breaking_newsअन्य ताजा खबरेंटेक न्यूजटेक्नोलॉजीदेशराज्यों की खबरें
Trending

हरियाणा के इन शहरों में 30 जनवरी शाम 5 बजे तक इंटरनेट सेवा बंद,ये है कारण

जिन शहरों में इंटरनेट बंद रहेगा उनमें यमुनानगर, मुनानगर,अंबाला, कुरुक्षेत्र,पलवल,सोनीपत और झज्जर शामिल है....

Internet service stopped in many cities of Haryana till 5 pm on January 30

नई दिल्ली: हरियाणा के कई शहरों में इंटरनेट सेवा को आज से शनिवार,30 जनवरी शाम पांच बजे तक के लिए बंद कर दिया गया(Internet service stopped in many cities of Haryana till 5 pm on January 30) है।

जिन शहरों में इंटरनेट बंद रहेगा उनमें यमुनानगर, मुनानगर,अंबाला, कुरुक्षेत्र,पलवल,सोनीपत और झज्जर शामिल है। हरियाणा सरकार(Haryana Govt) ने यह आदेश दिया है।

हरियाणा (Haryana)के यमुनानगर, मुनानगर,अंबाला, कुरुक्षेत्र,पलवल,सोनीपत और झज्जर जिलों में इंटरनेट सर्विस(2G, 3G, 4G CDMA, GPRS)और सभी SMS सेवाओं (बैंकिंग और मोबाइल रिचार्ज को छोड़कर) व मोबाइल नेटवर्क पर दी जाने वाली सभी डोंगल सर्विस को बंद करने की टाइम लिमिट अब बढ़ा दी है।

ये सभी इंटरनेट सेवाएं अब 30 जनवरी शाम पांच बजे तक बंद रहेंगी जबकि पहले 29 जनवरी तक रहनी थी। लेकिन अब हरियाणा के कई शहरों में 30 जनवरी शाम पांच बजे तक इंटरनेट बंद रहेगा।

हालांकि वायस कॉल को छोड़कर यह आदेश तुरंत प्रभाव से लागू माने जाएंगे।

हरियाणा सरकार ने यह आदेश राज्य में शांति-व्यवस्था बनाएं रखने और किसी प्रकार की गड़बड़ी को रोकने के उद्देश्य से जारी किए है।

दूरसंचार अस्थायी सेवा निलंबन (लोक आपात या लोक सुरक्षा) नियम, 2017 के नियम 2 के तहत इंटरनेट सेवाएं बंद करने के आदेश दिए गए हैं।

BSNL (हरियाणा अधिकार क्षेत्र) समेत हरियाणा(Haryana) की सभी टेलीकॉम सेवाएं देने वाली कंपनियों को इस आदेश का पालन सुनिश्चित करना होगा।

राज्य सरकार एसएमएस, Whatsapp, फेसबुक और Twitter आदि विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्मों के द्वारा दुष्प्रचार और अफवाहों के प्रसार को रोकने के लिए भी उचित कदम उठा रही है।

दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर किसान आंदोलन(Kisan andolan) और धरना-प्रदर्शन (Farmers Protest) को देखते हुए और ट्रैक्टर रैली में हिंसा(Tractor rally violence) के बाद से हरियाणा हाई अलर्ट पर है और राज्य में इंटरनेट सेवा निरंतर बाधित की जा रही है।

राज्य सरकार ने कहा कि राज्य में शांति व्यवस्था बनाएं रखने और भ्रामक अफवाहों को रोकने के उद्देश्य से ऐसा किया जा रहा है।

 

 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 × five =

Back to top button