breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंराज्यों की खबरें
Trending

Noida,गाजियाबाद सहित पूरे यूपी में महिलाओं की सहमति के बिना शाम 7 बजे के बाद काम नहीं:UP Govt

आदेश के अनुसार सुबह 6 बजे से पहले और शाम 7 बजे के बाद अगर महिला कर्मचारी काम करने से मना करती है तो उसे नौकरी से नहीं निकाला जाएगा।

No-work-after-7-pm-6-am-without-consent-of-women-in-entire-UP

लखनऊ:उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh)में काम करने वाली महिलाओं को सुरक्षित वातावरण मुहैया कराने के लिए यूपी सरकार(UP Govt) ने शनिवार को एक बड़ा आदेश पारित किया है,

जिसके तहत कहा गया है कि अब नोएडा(Noida),गाजियाबाद(Ghaziabad) सहित पूरे यूपी(UP)के कारखाने में किसी भी महिला को नाइट शिफ्ट के लिए बाध्य नहीं किया जा(UP working women not force to work factory in night shift)सकता।

यूपी की योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने एक सरकारी सर्कुलर जारी किया है,जिसमें कहा गया है कि “किसी भी महिला कर्मचारी को सुबह 6 बजे से पहले और शाम 7 बजे के बाद लिखित सहमति के बिना काम करने के लिए बाध्य नहीं किया(No-work-after-7-pm-6-am-without-consent-of-women-in-entire-UP)जाएगा।

अधिकारियों को उपरोक्त घंटों के दौरान काम करने पर महिला कर्मचारी के लिए मुफ्त परिवहन, भोजन और पर्याप्त पर्यवेक्षण(observation)भी देना होगा।”

आदेश के अनुसार सुबह 6 बजे से पहले और शाम 7 बजे के बाद अगर महिला कर्मचारी काम करने से मना करती है तो उसे नौकरी से नहीं निकाला जाएगा।

UP के CM योगी आदित्यनाथ ने महंत नरेंद्र गिरि की मौत की जांच CBI को सौंपी

यूपी श्रम विभाग ने शुक्रवार देर रात यह आदेश जारी किया है। आदेश में स्पष्ट तौर पर लिखा गया है कि महिला श्रमिकों को शाम 7 बजे के बाद काम पर बने रहने के लिए मजबूर नहीं किया जाएगा और उनकी लिखित सहमति के बिना सुबह 6 बजे से पहले काम पर नहीं बुलाया(No-work-after-7-pm-6-am-without-consent-of-women-in-entire-UP)जाएगा।

f829nje

इसके साथ ही सरकार ने राज्य की सभी मिलों और कारखानों में महिला कर्मचारियों को छूट की अधिसूचना जारी कर दी है।

आदेश में आगे कहा गया है, “कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न की घटना को रोकने के लिए महिला श्रमिकों को एक सुरक्षित कामकाजी माहौल प्रदान करने का दायित्व नियोक्ता के पास होगा।

इसके अलावा नियोक्ताओं को कार्यस्थल पर महिलाओं के यौन उत्पीड़न (रोकथाम, निषेध और निवारण) अधिनियम, 2013 या किसी अन्य संबंधित अधिनियमों के प्रावधानों के साथ कारखाने में एक मजबूत शिकायत तंत्र विकसित करना होगा।”

Yogi का एलान-2 से ज्यादा बच्चे तो UP में नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी,न सब्सिडी

No-work-after-7-pm-6-am-without-consent-of-women-in-entire-UP

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button