breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंफैशनलाइफस्टाइल
Trending

अक्षय तृतीया 2020 : क्या सिर्फ सोना ही खरीदना होता है शुभ ..? जानियें

क्या अक्षय तृतीया पर सोना खरीदने से होंगे मालामाल..? सोना नहीं-तो यह है दूसरें ऑप्शन्स

akshay-tritiya-2020 gold-silver-or-other-option-important-of-akshay-tritiya

नई दिल्ली, (समयधारा) : लोग अक्सर अक्षय तृतीय(akshay-tritiya)पर सिर्फ सोना ही खरीदते है  l

पर बहुत लोगों को यह पता नहीं है की आप सोने की जगह कुछ और भी खरीद सकते है l 

क्या अक्षय तृतीया पर सोना खरीदने से होंगे मालामाल..? सोना नहीं-तो यह है दूसरें ऑप्शन्स l

अक्षय तृतीया के दिन अगर आप सोना नहीं खरीद सकते है तो उसकी जगह आप यह भी खरीद सकते है l

  • चांदी के बर्तन या चांदी का सिक्का l अक्षय तृतीया पर इनके खरीदने से घर निरोगी रहता है और लक्ष्मी की कृपा भी बनी रहती है l  
  • तांबा या स्टील का कलश भी खरीद सकते है l इससे आप तुलसी की पूजा के लिए भी इस्तेमाल कर सकते है l 
  • आप नए कपड़े भी खरीद सकते है l  कपड़े खरीदने से घर में रौनक के साथ-साथ आपके मान-सम्मान में भी बढ़ोतरी होती है l   
  • घर-प्रॉपर्टी आदि में भी इन्वेस्ट कर सकते है l प्रॉपर्टी में इन्वेस्ट करने से आपके घर में सुख-समृद्धि का वास होता है l 
  • कोई भी इलेक्ट्रोनिक गैजेट्स भी खरीद सकते है l  इससे आपके आर्थिक हालात ठीक होते है l 

जानियें अक्षय तृतीया से जुड़ीं बातें, क्यों है धनतेरस जैसा ही महत्वपूर्ण इसका महत्व  l

akshay-tritiya-2020 gold-silver-or-other-option-important-of-akshay-tritiya

अक्षय तृतीया का इतना महत्व क्यों है जानिए कुछ और महत्वपुर्ण जानकारी 

माँ गंगा का अवतरण धरती पर आज ही के दिन हुआ था।

महर्षी श्री परशुराम जी का जन्म आज ही के दिन हुआ था।

माता अन्नपूर्णा का जन्म भी आज ही के दिन हुआ था।

द्रोपदी को चीरहरण से आज ही के दिन भगवान कृष्ण ने बचाया था।
भगवान कृष्ण और मित्र सुदामा का मिलन आज ही के दिन हुआ था।
भगवन कुबेर को आज ही के दिन खजाना मिला था।
सतयुग और त्रेता युग का प्रारम्भ आज ही के दिन हुआ था।
भगवान श्री ब्रह्मा जी के पुत्र श्री अक्षय कुमार का अवतरण भी आज ही के दिन हुआ था।
प्रसिद्ध तीर्थ स्थल श्री बद्री नारायण जी व बद्री विशाल जी का कपाट आज ही के दिन खोला जाता है।
बृंदावन के भगवान श्री बाँके बिहारी जी मंदिर में साल में केवल
आज ही के दिन श्री चरण विग्रह के दर्शन होते है अन्यथा साल भर वह वस्त्र से ढके रहते है। 
आज ही के दिन महाभारत का युद्ध समाप्त हुआ था।
अक्षय तृतीया के दिन कोई भी शुभ कार्य का प्रारम्भ किया जा सकता है। अक्षय तृतीया अपने आप में स्वयं सिद्ध मुहूर्त है।
(इनपुट सोशल मीडिया से) 
akshay-tritiya-2020 gold-silver-or-other-option-important-of-akshay-tritiya
Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixteen − six =

Back to top button