breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंलाइफस्टाइल
Trending

नवरात्र डे -1 : अगर विपदाओं से पाना हो छुटकारा, माँ शैलपुत्री की शरण में आना

पहला नवरात्रा ,13 अप्रैल माँ शैलपुत्री जी चोला (मैरुन), भोग (सफेद चीजें, या गांय के घी से बनी), यह सब करने से, सभी प्रकार के रोगो से मुक्ति मिल जाती है.

navratri festival start today 1st day navratri worship shailputri worshiped

नई दिल्ली,  (समयधारा) : नवरात्री के नौ दिन और माता के नौ रूप इन नौ रूपों के बारे में हम आपको रोज अवगत कराएँगे l

माँ के नौ दिन का अपना विशिष्ठ महत्व है..

कोई तिथि क्षय नहीं, पूरे नवरात्र

इस बार चैत्र नवरात्र 13 से 21 अप्रैल के बीच रहेंगे हालाँकि नवरात्र के नौ दिनों में कोई तिथि क्षय तो नहीं हैl 

नवरात्र: किसी तिथि का क्षय नहीं 
प्रतिपदा – 13 अप्रैल  
द्वितीय – 14 अप्रैल 
तृतीया  – 15 अप्रैल 
चतुर्थी – 16 अप्रैल 
पंचमी – 17 अप्रैल 
षष्टी -18 अप्रैल 
सप्तमी – 19 अप्रैल 
अष्टमी – 20 अप्रैल 
नवमी – 21 अप्रैल 
इन बातों का ध्यान रखें

चैत्र नवरात्र पर जौ बोएं। इससे वातावरण शुद्ध होता है और सकारात्मक ऊर्जा मिलती है. 

navratri festival start today 1st day navratri worship shailputri worshiped

कोरोना काल के कारण वातावरण शुद्ध करने के लिए पीली सरसो या हल्दी, सेंधा नमक और लोंग से अग्यारी करें।

इन नौ दिनों में आज पहला दिन माँ शैलपुत्री का है इसके बारे में विस्तृत जानकारी इस प्रकार है …l 

1. पहला नवरात्रा ,13 अप्रैल  2021 माँ शैलपुत्री जी

चोला (मैरुन). भोग (सफेद चीजें, या गांय के घी से बनी). यह सब करने से, सभी प्रकार के रोगो से मुक्ति मिल जाती हैl

शैलपुत्री ( पहला दिन ) 
नवरात्र के पहले दिन मां के रूप शैलपुत्री की पूजा की जाती है। पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री के रूप में जन्म लेने के कारण इनका नाम ‘ शैलपुत्री ‘ पड़ा।
माता शैलपुत्री का स्वरुप अति दिव्य है। मां के दाहिने हाथ में त्रिशूल है और मां के बाएं हाथ में कमल का फूल सुशोभित है।
मां शैलपुत्री बैल पर सवारी करती हैं। मां को समस्त वन्य जीव-जंतुओं का रक्षक माना जाता है। इनकी आराधना से आपदाओं से मुक्ति मिलती है।

navratri-festival-start-today first-day-navratri worship-shailputri worshiped-mother

 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four + twenty =

Back to top button