breaking_newsअन्य ताजा खबरेंचटपट चुटकले और शायरीदिल की बात

शायरी : वे यू खैरियत पुछ्ते है हमारी, आप ही कहे यू क्या बताये उन्हे…

सिर्फ शब्दों से न कीजिएगा किसी के वजूद की पहचान... हर कोई उतना कह नहीं पाता जितना समझता और महसूस करता है !!

shayaris in hindi ishq shayri sayari hi sayari 

वे यू खैरियत पुछ्ते है हमारी ,

आप ही कहे

यू क्या बताये उन्हे !

Shayari in Hindi : मेरी आँखों में आँसू नहीं, बस कुछ नमी है, वजह तू नहीं, तेरी ये कमी है.

मेरी आँखों से जो गिरता है

वो दरिया देखो,

मैं हर हाल में ख़ुश हूँ,

मेरा नज़रिया देखो…!!

कभी मैं तो कभी वक्त मुझसे जीत गया…, इस खेल में एक साल और बीत गया…

सिर्फ शब्दों से न कीजिएगा
किसी के वजूद की पहचान…
हर कोई
उतना कह नहीं पाता
जितना समझता और महसूस करता है !!

शायरी : शिकायतें तो बहोत थी ज़िन्दगी से मगर, कोरोना ने मुझे खामोश कर दिया..!!!

कभी मैं तो कभी 

वक्त मुझसे जीत गया…. 

इस खेल में एक साल

और बीत गया……

शायरी : न परेशान किसी को कीजिये, न हैरान किसी को कीजिये…

न जाने कोन-सी साजिशों के

हम शिकार हो गए ,

जितना दिल साफ़ रखा उतना

“गुनहगार” हो गए…

Propose Day Shayari in Hindi : आप जिसे प्यार करते है, उन्हें प्रपोज़ करें इन शानदार शायरीयों के साथ

जला हुआ जंगल

छिप कर रोता रहा…..

लकड़ी उसी की थी   

उस माचिस की तीली में……

शायरी : रखा करो नजदीकियां, ज़िन्दगी का कुछ भरोसा नहीं…

मँज़िले बड़ी ज़िद्दी होती हैँ ,

हासिल कहाँ नसीब से होती हैं !

मगर वहाँ तूफान भी हार जाते हैं ,

जहाँ कश्तियाँ ज़िद पर होती हैँ !

दर्द शायरी : दर्द कितना खुशनसीब है-जिसे पा कर लोग अपनों को याद करते है..

यह शायरियां भी पढ़े : shayaris in hindi ishq shayri sayari hi sayari 

आरजू शायरी : तेरी आरजू ने कुछ यू दीवाना किया, ख्वाब की जूस्तजु ने खुद से बेगाना किया..

बारिश शायरी : बादलों के दरमिया साजिश होने लगी…कल उसने मिलने का वादा किया था…

इश्क शायरी : इश्क़ जब इबादत बन जाता है तो खुदा खुद हमारे इश्क़ की

Life Shayari : हवाओं की भी अपनी…अजब सियासतें हैं साहब,

शायरी : जिंदगी तेरी नाराजगी से क्या होगा…मेरी मुस्कुराहट मेरी आदत में शामिल हैं…

कोरोना शायरी : दूरियाँ तो पहले ही आ चुकी थी ज़माने में…..

मुस्कान शायरी : हम तो खुशियाँ उधार देने का कारोबार करते हैं, साहब…!

जिंदगी शायरी : तलाश ज़िन्दगी की थी, दूर तक निकल पड़े ….

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nineteen − fourteen =

Back to top button