breaking_newsअन्य ताजा खबरेंअपराधदेशदेश की अन्य ताजा खबरें
Trending

गार्गी कॉलेज की छात्राओं के साथ बदसलूकी, प्रिंसिपल ने मांगी माफी, पुलिस ने अपराधियों की तलाश की शुरू

कॉलेज प्रशासन से शिकायत मिलने पर पुलिस CCTV फुटेज को चेक करके आरोपियों की तलाश करने में जुट गई है...

नई दिल्ली Gargi college students mass molestaion: दिल्ली के गार्गी कॉलेज (Gargi college) में 6 फरवरी को छात्राओं के साथ कॉलेज परिसर में कुछ बाहरी, अनजान शरारती तत्वों के द्वारा उत्पीड़न किए जाने का मामला प्रकाश में आया (Gargi college students mass molestaion)  है।

मामले की गूंज सोशल मीडिया से लेकर संसद में भी सुनाई दी तो आखिरकार कॉलेज प्रशासन की ओर से प्रिंसिपल ने अपनी गलती मानते हुए पुलिस में लड़कियों के साथ छेड़खानी की शिकायत दर्ज करवा ही (Gargi college students mass molestaion, file Police complaint) दी।

हालांकि उत्पीड़न की शिकार छात्राओं का आरोप था कि कॉलेज में जब उनके साथ छेड़खानी की वारदात हुई और उन्होंने प्रिंसिपल से शिकायत की तो उन्होंने उसकी सुनवाई नहीं की।

कॉलेज प्रशासन से शिकायत मिलने पर पुलिस CCTV फुटेज को चेक करके आरोपियों की तलाश करने में जुट गई है। इसके अतिरिक्त छेड़खानी का शिकार हुई लड़कियों (Gargi college students mass molestaion) से भी बयान लिए जा रहे है।

गार्गी कॉलेज में छात्राओं के साथ उत्पीड़न (Gargi college students mass molestaion) की खबर पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Delhi CM Arvind Kejriwal) और दिल्ली महिला आयोग (DCW) की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल ने कहा है कि छात्राओं के साथ बदसलूकी को किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

नेशनल कमीशन फॉर वूमेन (NCW) की टीम भी गार्गी कॉलेज मामले की पड़ताल के लिए पहुंची है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लड़कियों के साथ छेड़खानी की घटना (Gargi college students mass molestaion) पर दुख जताते हुए ट्वीट किया है कि गार्गी कॉलेज में बेटियों के साथ जो बदसलूकी हुई है वो बेहद दुखद और निराशाजनक है।

ऐसी हरकत को कतई बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है।

केजरीवाल (Kejriwal) ने लिखा कि दोषियों को पकड़ कर सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए और ये सुनिश्चित किया जाए कि कॉलेजों में पढ़ने वाले बच्चे सुरक्षित हों।

दूसरी ओर, दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वातिमाल ने दिल्ली पुलिस (Delhi Police) को नोटिस सर्व करने की बात भी कही है।

क्या है मामला? (Gargi college students mass molestaion)

दरअसल, गार्गी कॉलेज में 6 फरवरी को फेस्टिवल ‘रेवरी’ चल रहा था। तभी अचानक कुछ बाहरी लोग कॉलेज के अंदर आ गए।

उन्होंने छात्राओं के साथ छेड़खानी की। छात्राओं ने विरोध किया तो बाद में कॉलेज प्रशासन हरकत में आया। एक प्रत्यक्षदर्शी छात्रा के अनुसार, कॉलेज में जब फेस्ट चल रहा था तो कुछ 35-40 वर्ष के उम्र के आदमियों ने कॉलेज का दरवाजा तोड़ दिया।

कुछ लड़कियों ने बताया कि कुछ लड़के शर्टलैस थे और उन्होंने मास्टरबेशन भी खुलेआम करने की कोशिश की। लड़कियों के निजी अंगों को भी छुआ गया।

साथ ही कुछ अन्य छात्राओं ने यह भी कहा कि उनमें से कुछ जयश्रीराम के नारे भी लगाए और इसे किसी भी प्रकार का राजनीतिक मुद्दा न बनाये।

और कॉलेज में प्रवेश करके कुछ छात्राओं के साथ बदसलूकी की। छात्राओं ने प्रिंसिपल से शिकायत की लेकिन उस समय कॉलेज प्रशासन ने कोई एक्शन नहीं लिया। प्रिंसिपल ने कहा कि अगर इतनी परेशानी होती है तो फेस्ट में मत आया करो।

इतना ही नहीं, अपने आरोप में कुछ छात्राओं ने यह भी कहा कि कॉलेज के बाहर मेट्रो स्टेशन (Metro Station) तक भी कुछ लड़कों ने उनका पीछा किया और बदतमीजी की।

मामला मीडिया और संसद में आते ही अब कॉलेज की प्रिंसिपल डॉक्टर प्रोमिला कुमार ने माफी मांगते हुए पूरी वारदात की जांच के लिए एक हाई लेवल फैक्ट फाइंडिंग कमिटी गठित कर दी (Principal set up high level fact finding committee) है।

यह कमिटी शिकायत करने वाली छात्राओं, चश्मदीदों और अन्य लोगों से मिलकर पूरे मामले की समयबद्ध जांच करेगी। कॉलेज प्रशासन ने दिल्ली पुलिस में रिपोर्ट भी दर्ज करवा दी है।

प्रिंसिपल ने कहा है कि सिक्यॉरिटी प्रोटोकॉल बनाया जाएगा ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि भविष्य में ऐसी घटनाएं न हो सकें।

गार्गी कॉलेज प्रशासन की ओर से लिखित शिकायत मिलने पर हौज खास पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 452, 354, 509, और 34 के अंतर्गत केस दर्ज किया गया है। इस केस के लिए इनक्वॉयरी ऑफिसर की जिम्मेदारी अडिशनल डीसीपी (साउथ) को सौंपी गई है।

 

 

 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × 3 =

Back to top button