breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशफैशनलाइफस्टाइल
Trending

Akshaya Tritiya:आज अक्षय तृतीया पर शुभ मुहूर्त में करें पूजा,मां लक्ष्मी की होगी कृपा

अक्षय तृतीया पर एक बेहद शुभ संयोग बन रहा है। इस दिन शुभ मुहूर्त में पूजा और खरीदारी करने से उसका दोगुना फल आपको मिलता है। 

Akshaya Tritiya 2021 Shubh Muhurat-akshaya tritiya benefits

नई दिल्ली:आज यानि शुक्रवार,14 मई 2021 को अक्षय तृतीया(Akshaya Tritiya) है। इसे आखा तीज(Akha Teej)भी कहते है।

अक्षय तृतीया वैशाख माह के शुक्ल पक्ष तृतीया को हिंदू धर्मानुसार मनाई जाती है।

अक्षय तृतीया को हिंदू धर्म में बहुत पावन,गुणकारी,मंगलकारी और फलकारक माना जाता है। इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा कई गुना फलदायक मानी जाती है।

मान्यता है कि अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) के दिन जो भी काम किया जाता है उसका कई गुना फल आपको मिलता है। आज के दिन जाप, यज्ञ, पितृ-तर्पण और दान-पुण्‍य करना फलदायी होता है।

अक्षय तृतीया पर एक बेहद शुभ संयोग बन रहा है। इस दिन शुभ मुहूर्त में पूजा और खरीदारी करने से उसका दोगुना फल आपको मिलता (Akshaya Tritiya 2021 Shubh Muhurat-akshaya tritiya benefits)है। 

दरअसल,अक्षय तृतीया पर सोने(Gold)की खरीदारी शुभ मानी जाती है। लोग सोना-चांदी के आभूषण खरीदते है

चूंकि माना जाता है कि इसका कई गुना होकर आने वाले वर्ष में मिलता है और घर व जीवन में सुख-समृद्धि आती है। भविष्य में भी धन की प्राप्ति होती है।

इसी कारण लोग अक्षय तृतीया पर सोना ज्यादा से ज्यादा खरीदते है। चूंकि ऐसा करने से अक्षय पुण्य प्राप्त होता है।

चलिए अब बताते है इस वर्ष अक्षय तृतीया तिथि का शुभ मुहूर्त क्या है?

Akshaya Tritiya 2021 Shubh Muhurat-akshaya tritiya benefits

अक्षय तृतीया की तिथि: 14 मई 2021(Akshaya Tritiya 2021 date)

इस वर्ष अक्षय तृतीया तिथि पर पूजा का शुभ मुहूर्त 14 मई को सुबह 05:38 बजे से हो जाएगा जोकि दोपहर 12:18 बजे तक का रहेगा।

यह तकरीब 06 घंटे 40 मिनट की अवधि है। इसमें पूजा करने से आपको सुख-समृद्धि,धन-दौलत दोगुना होकर मिलेगी।

– अक्षय तृतीया तिथि आरंभ- 14 मई 2021 को सुबह 05:38 बजे से

 – अक्षय तृतीया समापन- 15 मई 2021 को सुबह 07:59 तक

 

akshay-tritiya-min

 

इस दिन मां लक्ष्मी के मंत्र का जप करें-
‘ॐ नमो भाग्य लक्ष्म्यै च विद्महे अष्ट लक्ष्म्यै च धीमहि तन्नौ लक्ष्मी प्रचोदयात्।।’

अब आप मां लक्ष्मी(maa laxami) की आरती करें। उन्हें सफेद रंग की चीजों का भोग लगाएं और सुख-शांति-संपन्नता का आशीर्वाद मांगे।

Akshaya Tritiya 2021 Shubh Muhurat-akshaya tritiya benefits

 

अक्षय तृतीया पूजा की व‍िध‍ि-Akshaya Tritiya 2021 Puja Vidhi

akshya-tritya 2021 shubh muhurat puje vidhi-min

-भगवान विष्‍णु और लक्ष्‍मी मां की पूजा अक्षय तृतीया के द‍िन की जाती है।

-माना जाता है कि इस द‍िन व‍िष्‍णुजी को चावल चढ़ाना शुभ होता है।

-भगवान विष्‍णु और मां लक्ष्‍मी का पूजन कर उन्‍हें तुलसी के पत्तों के साथ भोजन अर्पित किया जाता है।

-वहीं, खेती करने वाले लोग इस दिन भगवान को इमली चढ़ाते हैं चूंकि मान्‍यता है कि ऐसा करने से साल भर अच्‍छी फसल होती है।

 

 

अक्षय तृतीया के लाभ-Akshaya tritiya benefits

-ऐसी मान्यता है कि अक्षय तृतीया पर दान करना कई हजार गुना फलदायक होता है। जो भी इसदिन दान करते है उसका पुण्य-प्रताप कई गुना होकर वापस जरूर मिलता है।

-अक्षय तृतीया के दिन घी, शक्‍कर, अनाज, फल-सब्‍जी, इमली, कपड़े और सोने-चांदी का दान करना चाहिए।

-कई लोग इस दिन इलेक्‍ट्रॉनिक सामान जैसे कि पंखे और कूलर का दान भी करते हैं।

-मान्यता है कि इस दिन जो भी काम किया जाता है उसमें व्यक्ति को बरकत मिलती है। अच्छे कर्मों का अक्षय फल मिलता है। वहीं यदि इस दिन बुरे कर्म किये जाए तो उसका परिणाम भी पीछा नहीं छोड़ता है।

-अक्षय तृतीया के दिन लोग विशेषतौर पर नया वाहन, गृह प्रवेश करना, आभूषण खरीदना इत्यादि जैसे कार्य करते हैं। ऐसी मान्यता है कि यह दिन सभी के जीवन में अच्छा भाग्य और सफलता लेकर आता है।

-इस दिन लोग जमीन जायदाद संबंधी कार्य, शेयर मार्केट में निवेश, रियल एस्टेट के सौदे या किसी नए बिजनेस की शुरुआत करते हैं। बिना पंचांग देखे इस दिन को श्रेष्ठ मुहुर्तों में शामिल किया जाता है।

-सुख शांति: 11 गोमती चक्रों को लाल रेशमी वस्त्र में बांधकर चांदी की डिब्बी में रखकर पूजा स्थान में रखने से घर में सदैव सुख-शांति का वातावरण बना रहता है।

-व्यापारिक लाभ: 27 गोमती चक्रों को पीले या लाल रेशमी वस्त्र में बांधकर अपने प्रतिष्ठान के मुख्य द्वार पर बांधने से व्यापार में आशातीत लाभ होता है।

-पितृ-दोष मुक्ति: जिन जातकों की जन्मपत्रिका में ‘पितृ-दोष’ है वे ‘अक्षय-तृतीया’ के दिन प्रात:काल किसी स्वच्छ स्थान या मन्दिर में लगे पीपल के ऊपर अपने पितृगणों के निमित्त घर का बना मिष्ठान व एक मटकी में शुद्ध जल रखें।

अब पीपल के नीचे धूप-दीप प्रज्ज्वलित कर अपने पितृगणों की संतुष्टि के लिए प्रार्थना करें।

इसके बिना पीछे देखे सीधे अपने घर लौट आएं।

आप ध्यान रखें इस प्रयोग को करते समय अन्य किसी व्यक्ति की दृष्टि ना पड़ें।

इस प्रयोग को करने से पितृगण शीघ्र ही संतुष्ट होकर अपना आशीर्वाद प्रदान करते हैं।

Akshaya Tritiya 2021 Shubh Muhurat-akshaya tritiya benefits

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 + four =

Back to top button