breaking_newsHome sliderविभिन्न खबरेंविश्व

ट्रंप ने भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास की हत्या की निंदा की, मेरिट बेस इमिग्रेशन का समर्थन

वाशिंगटन, 2 मार्च: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कंसास में बीते सप्ताह एक भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कुचिभोटला की ‘घृणा अपराध’ में गोली मार कर की गई हत्या की निंदा की, वहीं उन्होंने ‘गुणवत्ता आधारित’ आव्रजन प्रणाली की वकालत की, ताकि अमेरिका में उच्च कौशल वाले कामगार आ सकें। कैपिटल हिल में मंगलवार रात कांग्रेस के संयुक्त अधिवेशन के अपने पहले संबोधन की शुरुआत ट्रंप ने नस्लीय और पूर्वाग्रह से जुड़े अपराधों का संदर्भ देते हुए की। उन्होंने कहा, “पिछले सप्ताह कंसास में हुई गोलीबारी हमें याद दिलाती है कि भले ही नीतियों के संदर्भ में हमारे मत अलग-अलग हों, पर सभी प्रकार की नफरत व बुराई की निंदा को लेकर हम एक साथ खड़े हैं।”

ट्रंप के संबोधन के बाद व्हाइट हाउस की प्रधान उप प्रेस सचिव सारा सैंडर ने एक मीडिया ब्रीफिंग में कहा, “राष्ट्रपति पीड़ित परिवार से सहानुभूति रखते हैं और इस तरह के नस्ली या धार्मिक आधार पर किए गए हमलों की कड़ी निंदा करते हैं। हम इस घटना में घायल होने वालों के जल्द स्वस्थ होने की प्रार्थना कर रहे हैं।”

राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में यहूदी संस्थाओं को दी जाने वाली धमकियों तथा उनके कब्रिस्तानों को नुकसान पहुंचाने की घटनाओं का भी जिक्र किया और इनकी निंदा की।

उन्होंने देश की वर्तमान ‘पुरानी’ आव्रजन प्रणाली के स्थान पर कनाडा और ऑस्ट्रेलिया की तर्ज पर ‘मेरिट आधारित आव्रजन प्रणाली’ लागू करने की बात की।

अपने भाषण में उन्होंने एक बार फिर ओबामाकेयर को समाप्त करने का आह्वान किया। उन्होंने अमेरिकी कांग्रेस से इसे निरस्त करने और इसके स्थान पर ऐसा सुधार लाने पर जोर दिया, जिसमें लोगों के पास अधिक विकल्प हों और लागत भी कम आए।

उन्होंने कहा, “ओबामाकेयर के स्थान पर ऐसे सुधार लाने की जरूरत है, जिसमें लोगों के पास स्वास्थ्य सेवा के लिए अधिक विकल्प हों, लागत कम आए, लोगों की पहुंच व्यापक हो तथा उन्हें बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिल सकें।”

ट्रंप ने एक बार फिर आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) को ‘तबाह और बर्बाद करने’ का वादा दोहराया। उन्होंने कहा कि यह ऐसे गैरकानूनी नृशंस हैं जो मुसलमानों और इसाईयों, पुरुषों, महिलाओं, बच्चों और सभी धर्मो-विश्वासों के लोगों का संहार करते हैं।

उन्होंने कहा, “हम अपने इस दुश्मन का धरती से नामो निशान मिटाने के लिए मुस्लिम समाज के अपने दोस्तों और सहयोगियों के साथ मिलकर काम करेंगे। “

राष्ट्रपति ने अपने भाषण में अमेरिकी नेवी सील के अधिकारी विलियम रयान ओवेन्स को भावभीनी श्रद्धांजलि दी। इसके बाद कांग्रेस में मौजूद सांसदों और अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने खड़े होकर अधिकारी की विधवा कैरिन ओवेन्स के प्रति सम्मान जताया। इस दौरान कैरिन की आंखों में आंसू देखे गए।

पत्रिका ‘द वीक’ की रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रंप ने अपने भाषण में कहा, “रयान ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ते हुए और अपने देश की रक्षा करते हुए एक योद्धा और एक नायक के रूप में ही अपनी जिंदगी जी और उसी रूप में वह शहीद हुए।”

रयान की मौत 27 जनवरी को यमन में अल कायदा के खिलाफ एक अभियान के दौरान हुई थी।

ट्रंप ने ‘अमेरिका फर्स्ट’ की अपनी नीति का थोड़ा नरम पक्ष रखते हुए कहा कि अमेरिका ‘अन्य देशों के संप्रभुता के अधिकार का सम्मान करेगा।’

उन्होंने कहा, “आजाद देश में ही जनता अपनी इच्छा व्यक्त कर सकती है और अमेरिका सभी देशों द्वारा अपना रास्ता चुनने के अधिकार का सम्मान करता है।”

राष्ट्रपति ने कहा, “लेकिन, हम जानते हैं कि अमेरिका का हित इसी में है कि दुनिया में कम संघर्ष हो।”

अमेरिकी राष्ट्रपति ने सैन्य खर्च बढ़ाने का भी जिक्र किया। 

ट्रंप ने कहा, “मैं कांग्रेस को एक बजट भेज रहा हूं, जो सेना को पहले से अधिक मजबूत करेगा, रक्षा संबंधी कमियों को पूरा करेगा और जो अमेरिकी इतिहास में रक्षा पर अब तक के सबसे बड़े खर्च की बात करेगा।”

–आईएएनएस

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × five =

Back to top button