Trending

Ahoi Ashtami 2023-कल है अहोई अष्टमी व्रत, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त,विधि,पारणा समय व कथा

करवा चौथ से ठीक चार दिन बाद आता है, अहोई अष्टमी व्रत,जिसे अहोई आठे भी कहा जाता है।

Ahoi-Ashtami-2023-Vrat-Puja-Shubh-Muhurat-Vidhi-Parana-Time-Ahoi-Katha

नईं दिल्ली (समयधारा) :  करवा चौथ (Karwa Chauth)से ठीक चार दिन बाद आता है, अहोई अष्टमी व्रत (Ahoi-Ashtami), जिसे अहोई आठे भी कहा जाता है।

अहोई अष्टमी का व्रत (Ahoi-Ashtami-2023-Vrat) संतान की कामना और उसकी दीर्घायु के लिए रखा जाता है।

इस दिन विवाहित महिलाएं अपनी संतान कामना के लिए और माताएं अपने बच्चों की दीर्घायु के लिए निर्जला व्रत रखती है और फिर तारों की छांव या फिर चांद को देखकर इस व्रत को खोलती है।

धनतेरस,दिवाली,नव-वर्ष,गोर्वधन पूजा,भाई दूज की जानें सटीक तारीख-शुभमुहूर्त

धनतेरस,दिवाली,नव-वर्ष,गोर्वधन पूजा,भाई दूज की जानें सटीक तारीख-शुभमुहूर्त

अहोई अष्टमी व्रत में माता अहोई की पूजा-अर्चना की जाती है और साथ ही माता पार्वती(Parvati)-शिव भगवान(Lord Shiva)की पूजा की जाती है।

मान्यातानुसार,अहोई अष्टमी व्रत पूजन(Ahoi-Ashtami-Vrat-Puja)में सेई और सेह के बच्चों की पूजा भी की जाती है और अहोई माता से नि:संतान दंपत्ति संतान की कामना करते है और माताएँ अपने बच्चों के स्वास्थ्य,दीर्घायु और सुख-समृद्धि की कामना करते हुए निर्जला उपवास रखती है।

आज है देव दीपावली,गंगा स्नान को आते है देवगण,इन उपायों से करें घर-जीवन रोशन

अहोई अष्टमी का व्रत तिथि

Ahoi-Ashtami-2023-Vrat-Puja-Shubh-Muhurat-Vidhi-Parana-Time-Ahoi-Katha

हिंदू पंचागानुसार,अहोई अष्टमी का व्रत प्रति वर्ष कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को रखा जाता है और इस हिसाब से इस वर्ष अहोई अष्टमी का व्रत रविवार 5 नवंबर  2023 को है।

चूंकि पंचागानुसार, कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि 05 नवंबर को सुबह 12 बजकर 59 मिनट से प्रारंभ होगी और 6 नवंबर को सुबह 03 बजकर 18 मिनट पर समाप्त होगी। उदया तिथि में व्रत 5 नवंबर 2023, रविवार को रखा जाएगा

Dhanteras 2022 जानें कब है धनतेरस, क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त, क्या खरीदें?

चलिए अब विस्तार से बताते है अहोई अष्टमी व्रत की पूजा का शुभ मुहूर्त,विधि,तारों और चांद को देखने का समय,व्रत का पारण और कथा:Ahoi-Ashtami-2023-Vrat-Puja-Shubh-Muhurat-Vidhi-Parana-time-Ahoi-story

अहोई अष्टमी व्रत पूजा का शुभ मुहूर्त-Ahoi-Ashtami-2023-Vrat-Puja-Shubh-Muhurat

अहोई अष्टमी तिथि का आरंभ  रविवार 5 नवंबर  2023 की सुबह 12 बजकर 59 मिनट से प्रारंभ  हो रहा है जोकि 6 नवंबर को सुबह 03 बजकर 18 मिनट पर समाप्त होगा 

  • पूजा का शुभ मुहूर्त अहोई अष्टमी पूजा मुहूर्त –  शाम 05:34pm से शाम 06:53pm तक है l जिसकी अवधि – 01 घण्टा 18 मिनट्स है l 
  • तारों को देखने के लिये साँझ (शाम) का समय – 05:58pm
  • अहोई अष्टमी के दिन चन्द्रोदय समय – नवंबर 6 सुबह के 12:02 am यानी 5 नवंबर की रात 12.02 मिनट पर l  

Ahoi-Ashtami-2023-Vrat-Puja-Shubh-Muhurat-Vidhi-Parana-Time-Ahoi-Katha

Bhai Dooj 2021:आज भाई दूज पर इस शुभ मुहूर्त में करें टीका,जानें पूरी विधि

अहोई अष्टमी 2023 पारण-तारा और चंद्रोदय समय-Ahoi-Ashtami-2023-Vrat-Parana-time

अहोई अष्टमी का व्रत वैसे तो तारा देखकर खोला जाता है लेकिन कई माताएं चांद देखकर भी व्रत तोड़ती है।

जो माताएं तारों को देखकर पारण करती हैं। वह शाम के समय 6 बजकर 02 मिनट पर पारण कर सकती हैं।

वहीं,  जो महिलाएं चंद्रमा को देख। पारण करती हैं वो रात 12 बजकर 03 मिनट के बाद पारण कर सकती हैं।

अहोई अष्टमी व्रत पूजा विधि-Ahoi-Ashtami-2023-Vrat-Puja-Vidhi

– सर्वप्रथम प्रात: काल नित्यकर्मों से निवृत होकर स्नान आदि करके स्वच्छ वस्त्र धारण करें।

– पूजा स्थल को साफ करके व्रत का संकल्प लें और दिन भर निर्जला व्रत का पालन करें।

– माता दुर्गा और अहोई माता का का स्मरण करते हुए धूप-दीप जलाएं। 

– उत्तर-पूर्व दिशा या ईशान कोण में चौकी की स्थापना करें। 

– चौकी को गंगाजल से पवित्र करके उस पर लाल या पीला वस्त्र बिछाएं।

– चौकी पर  माता अहोई की प्रतिमा स्थापित करें।

– अब गेंहू के दानों से चौकी के मध्य में एक ढेर बनाएं, इस पर पानी से भरा एक तांबे का कलश रखें।

–  माता अहोई के चरणों में मोती की माला या चांदी के मोती रखें।

– बायना के साथ 8 पूड़ी, 8 मालपुए एक कटोरी में लेकर चौकी पर रखें।

– आचमन विधि करके, चौकी पर धूप-दीप जलाएं और अहोई माता  को पुष्प, रोली, अक्षत, दूध और भात अर्पित करें।

Ahoi-Ashtami-2023-Vrat-Puja-Shubh-Muhurat-Vidhi-Parana-Time-Ahoi-Katha

– इसके बाद मोती की माला या चांदी के मोती एक साफ डोरी या कलावा में पिरोकर गले में पहनें।

– अब तारों और चन्द्रमा को अर्घ्य देकर इनकी पंचोपचार यानी हल्दी, कुमकुम, अक्षत, पुष्प और भोग के द्वारा पूजा करें। मां और बेटे का स्वास्थ्य उत्तम रहे और रिश्ते मजबूत रहें। इसके लिए मां अहोई अष्टमी का व्रत रखा जाता है। 

Ahoi-Ashtami-2023-Vrat-Puja-Shubh-Muhurat-Vidhi-Parana-time-Ahoi-story

अहोई अष्टमी व्रत की कथा

अहोई यानी कि अनहोनी का अपभ्रंश, देवी पार्वती अनहोनी को टालने वाली देवी मानी गई है इसलिए इस दिन वंश वृद्धि और संतान के सारे कष्ट और दुख दूर करने के लिए मां पार्वती और सेह माता की पूजा की जाती है।

सूर्योदय के साथ यह व्रत शुरु हो जाता है जो रात में तारों को देखने के बाद ही पूरा होता है। कई जगह महिलाएं रात में चांद को अर्घ्य देने के बाद व्रत का पारण करती है।

कहते हैं किसी भी व्रत-पूजा में कथा की बहुत अहमीयत होती है। इसके बिना व्रत अधूर माना जाता है। आइए जानते हैं अहोई अष्टमी व्रत की कथा।

अहोई अष्टमी कथा-Ahoi-Ashtami-Story

पौराणिक कथा के अनुसार एक साहूकार अपने सात पुत्रों और पत्नी के साथ रहता था। एक दिन साहूकार की पत्नी  दिवाली से पहले घर के रंगरौंगन के लिए जंगल में पीली मिट्‌टी लेने गई थी।

खदान में वह खुरपी से मिट्‌टी खोद रही थी तब गलती से मिट्‌टी के अंदर मौजूद सेह का बच्चा उसके हाथों मर गया।

इस दिन कार्तिक माह की अष्टमी थी। साहूकार की पत्नी को अपने हाथों हुई इस हत्या पर पश्चाताप करती हुई अपने घर लौट आई।

साहूकार के बच्चे को मृत्यु का मिला पाप

कुछ समय बाद साहूकार के पहले बेटे की मृत्यु हो गई, अगले साल दूसरा बेटा भी चल बसा इसी प्रकार हर वर्ष उसके सातों बेटों का देहांत हो गया। साहूकार की पत्नी पड़ोसियों के साथ बैठकर विलाप कर रही थी।

Ahoi-Ashtami-2023-Vrat-Puja-Shubh-Muhurat-Vidhi-Parana-Time-Ahoi-Katha

बार-बार यही कह रही थी कि उसने जान-बूझकर कभी कोई पाप नही किया। गलती से मिट्‌टी की खदान में मेरे हाथों एक सेह के बच्चे की मृत्यु हो गई थी।

Dussehra 2021कब है?क्या है विजयदशमी पूजा का शुभ मुहूर्त और रावण दहन समय

अहोई व्रत के प्रभाव से मिला संतान सुख

औरतों ने साहूकार की पत्नी से कहा कि यह बात बताकर तुमने जो पश्चाताप किया है उससे तुम्हारा आधा पाप खत्म हो गया है।

महिलाओं ने कहा कि उसी अष्टमी को तुम को मां पार्वती की शरण लेकर सेह ओर सेह के बच्चों का चित्र बनाकर उनकी आराधना करो।

उनसे इस भूल की क्षमा मांगो। साहूकार की पत्नी ने ऐसा ही किया।

हर साल वह नियमित रूप से पूजा और क्षमा याचना करने लगी। इस व्रत के प्रभाव से उसे सात पुत्रों की प्राप्ति हुई।

Ahoi-Ashtami-2023-Vrat-Puja-Shubh-Muhurat-Vidhi-Parana-Time-Ahoi-Katha

Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है l समयधारा इसकी पुष्टि नहीं करता है।

Show More

Dropadi Kanojiya

द्रोपदी कनौजिया पेशे से टीचर रही है लेकिन अपने लेखन में रुचि के चलते समयधारा के साथ शुरू से ही जुड़ी है। शांत,सौम्य स्वभाव की द्रोपदी कनौजिया की मुख्य रूचि दार्शनिक,धार्मिक लेखन की ओर ज्यादा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button