,वह लोग ivg.shar.gov.in/ पर जाकर स्वंय को रजिस्टर कर सकते हैं।

 

 

 

 

चंद्रयान-3 की लॉन्चिंग आज दोपहर 2:36pm बजे आप नीचे दिये गए लिंंक पर LIVE देख सकते हैं:

(Chandrayaan-3-launch-now-from-Sriharikota-Isro’s-moon-mission-latest-update)

ISRO की ऑफिशियल वेबसाइट : http://isro.gov.in

ISRO के Facebook पेज पर : https://facebook.com/ISRO

DD National टीवी पर

Chandrayaan-3-launch-now-from-Sriharikota-Isro’s-moon-mission-latest-update

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button