breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबिजनेसबिजनेस न्यूज
Trending

बैंक डूबेगा पर पैसा नहीं, खाताधारकों को मिलेगे 90 दिन में पैसे वापस

केंद्रीय मंत्रिमंडल की बुधवार को हुई मीटिंग में डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (DIGC) बिल और लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप अमेंडमेंट बिल को अनुमति दे दी गई है.

stressed bank will give money account holders will get money back in 90 days 

नई दिल्ली (समयधारा) :  देशभर में मोदी सरकार ने आम लोगों की पैसों की सुरक्षा को लेकर एक बड़ा फैसला लिया हैl

मोदी सरकार ने बैंक में आपके पैसों को पूरी सुरक्षा देने के लिए कल दो बिलों को अनुमति दे दी है l 

येस बैंक, लक्ष्मी विलास बैंक और पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक जैसे बैंकों से परेशान ग्राहकों के लिए मोदी सरकार राहत लाने वाली है।

केंद्रीय मंत्रिमंडल की बुधवार को हुई मीटिंग में डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (DIGC) बिल

और लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप अमेंडमेंट बिल को अनुमति दे दी गई है।

अब इस बिल को संसद में रखा जाएगा। इस बिल के मुताबिक बैंक के डूबने पर भी बीमा के तहत सेविंग अकाउंट होल्डर्स को 90 दिन के अंदर पैसा मिल जाएगा।

यानी बैंक डूबने पर भी आपका पैसा नहीं डूबेगा। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि,

DIGC बिल के तहत किसी बैंक के मोराटोरियम  के तहत होने पर भी 5 लाख रुपये तक के डिपॉजिट का इंश्योरेंस होगा।

इन फाडू शक्तिशाली टिप्स से आपके बाल बनेगें लंबे घने

इन फाडू शक्तिशाली टिप्स से आपके बाल बनेगें लंबे घने

इसमें सभी बैंकों में किसी भी प्रकार के 5 लाख रुपये तक के डिपॉजिट पर ग्राहकों को इंश्योरेंस की सुरक्षा मिलेगी।

stressed bank will give money account holders will get money back in 90 days 

सरकार इस बिल को मानसून सत्र में संसद में पेश करेगी। इस संशोधन के पास होने से ग्राहकों का पैसा सुरक्षित होगा।

इस बिल के पास होने के बाद सेविंग अकाउंट होल्डर्स को बैंक के डूबने पर भी 90 दिनों के अंदर पैसा मिल जाएगा।

इस नियम के तहत सभी प्राइवेट, सरकारी और कोऑपरेटिव बैंक आएंगे। इस नियम के तहत ग्रामीण बैंक भी आएंगे।

वित्त मंत्री ने बताया कि इस तहर के इंश्योरेंस के लिए प्रीमियम बैंक देता है।

Thursday thoughts: न कोई किसी का शत्रु है और न कोई किसी का मित्र है

हाल के वर्षों में कुछ को-ऑपरेटिव बैंकों के दिवालिया होने से इनके डिपॉजिटर्स को बड़ा नुकसान हुआ था।

इसी के मद्देनजर डिपॉजिट पर इंश्योरेंस देने का फैसला किया गया है।

सीतारमण ने बताया कि बैंक के मोराटोरियम के तहत होने पर ही यह उपाय लागू होगा।

stressed bank will give money account holders will get money back in 90 days 

मुश्किल में फंसे बैंक को पहले 45 दिनों में इंश्योरेंस कॉरपोरेशन को सौंपा जाएगा।

रिजॉल्यूशन का इंतजार किए बिना 90 दिनों के अंदर प्रोसेस को पूरा कर लिया जाएगा।

इससे मोराटोरियम का सामना कर रहे बैंकों को राहत मिलेगी। इसमें सभी डिपॉजिट में से 98.3 प्रतिशत कवर हो जाएंगे।

सीतारमण ने बताया कि डिपॉजिट की वैल्यू के लिहाज से यह 50 प्रतिशत से अधिक कवरेज होगी।

Olympic स्पेशल जोक्स : क्या आप जानते हैं….ओलंपिक्स में पदक जीतने वाली

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen + 9 =

Back to top button