breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेश की अन्य ताजा खबरेंविभिन्न खबरेंविश्व

सीमा विवाद : चीन की दादागिरी अरुणाचल प्रदेश को फिर बताया अपना हिस्सा

चीन ने अरुणाचल प्रदेश को भारत का अभिन्न अंग मानने से इनकार करते हुए कहा कि अरुणाचल प्रदेश चीन के दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा है.

china-aggressively-stated-that arunachal-pradesh-is-his-territory

नई दिल्ली (समयधारा) :  एक तरफ देश कोरोना से लड़ रहा है तो,

दूसरी तरफ भारत और चीन के बीच सीमा पर विवाद थमने का नाम ही नहीं ले रहा है l    

लद्दाख में जारी सीमा विवाद के बाद एक बार फिर से चीन के अरुणाचल प्रदेश का राग अलापना शुरू कर दिया है।

चीन ने अरुणाचल प्रदेश को भारत का अभिन्न अंग मानने से इनकार करते हुए कहा कि अरुणाचल प्रदेश चीन के दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा है।

हालांकि, चीन ने खुद ताकत के दम पर तिब्बत पर कब्जा किया हुआ है।

अरुणाचल प्रदेश से 5 भारतीय युवकों का अपहरण करने वाला चीन दादागिरी पर उतारू है।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता झाओ ल‍िज‍िन से जब भारतीय युवकों की रिहाई के बारे में पूछा गया,

तो उन्होंने इसका जवाब देने के बदले अरुणाचल को ही चीन का हिस्सा बता दिया।

china-aggressively-stated-that-arunachal-pradesh-is-his-territory

उन्होंने कहा कि भारतीय सेना के अनुरोध के बारे में उन्‍हें कोई जानकारी नहीं है।

चीन के सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता झाओ ल‍िज‍िन ने अपने एक बयान में कहा है,

चीन ने कभी अरुणाचल प्रदेश को मान्‍यता नहीं दी है। यह चीन के दक्षिणी तिब्‍बत इलाका है।

अरुणाचल प्रदेश से 5 भारतीय युवकों का अपहरण पर चीनी प्रवक्ता ने कहा कि हमारे पास अभी इस बात की कोई जानकारी नहीं है,

और ना ही भारतीय सेना ने ऐसी कोई अपील की है।

बता दें कि अरुणाचल प्रदेश के 5 युवकों की अपहरण की जांच के लिए पुलिस की एक टीम को मैकमोहन लाइन से सटे सीमावर्ती क्षेत्र में भेजा गया है।

यह लाइन अरुणाचल प्रदेश के अपर सुबनसिरी जिले को तिब्बत से अलग करती है।

china-aggressively-stated-that-arunachal-pradesh-is-his-territory

आरोप है कि इन पांचों भारतीय युवकों को चीनी की पीपल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) ने अगवा किया है।

सभी युवक भारतीय सेना के लिए पोर्टर के रूप में काम करते थे और दुर्गम क्षेत्रों में सेना को रशद पहुंचाते थे।

इस इलाके में सड़क और मोबाइल नेटवर्क नहीं होने की वजह से वे गाइड का काम करते थे।

गांव वालों का कहना है कि गुरुवार को ये युवक सैन्यकर्मियों के साथ बॉर्डर इलाके में गए थे। गांववालों का यह भी कहना है कि

ये युवक जंगल की ओर गए होंगे जहां से चीनी सेना के हत्थे चढ़ गए होंगे।

लद्दाख में सीमा पर तनातनी के बीच चीन ने अपने सैनिकों की संख्या बढ़ा दी है।

सूत्रों का कहना है कि लद्दाख के विवादित इलाकों में चीन ने सैनिकों के साथ टैंकों की संख्या में वृद्धि की है।

हाल ही में 29-30 अगस्त को पैगोंग लेक की दक्षिण सीमा पर दोनों देशों के सैनिकों के बीच झड़प हुई थी। 

china-aggressively-stated-that-arunachal-pradesh-is-his-territory

भारत ने पूर्वी लद्दाख के पैंगोंग सो क्षेत्र में यथास्थिति बदलने के लिए चीनी सेना द्वारा की जा रही घुसपैठ को नाकाम कर दिया था।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × 2 =

Back to top button