breaking_newsअन्य ताजा खबरेंराजनीतिक खबरेंविश्व
Trending

Pakistan का प्रधानमंत्री पद खो सकते है इमरान खान,सेना प्रमुख से मिले,विपक्ष ला रहा अविश्वास प्रस्ताव

संसद में अविश्वास प्रस्ताव से पहले ही खुद इमरान की पार्टी के कई सांसदों ने उनका साथ छोड़ दिया है।

Pakistan-PM-Imran-Khan-facing-no-confidence-motion-amid-meets-Pakistan-Army-Chief

इस्लामाबाद:पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान(Pakistan-PM-Imran-Khan)की कुर्सी जा सकती है।इमरान खान की सरकार के खिलाफ विपक्ष 21 मार्च को अविश्वास प्रस्ताव लाने वाला(Imran-Khan-facing-no-confidence-motion) है,जिसपर वोट 28 मार्च को पड़ेंगे।

अविश्वास प्रस्ताव को खुद इमरान खान की सरकार के सांसदों का भी समर्थन है।

संसद में अविश्वास प्रस्ताव से पहले ही खुद इमरान की पार्टी के कई सांसदों ने उनका साथ छोड़ दिया है।

इन सबके दौरान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan)शुक्रवार को अविश्वास प्रस्ताव से पहले सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा (Qamar Javed Bajwa) से मुलाकात(Imran-Khan–meets-Pakistan-Army-Chief) की।

बैठक को देश के हालिया राजनीतिक हालात के संदर्भ से जोड़कर देखा जा रहा है।

विपक्ष ने इमरान खान(Imran Khan)पर देश, अर्थव्यवस्था और विदेश नीति के प्रबंधन में असफल होने का आरोप लगाया है।

ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हमले से देश में रोष, SGPC प्रतिनिधिमंडल जायेगा पाकिस्तान

एक ही दिन पहले खान के एक साथी दल के सदस्य ने भी कहा था कि सत्तारूढ़ गठबंधन में खान के साथी दलों का उनसे अलग हो जाने का खतरा बढ़ता जा रहा है।

उन्होंने कहा था कि उनके साझेदार विपक्ष की तरफ झुक रहे हैं। पाकिस्तान में आज तक किसी भी प्रधानमंत्री का कार्यकाल पूरा नहीं हो पाया।

स्थानीय मीडिया के मुताबिक,कमर बाजवा के साथ बैठक का एजेंडा पाकिस्तान में इस्लामिक देशों के संगठन (Organisation of Islamic Countries) के शिखर सम्मेलन,

बलूचिस्तान में चल रही अशांति और इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर हो सकता(Pakistan-PM-Imran-Khan-facing-no-confidence-motion-amid-meets-Pakistan-Army-Chief) है।

पाकिस्‍तान के एक मीडिया चैनल कैपिटल टीवी ने कहा, “पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के अधिकांश नेता इस बैठक के नतीजे का इंतजार कर रहे हैं, इस बैठक का नतीजा देश में चल रहे राजनीतिक घटनाक्रम के बीच महत्वपूर्ण होगा।” 

इस बैठक को इमरान खान की पाकिस्‍तानी सेना की गुड बुक में वापसी की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है, जिससे इमरान खान की सरकार बच सके। 

भारत का बड़ा फैसला- पाकिस्तानी उच्चायोग 7 दिन में अपना 50% स्टाफ कम करें

इमरान खान और सेना के बीच दरार उस वक्‍त दिखाई दी थी जब इमरान खान ने 11 मार्च को अपने भाषण में सेना प्रमुख बाजवा की विपक्षी नेताओं के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी का इस्तेमाल नहीं करने की सलाह को खारिज कर दिया था। 

खान ने जेयूआई-एफ नेता मौलाना फजलुर रहमान का जिक्र करते हुए कथित तौर पर कहा, “मैं सिर्फ जनरल बाजवा (पाकिस्तानी सेना प्रमुख) से बात कर रहा था और उन्होंने मुझसे फजल को ‘डीजल’ नहीं कहने के लिए कहा था, लेकिन मैं ऐसा नहीं कह रहा हूं। लोगों ने उनका नाम डीजल रखा है।” 

इस बीच, इमरान खान की सत्ताधारी पीटीआई के 25 सांसदों ने इस्लामाबाद के सिंध हाउस में शरण ली और माना जाता है कि वे खान के खिलाफ बगावत कर रहे थे। 

Pakistan के पेशावर में मस्जिद पर आत्मघाती विस्फोट,30 की मौत,दर्जनों लोग घायल

पाकिस्तानी मीडिया ने शुक्रवार को बताया कि पीटीआई कार्यकर्ताओं ने सिंध हाउस का गेट तोड़ दिया और इमारत में घुस गए।

पुलिस ने पीटीआई के फहीम खान और अताउल्लाह नियाजी को गिरफ्तार किया था, जो सिंध हाउस में समूह का नेतृत्व कर रहे थे। भीड़ में शामिल कुछ कार्यकर्ताओं को भी गिरफ्तार किया गया है। 

 

 

 

 

 

Pakistan-PM-Imran-Khan-facing-no-confidence-motion-amid-meets-Pakistan-Army-Chief

(इनपुट एजेंसी से भी)

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button