breaking_newsअन्य ताजा खबरेंफैशनलाइफस्टाइल
Trending

Tuesday Thought : बस दिल जीतने का मकसद रखो 

दुनिया जीतकर तो...सिंकदर भी खाली हाथ ही गया

tuesday thought in hindi suvichar suprbhat motivational quote in hindi 

बस दिल जीतने का मकसद रखो 

दुनिया जीतकर तो 

सिंकदर भी खाली हाथ ही गया

Tuesday Thoughts : फुल तो रह लेते है,कांटो के साथ, बस इंसान ही इंसान को चुभता है.

चर्चा हमेशा कामयाबी की हो

यह जरुरी तो नहीं

किसी की बर्बादी भी मशहूर

हो जाया करती है

Tuesday Thoughts : प्यार और आदर के लिए किसी के पीछे कभी न भागे… क्योंकि इनका कोई महत्व नहीं अगर मुफ्त में न मिलें

किसी को डर है कि

ईश्वर देख रहा है

किसी को भरोसा है कि

ईश्वर देख रहा है

Tuesday Thoughts : दुःख में स्वयं की एक उंगली ही आंसू पोंछती है…

वक्त और किस्मत पर

कभी घमंड मत करों 

क्योंकि सुबह उनकी भी होती है 

जिन्हें कोई याद नहीं करता 

Tuesday Thoughts : बेवजह अच्छे बनो, वजह से तो बहुत बने फिरते है.

 

यह गुड मॉर्निंग मैसेज भी पढ़े : (tuesday thought in hindi suvichar suprbhat motivational quote in hindi )

मंगलवार सुविचार : चार आने…साँस बारह आने … तेरा एहसास

Monday Thoughts : “समय” “सत्ता” “संपत्ति” और “शरीर” चाहे साथ दे ना दे… 

Sunday Thouhgts : रिश्ते,प्यार और मित्रता हर जगह पाये जाते हैं, परंतु ये ठहरते…

GoodWali Morning-ईश्वर से शिकायत क्यों है..? उन्होने पेट भरने की जिम्मेदारी ली है

Tuesday Thoughts : सोचों कभी संबंधो और दोस्ती में रेस हो तो कौन जीतेगा…कोई नहीं …!!

Thoughts – अज्ञानी व्यक्ति गलती छिपाकर बडा बनना चाहता है….

Thoughts : हमारा व्यवहार कई बार हमारे ज्ञान से अधिक अच्छा साबित होता है…

Thoughts : शुद्ध का अर्थ है स्वभाव में होना, अशुद्ध का अर्थ है प्रभाव में होना

Tuesday Thoughts : दी इच्छा इन्सान को,तो संतोष छीन लिया, दिया संतोष संत को,तो संसार छीन लिया 

( इनपुट सोशल मीडिया से )

Tuesday Thoughts : कुछ-कुछ बातों को मुस्करा कर टाल देना चाहिए…

 

Show More

Dropadi Kanojiya

द्रोपदी कनौजिया पेशे से टीचर रही है लेकिन अपने लेखन में रुचि के चलते समयधारा के साथ शुरू से ही जुड़ी है। शांत,सौम्य स्वभाव की द्रोपदी कनौजिया की मुख्य रूचि दार्शनिक,धार्मिक लेखन की ओर ज्यादा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button