breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबिजनेसबिजनेस न्यूजराज्यों की खबरें
Trending

Petrol-Diesel के दामों में लगातार तेजी, 16वें दिन यह रही कीमतें

पिछले 16 दिनों में पेट्रोल 8.30 रुपए और डीज़ल 9.22 रुपए महंगा हुआ है, राजधानी दिल्ली में 79.56 तो मुंबई में 86.36. प्रति लीटर पेट्रोल के दाम

petrol-diesel prices-hiked-for-16th-day-in-row know-today-rate

नई दिल्ली (समयधारा) : लॉकडाउन ख़त्म होते ही देश में पेट्रोल-डीजल दाम में लगातार तेजी का दौर जारी है l

पिछले 16 दिन से लगातार पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ रही हैं।

पिछले 16 दिनों में पेट्रोल 8.30 रुपया और डीज़ल 9.22 रुपया महंगा हुआ है।

देश में ऑयल मार्केटिंग कंपनियों ने सोमवार को पेट्रोल-डीजल की कीमत में बढ़ोतरी की। 

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में भी पेट्रोल 86.36. डीजल 77.24 हो गए हैl  

वही राजधानी दिल्ली में सोमवार को पेट्रोल 33 पैसे महंगा होकर 79.56 प्रति लीटर हो गया है।

वहीं, डीजल की कीमत में 58 पैसे की बढ़ोतरी से अब इसकी कीमत 78.85 रुपए प्रति लीटर हो गई।

नोएडा की बात करें एक लीटर पेट्रोल का दाम 80.42 रुपए और डीजल की कीमत 71.24 रुपए है।

देश भर के प्रमुख शहरों में पेट्रोल-डीजल  के आज के भाव इस प्रकार हैl

petrol-diesel prices-hiked-for-16th-day-in-row know-today-rate

  1. नई दिल्ली  पेट्रोल 79.56. डीजल 78.85
2. गुरुग्राम: पेट्रोल 77.80. डीजल 71.26
3. मुंबई : पेट्रोल 86.36. डीजल 77.24
4. चेन्नई: पेट्रोल 82.87. डीजल 76.30
5. हैदराबाद : पेट्रोल 82.59. डीजल 77.06
6. बेंगलुरु: पेट्रोल 82.15. डीजल 74.98

जून 2017 से ही तेल कंपनियां अंतरराष्ट्रीय बाजार के हिसाब से हर दिन कीमतों में फेरबदल करती है।

इसका मकसद है अंतरराष्ट्रीय बाजार की तरह ही घरेलू बाजार का रेट रहे। 

कोरोनावायरस (Coronavirus) महामारी के कारण अंततराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम गिरने पर सरकार ने ज्यादा फंड जुटाने के लिए 

14 मार्च को पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में 3 रुपए प्रति लीटर बढ़ा दिया था।

उसके बाद तेल कंपनियों इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOC), भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (BPCL)

और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (HPCL) ने कीमतों की दैनिक समीक्षा रोक दी थी।

उसके बाद सरकार ने फिर 5 मई को पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क 10 रुपए प्रति लीटर और डीजल पर 13 रुपए प्रति लीटर बढ़ा दिए।

दो बार उत्पाद शुल्क बढ़ाने से सरकार को 2 लाख करोड़ रुपए का अतिरिक्त राजस्व प्राप्त हुआ है।

तेल कंपनियों ने वैसे उत्पाद शुल्क में बढ़ोतरी का भार ग्राहकों पर नहीं डाला,

बल्कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट के साथ उसे एडजस्ट कर दिया।

petrol-diesel prices-hiked-for-16th-day-in-row know-today-rate

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five − two =

Back to top button