Trending

शादीशुदा ग़ालिब : मोहब्बत नहीं थी तो मना कर देती, मेरी बीवी को बताने की क्या जरूरत थी.?

तू दर्द दे तो मैं उससे भी इश्क करूँ, एक तेरा शौक है और एक मेरा जनून - शायरी

mohabbat shayri galib ki shayaris indian sayari 

मोहब्बत नहीं थी तो मना कर देती,

मेरी बीवी को बताने की क्या जरूरत थी…?

इश्क शायरी-तू दर्द दे तो, मैं उससे भी इश्क करूँ, एक तेरा शौक है और एक मेरा जनून…

तू दर्द दे तो मैं उससे भी
इश्क करूँ,
एक तेरा शौक है और
एक मेरा जनून

मोहब्बत शायरी : कुछ इस अदा से निभाना है किरदार मेरा मुझको…!

कुछ इस अदा से निभाना है
किरदार मेरा मुझको…!

जिन्हें मुहब्बत ना हो मुझसे
वो नफरत भी ना कर सके….!!

mohabbat shayri galib ki shayaris indian sayari 

मोहब्बत  उसी को आज़माती है
जो हर मोड़ पर चलना जानता है….!!
कुछ “पाकर” तो हर कोई मुस्कुराता है,
मोहब्बत शायद उनकी ही होती है,

जो बहुत कुछ “खोकर” भी मुस्कुराना जानता है..

वफ़ा-बेवफा शायरी : था जिनकी वफा पर नाज़ हमे, हमराज बदलते देखे हैं…

था जिनकी वफा पर नाज़ हमे,

हमराज बदलते देखे हैं …

हालात बदलते ही सबके,

अंदाज बदलते देखे हैं …!!

दिलवालों की शायरी : पल कितने भी गुजार लूँ तेरी पनाहों में…पर,हर साँस यही कहती हैं..कि दिल अभी भरा नहीं…

शाॅपिंग में मशगूल बीवी का
सब्र से साथ देना भी

मुहब्बत है गालिब ,

ज़रूरी नहीं हर कोई
ताज महल बनवाता फिरे ..

यह शायरिया भी पढ़े : 
कोरोना वायरस शायरी : कहीं यादों का मुकाबला हो तो बताना….जनाब 
कोरोना शायरी : घर गुलज़ार, सूने शहर, बस्ती बस्ती में कैद… 
कोरोना शायरी : अर्ज़ किया है हर चमकती चीज सोना नहीं होती…

शायरी : जाने कौन सी शौहरत पर आदमी को नाज़ है, जो खुद-आखरी सफर के लिए भी, औरों का मोहताज़ है.

कोरोना शायरी : बड़े दौर गुजरे हैं जिंदगी के… यह दौर भी गुजर जायेगा
Corona Shayari : शिकायतें तो बहोत थी ज़िन्दगी से मगर।। 
corona शायरी : मर तो जाना है वैसे भी एक दिन,तुम मिल जाते तो जी लेते जरा 
कोरोना शायरी : मेरा कत्ल करने की उनकी साजिश तो देखो

Love शायरी : खामोशियों से मिल रहे है खामोशियों के जवाब,अब कैसे कहे की मेरी उनसे बाते नही होती

 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button