breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीतिराज्यों की खबरें
Trending

Breaking: मध्यप्रदेश में गिरी सरकार, कमलनाथ ने फ्लोर टेस्ट से पहले दिया इस्तीफा

दिग्विजय सिंह ने कहा- हमारे पास बहुमत का आंकड़ा नहीं, कमलनाथ ने कहा बीजेपी ने लोकतांत्रिक मूल्यों की ह्त्या की

नई दिल्ली: MP:Kamal Nath resigns before floor test-मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में आखिरकार कमलनाथ सरकार गिर ही गई।

शुक्रवार को मध्यप्रदेश विधानसभा में फ्लोर टेस्ट से पहले ही मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस्तीफा दे (MP:Kamal Nath resigns before floor test) दिया।

उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि करोड़ो रुपये खर्च कर खरीद-फरोख्त का खेल खेला गया l

बीजेपी ने लोकतांत्रिक मूल्यों की ह्त्या की l साढ़े साथ करोड़ जनता के साथ बीजेपी ने विश्वासघात किया l

बीजेपी ने हमारे सरकार के साथ साजिश की l एमपी में बीजेपी को 15 साल मिले थे l मुझे सिर्फ 15 महीने l 

जनता कभी इन्हें माफ़ नहीं करेगी l हमारे 22 विधायकों को बीजेपी ने कर्नाटक में बंधक बनाया l

हमने मध्यप्रदेश में 2 लाख किसानो के कर्ज माफ़ किये l प्रदेश की जनता का विश्वास हमारे साथ है l

15 महीनो में हमारे ऊपर भ्रष्टाचार को कोई आरोप नहीं l 

हमने प्रदेश में विकास का रास्ता बनाया l हम प्रदेश को भयमुक्त-सुरक्षित बनाना चाहते है l 

बीजेपी के शासन में माफिया पनपा l 15 महीने में मिलावटमुक्त प्रदेश बनाने का अभियान चलाया l

गौ माता के संरक्षण के लिए गौशाला बनायी l युवाओं को रोजगार देने की कोशिश की l 

उससे पहले, स्पीकर ने 16 सदस्यों के इस्तीफे स्वीकार करते हुए कहा की मेरे पास और कोई विकल्प नहीं बचा है l

दुखी मन से 16 विधायकों के इस्तीफे स्वीकार करने पड़े l मैंने निष्पक्षता के साथ काम किया l

वही मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गवर्नर से 1 बजे मिलने का समय माँगा है l  12.00 बजे की प्रेस कांफ्रेंस के बाद वह 1 बजे राज्यपाल से मिलेंगे l 

वही कांग्रेस के विधायकों ने बहमूत साबित करने की बाद दोहराई l उन्होंने कहा की बीजेपी के कई विधायक उनके साथ है l  

हालांकि सूत्रों के हवाले से सुबह से ही कयास लगाएं जा रहे थे कि कमलनाथ (KamalNath) सदन में फ्लोर टेस्ट का सामना नहीं करेंगे और इस्तीफा दे देंगे।

इसके बाद दोपहर होते-होते खबर आ गई कि कमलनाथ ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है और स्पष्ट कर दिया है कि उनके पास नंबर नहीं है।

इससे पहले, शुक्रवार सुबह दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh)ने भी फ्लोर टेस्ट से पहले स्पष्ट कर दिया था कि कमलनाथ सरकार के पास बहुमत का आंकड़ा नहीं है और मध्यप्रदेश में कमलनाथ की सरकार नहीं बचेगी।

इसके बाद नाटकीय तरीके से कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे (MP:Kamal Nath resigns before floor test) दिया और महज 15 महीनों में ही मध्यप्रदेश में कांग्रेस की कमलनाथ सरकार गिर गई।

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मध्यप्रदेश (MadhyaPradesh) में अपनी सरकार गिरने का ठीकरा पूरी तरह से भाजपा पर फोड़ा है और होर्स ट्रेडिंग व शुरू से ही भाजपा उनकी सरकार गिराना चाहती थी …सरीखे गंभीर आरोप लगाए है।

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ढहाया कमलनाथ का किला

18 साल तक कांग्रेस में रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस पार्टी को छोड़ भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया।

उनके साथ कमलनाथ मंत्रिमंडल में सिंधिया समर्थक 6 मंत्रियों ने भी कमलनाथ सरकार को अपना इस्तीफा सौंप दिया।

इसके अतिरिक्त 16 अन्य बागी विधायकों ने भी मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार का साथ छोड़ दिया और अपना इस्तीफा बेंगलुरू से भेज दिया।

इसके कारण मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार पहले ही अल्पमत में आ चुकी थी लेकिन मध्यप्रदेश कांग्रेस ने आखिरी क्षणों तक सत्ता बचाने की जुगत जारी रखी।

मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा और सुप्रीम कोर्ट ने आज ही कमलनाथ सरकार को फ्लोर टेस्ट कराने का आदेश दे दिया। फ्लोर टेस्ट से पहले ही कमलनाथ ने मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया।

MP:Kamal Nath resigns before floor test
इससे पहले, कल तक 
MP फ्लोर टेस्ट : सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस की याचिका और शिवराज की याचिका पर फैसला लेते हुए कहा कि,
कल शाम 5 बजे तक फ्लोर टेस्ट हो l बागी विधायकों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाए l 
विधानसभा में बागी विधायको को फ्लोर टेस्ट में आने की कोई दबाव नहीं l
लगातार दो दिनों की  मैराथन चली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने मध्य प्रदेश विधानसभा स्पीकर के आदेश को पलट दिया l
उन्होंने कहा कि 20 मार्च शाम 5 बजे तक फ्लोर टेस्ट हो जाए l वही बागी विधायको को 
स्पीकर ने बागी विधायको पर अभी तक फैसला क्यों नहीं लिया l
इसी पर अब बहस कल भी जारी रहेगी l मध्य प्रदेश के सियासी संकट पर सुप्रीम कोर्ट में कल भी सुनवाई जारी रहेगी l
MP:Kamal Nath resigns before floor test
कल सुबह 10.30am से  जारी रहेगी सुनवाई l  
बागी विधायकों की और से सिंह ने कोर्ट में कहा कि सभी विधायक ने अपनी मर्जी से इस्तीफे दियें l 
इस बीच सुप्रीम कोर्ट ने कहा की कांग्रेस के बागी विधायक पर कोई जोर-जबरदस्ती तो नहीं हुई है,
या उन्होंने दबाव में तो इस्तीफा नहीं दिया है l हम वीडियो देखकर फैसला नहीं ले सकते l 
मुकुल रोहतगी ने बीजेपी की और से कहा कि अगर सुप्रीम कोर्ट चाहें तो बागी विधायक सुप्रीमकोर्ट में आकर  अपना इस्तीफा सौप सकते है l
इस पर सुप्रीम कोर्ट ने साफ़ मना कर दिया l तब मुकुल रोहतगी ने एक और सुझाव सुप्रीम कोर्ट में रखा l 
अगर कोर्ट आदेश दे तो कर्नाटक हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल जाकर विधायकों से मिल सकते है l 
इससे पहले, कांग्रेस ने इस मामले को संवैधानिक पीठ को सौपने की मांग की l
उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि बागी 16 विधायकों को बंधक बनाया गया है l लोकतंत्र को नष्ट करने की कोशिश की जा रही है l 
कांग्रेस के वकील ने कहा राज्यपाल का फ्लोर टेस्ट का आदेश असवैधानिक l
यह साधारण फ्लोर टेस्ट का मामला नहीं l इस मामले में कोई अंतरिम आदेश न दिया जाए l
दुनिया गंभीर संकट से जूझ रही है ऐसे में फ्लोर टेस्ट जरुरी l
MP:Kamal Nath resigns before floor test
फ्लोर टेस्ट 16 विधायकों के उपस्थिति में ही  होl आज हम अजीबोगरीब स्थिति में है l हमारे विधायको को अगवा किया गया l 
कांग्रेस सरकार बचाने के हर संभव प्रयास में, दिग्विजय बेंगलुरु से तो कमलनाथ दिल्ली में, बीजेपी भी कर रही है शानदार बैटिंग l 
वही कांग्रेस के मध्य प्रदेश के विधायक राजभवन जा रहे है वह राज्यपाल को एक ज्ञापन सौपने जा रहे है l
वह कांग्रेस के बागी विधायकों को अगवा होने का लेटर देने जा रहे है l
दूसरी तरफ बेंगलुरु में कांग्रेस के बागी विधायकों ने बेंगलुरु पुलिस को ख़त लिख कर अपनी सुरक्षा की मांग की है l
उन्हें कांग्रेस के नेताओं से जान का ख़तरा होने की बात कही l 
मध्य प्रदेश में राजनितिक तूफ़ान जोरों पर है l एक तरफ बीजेपी और सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी दोनों ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है l 
MP:Kamal Nath resigns before floor test
तो दूसरी तरफ कांग्रेस और बीजेपी बागी विधायको को लेकर उठापठक करते नजर आ रहे है l
आज सुबह,  बागी विधायकों से मिलने पहुंचे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह
और अन्य नेताओं को एहतियातन हिरासत से रिहा कर दिया गया है l 
वरिष्ठ कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह ने बेंगलुरु के पुलिस कमिश्नर से मिलने की इच्छा जताई है l 

madhya pradesh political crisis news updates in hindi, MP नाटक : बेंगलूरु में दिग्विजय-डी के शिवकुमार आदि हिरासत में फिर रिहा, india news
MP नाटक : बेंगलूरु में दिग्विजय-डी के शिवकुमार आदि हिरासत में फिर रिहा, india news
वह बुधवार को बागी कांग्रेसी विधायकों से मिलने के लिए बेंगलुरु के रिसॉर्ट पहुंचे थे l 
हालांकि पुलिस ने उन्हें विधायकों से मिलने नहीं दिया और एहतियाती तौर पर हिरासत में ले लिया था l 
उनके साथ कर्नाटक कांग्रेस के प्रमुख डी.के. शिवकुमार भी थे l  हालांकि, उन्हें एहतियातन हिरासत में नहीं रखा गया l
MP:Kamal Nath resigns before floor test
दिग्विजय सिंह ने कहा कि पुलिस ने उन्हें विधायकों से मिलने नहीं दिया l 
जिसके बाद वह होटल के बाहर ही धरने पर बैठ गए. उनके साथ डीके शिवकुमार सहित पार्टी के कई नेता हैं l 
दिग्विजय सिंह ने कहा, “हम विधायकों के वापस आने की उम्मीद कर रहे थे. मैंने व्यक्तिगत रूप से पांच विधायकों से बात की है l 
उनका कहना है कि उन्हें कैद करके रखा गया है और उनके फोन भी छीन लिए गए हैं l 
हर कमरे के बाहर पुलिस तैनात है l  24 घंटे उन पर नजर रखी जा रही है l
गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट में आज मध्यप्रदेश के फ्लोर टेस्ट को लेकर अहम सुनवाई होनी है l
वही कांग्रेस ने भी कल सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका डाली है,  और अब सब अपने-अपने तरीके से बागी विधायकों को मनाने में लगे है l 
MP नाटक : बेंगलूरु में दिग्विजय-डी के शिवकुमार आदि हिरासत में फिर रिहा
MP:Kamal Nath resigns before floor test
इससे पहले,
MP फ्लोर टेस्ट –  सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टली, कल सुबह होगी सुनवाई l 
बहुमत परिक्षण पर अब कल होगा फैसला, सुप्रीम कोर्ट का मध्यप्रदेश सरकार, स्पीकर व राज्यपाल सरकार को नोटिस l 
सुप्रीम कोर्ट ने शिवराज चौहान की अर्जी पर फैसला कल तक टाल दिया l सुप्रीम कोर्ट ने कहा की दूसरे पक्ष की भी बात सुनेंगे l 
BigNews MP-Government-Approved Three-New-Districts Maihar-Nagada-CHACHODA,मध्य प्रदेश में कांग्रेस का नया सियासी दाव, तीन नए जिलों को दी मंजूरी
मध्य प्रदेश में कांग्रेस का नया सियासी दाव, तीन नए जिलों को दी मंजूरी
कुल मिलाकर अब यह मामला कल तक टल गया l 
इस बीच कांग्रेस के बागी विधायकों ने बेंगलूर से एक प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि उन्हें बंधक नहीं बनाया गया है l 
उन्होंने अपने मर्जी से इस्तीफा दिया है l उनके साथ कोई जोर-जबरदस्ती नहीं की गयी है l
MP:Kamal Nath resigns before floor test
अगर उन्हें केंद्र सुरक्षा प्रदान करें तो वह भोपाल आने को भी तैयार है l कमलनाथ जी सरासर झूठ कह रहे है l 
मध्य प्रदेश के MLA गोविंद सिंह राजपूत बेंगलुरु में हैं। उन्होंने कहा कि कमलनाथ ने कभी उन्हें 15 मिनट से ज्यादा नहीं सुना।
तो वह अपने क्षेत्र के विकास के लिए किससे बात करते। उन्होंने कहा कि सिंधिया ही उनके नेता हैं।
सुप्रीम कोर्ट आज BJP की याचिका पर सुनवाई करेगी। BJP ने 26 मार्च तक विधानसभा स्थगित करने के खिलाफ याचिका दायर की है।
इससे पहले गवर्नर ने कहा था कि सोमवार को जैसे ही उनका अधिभाषण खत्म होगा कमलनाथ को बहुमत साबित करना होगा।
लेकिन सोमवार को अभिभाषण खत्म होते ही स्पीकर ने विधानसभा 26 मार्च तक के लिए स्थगित कर दिया।
MP:Kamal Nath resigns before floor test
वहीं इस मामले पर आज BJP की ओर से दायर की गई याचिका पर सुनवाई होनी है।
BJP ने अपनी याचिका में अदालत को बहुमत परीक्षण कराने का निर्देश देने को कहा है।
live-madhya-pradesh-legislative-assembly-adjourned-till-26-march-madhyapradesh-floortest-ki-sabhi-khabre, MP NEWS, मध्यप्रदेश की ख़बरें, MP
MP Breaking : 26 मार्च तक स्थगित हुए मध्यप्रदेश विधानसभा, फ्लोर टेस्ट नहीं होगा
जिस पर अदालत सुनवाई के लिए तैयार है और आज कोई अहम फैसला सुना सकती है।
ऐसे में प्रदेश के लिए आज का दिन काफी अहम साबित हो सकता है। 
मध्य प्रदेश पर सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई और बहुमत परीक्षण पर देश भर की नजरें टिकी रहेंगी।
MP:Kamal Nath resigns before floor test
राज्यपाल ने कमलनाथ को तीसरी बार पत्र लिखा है जिसमें कहा गया है कि कि दुख की बात है कि
आपने मेरे द्वारा दी गई समयावधि में बहुमत परीक्षण नहीं किया। आपसे फिर से निवेदन है कि सैंविधानिक और लोकतंत्रीय मान्यताओं का सम्मान करते हुए
17 मार्च तक बहुमत सिद्ध करे, नहीं तो माना जाएगा कि वास्तव में आपको विधानसभा में बहुमत प्राप्त नहीं है।
इधर सोमवार को फिर से कमलनाथ राजभवन पहुंचे। इसके बाद उन्होंने कहा कि अगर कोई यह कहता है कि हमारे पास नंबर नहीं है,
तो वे अविश्वास प्रस्ताव ला सकते हैं। मुझे क्यों फ्लोर टेस्ट देना? कमलनाथ ने कहा कि 16 विधायकों का इस्तीफा स्वीकार नहीं हुआ है और उन्हें समाने आना चाहिए।
अब आज सुप्रीम कोर्ट में होने वाली सुनवाई और फैसले से पता चलेगा कि राज्यपाल का आदेश भारी होगा या कमलनाथ सरकार का फैसला।
जाहिर है कि अगर विधानसभा में फ्लोर टेस्ट हुआ तो कमलनाथ सरकार के गिरने में देर नहीं लगेगी।
(इनपुट एजेंसी से भी)
MP:Kamal Nath resigns before floor test
 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × 2 =

Back to top button