breaking_newsअन्य ताजा खबरेंअपराधदेशराज्यों की खबरें
Trending

अलीबाग कोर्ट ने अर्नब गोस्वामी को 18 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में भेजा

अर्नब के साथ इस मामले में सह आरोपी फिरोज शेख और नीतेश शारदा को भी कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा है...

Republic-tv-editor-in-chief-arnab-goswami-sent-14-day-judicial-custody 

अलीबाग (महाराष्ट्र):रिपब्लिक टीवी (Republic tv)के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी (arnab-goswami) को अलीबाग कोर्ट (Alibaug court)ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

अर्नब गोस्वामी को कोर्ट ने 18 नवंबर तक के लिए ज्यूडिशल कस्टडी में बुधवार देर रात भेज दिया।

republic-tv-editor-in-chief-arnab-goswami-arrested-by-mumbai-police,charges-of-abetment-to-suicide-1_optimized

दरअसल, रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी(Arnab Goswami)पर एक इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाईक और उनकी मां को आत्महत्या के लिए कथित तौर पर उकसाने के आरोप में केस 2018 में दर्ज हुआ

और फिर मई 2020 में महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा था कि उन्होंने अन्वय की बेटी आज्ञा नाईक की शिकायत के बाद मामले में फिर से जांच के आदेश दिए हैं।

पीड़ित की बेटी द्वारा दोबारा जांच की मांग पर महाराष्ट्र सरकार ने इस केस को सीआईडी को सौंप दिया।

जिसके चलते बुधवार सुबह रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी को उनके घर से गिरफ्तार कर (Republic-tv-editor-in-chief-arnab-goswami arrested) लिया गया।

इसके बाद देर रात अलीबाग कोर्ट में इस केस की सुनवाई चली

और सुनवाई के बाद कोर्ट ने आदेश दिया कि अर्नब गोस्वामी को 18 नवंबर तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेजा जाता (Republic-tv-editor-in-chief-arnab-goswami-sent-14-day-judicial-custody ) है।

अपनी हिरासत के खिलाफ अर्नब गोस्वामी ने कोर्ट में जमानत के लिए अर्जी दाखिल कर दी है,जिस पर कोर्ट ने IO ऑफिसर को जवाब दाखिल करने को कहा है।

अर्नब गोस्वामी के वकील वकील गौरव पारकर ने कहा है कि अलीबाग की एक कोर्ट में पुलिस ने गोस्वामी की 14 दिनों की हिरासत देने का अनुरोध किया था।

अर्नब के साथ इस मामले में सह आरोपी फिरोज शेख और नीतेश शारदा को भी कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा है।

गौरतलब है कि रायगढ़ पुलिस ने मुंबई पुलिस की एक टीम की सहायता से अर्नब गोस्वामी को बुधवार सुंबह उनके मुंबई स्थित घर से गिरफ्तार कर लिया था।

इसके बाद अर्नब ने दावा किया कि पुलिस ने उनके साथ हाथापाई की है और उन्होंने वीडियो जारी करके अपने दावे की पुष्टि की।

republic-tv-editor-in-chief-arnab-goswami-arrested-by-mumbai-police_optimized

तब मुंबई पुलिस ने भी वीडियो जारी करके अर्नब गोस्वामी के दावे की पोल खोलते हुए कहा कि अर्नब और उनकी पत्नी ने एक घंटे तक उनके लिए दरवाजा नहीं खोला

और उनकी पत्नी ने जब वीडियो बनाना शुरू किया तो पुलिस ने भी अर्नब की गिरफ्तारी के समय का वीडियो बनाया ताकि किसी भी प्रकार के आरोपों का जवाब दिया जा सकें।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘पुलिस ने आईपीसी की धारा 306 (आत्महत्या के लिए उकसाने) और 34 के तहत अर्णब गोस्वामी को गिरफ्तार किया है।’ अर्नब के वकील ने भी पुलिस पर हाथापाई के आरोप लगाए।

Republic-tv-editor-in-chief-arnab-goswami-sent-14-day-judicial-custody 

 

जानें क्या है पूरा मामला

महाराष्ट्र स्थित मुंबई में पुलिस ने रिपब्लिक टीवी (Republic TV) के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी (Arnab Goswami) को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया।

आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला मई 2018 का है। जब 53 साल के अन्वय नाइक और उनकी मां कुमुद नाइक ने अलीबाग के अपने बंगले में खुदकुशी कर ली थी।

खुदकुशी के लिए अन्वय नाइक ने एक पत्र में 3 लोगों को जिम्मेदार ठहराया था। अन्वय के सुसाइड पत्र के मुताबिक अर्नब गोस्वामी, फिरोज शेख और नितैश सारडा को जिम्मेदार बताते हुए लिखा था

कि मेरे मेहनताने के 5 करोड़ 40 लाख रुपए नहीं मिले, जिसकी वजह से कर्ज में डूबा हूं।

अन्वय नाइक कॉन्कर्ड डिज़ाइन प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर थे। अन्वय की मां, कुमुद नाईक भी कंपनी में बोर्ड ऑफ डायरेक्टर में थीं।

कॉन्कर्ड डिज़ाइन प्राइवेट लिमिटेड कंपनी ने रिपब्लिक टीवी (Republic TV) के स्टूडियो और दफ्तर के डिज़ाइन का काम किया था।

अन्वय नाइक की पत्नी के मुताबिक, इस काम के बदले कॉन्कर्ड डिज़ाइन कंपनी ने जो बिल दिया था, उसका भुगतान रिपब्लिक टीवी ने नहीं किया।

के सुसाइड नोट के मुताबिक 5 करोड़ 40 लाख रुपए का भुगतान नहीं करने से उन्हें आर्थिक नुकसान हुआ और आर्थिक तंगी की हालत हो गई। उस वक़्त रिपब्लिक टीवी ने यह स्पष्ट किया था की कॉन्कर्ड डिज़ाइन के साथ हुए करार के मुताबिक उन्हें पूरा भुगतान किया गया था।

इस खुदकुशी के बाद अन्वय की पत्नी की शिकायत और सुसाइड नोट के आधार पर अलीबाग पुलिस ने आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया था।

पर्याप्त सबूत नहीं मिलने और आरोपों में तथ्य न मिलने से रायगढ़ पुलिस ने केस की क्लोजर रिपोर्ट फ़ाइल कर दी थी, जिसे कोर्ट ने स्वीकार किया था।

मई 2020 में महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने अन्वय नाइक की बेटी अदन्या नाइक की लिखित शिकायत पत्र के आधार पर एक बार फिर केस की जांच शुरू करने के आदेश दिए और मामला क्राइम ब्रांच को सौंप दिया।

 आज तड़के सुबह अर्नब को उनके घर से गिरफ्तार किया गया।

 

Republic-tv-editor-in-chief-arnab-goswami-sent-14-day-judicial-custody 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button