breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीति

बीते 6 महीने में भारत-चीन सीमा पर कोई घुसपैठ नहीं : सरकार,राहुल गांधी का पलटवार

राहुल ने लिखा, 'आप क्रोनोलॉजी समझिए : PM बोले कि कोई सीमा में नहीं घुसा, फिर चीन-स्थित बैंक से भारी क़र्ज़ा लिया, फिर रक्षामंत्री ने कहा कि चीन ने देश में अतिक्रमण किया। अब गृह राज्य मंत्री ने कहा कि अतिक्रमण नहीं हुआ। मोदी सरकार भारतीय सेना के साथ है या चीन के साथ? इतना डर किस बात का?'

नई दिल्ली:No intrusion on Indo-China border in last 6 months:Govt-भारत-चीन सीमा विवाद (India-China border tension)तनावपूर्ण बना हुआ है और चीन भी यथास्थिति बदलने की जुगत में लगा है

लेकिन इस बीच बुधवार को सरकार की ओर से संसद में कहा गया है कि बीते 6 महीने में भारत-चीन सीमा पर कोई घुसपैठ नहीं हुई (No intrusion on Indo-China border in last 6 months: Govt) है।

चीन के साथ विवाद पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है और तंज भरे लहजे में पूछा है कि  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) से लेकर रक्षा मंत्री और गृह राज्य मंत्री ने अलग-अलग टिप्पणी की है।

राहुल ने कहा कि पीएम बोले कि कोई सीमा में नहीं घुसा और अब गृह राज्य मंत्री ने कहा कि कोई अतिक्रमण नहीं हुआ।

राहुल ने लिखा, ‘आप क्रोनोलॉजी समझिए : PM बोले कि कोई सीमा में नहीं घुसा, फिर चीन-स्थित बैंक से भारी क़र्ज़ा लिया, फिर रक्षामंत्री ने कहा कि चीन ने देश में अतिक्रमण किया। अब गृह राज्य मंत्री ने कहा कि अतिक्रमण नहीं हुआ। मोदी सरकार भारतीय सेना के साथ है या चीन के साथ? इतना डर किस बात का?’

दरअसल, पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC in Ladakh) पर भारत-चीन के मध्य निरंतर तनाव बना हुआ है।

आज संसद के मानसून सत्र का तीसरा दिन था,जिसमें राज्यसभा में सांसद डॉ. अनिल अग्रवाल ने पूछा था कि बीते छह महीने में चीन और पाकिस्तान ने भारत में कोई घुसपैठ की है क्या? अगर हां तो इसके लिए सरकार क्या कदम उठा रही है।

इस सवाल के लिखित जवाब में केंद्र सरकार की ओर से कहा गया है कि पिछले छ महीने में भारत-चीन सीमा पर कोई घुसपैठ नहीं हुई।

इस मामले पर केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने पाकिस्तान की ओर से की गई घुसपैठ की कोशिशों पर संसद में जानकारी दी, जो अप्रैल महीने में सबसे ज्यादा देखी गई हैं।

लेकिन चीन (China) पर उन्होंने कहा कि ‘पिछले छह महीनों में इंडो-चीन बॉर्डर (Indo-China border) पर कोई घुसपैठ रिपोर्ट नहीं की गई (No intrusion on Indo-China border in last 6 months:Govt)है।’

सरकार की इस कोशिश को चीन की गतिविधियों को कम अहमियत देने और यह दिखाने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है कि भारत LAC पर अपनी मजबूत स्थिति में बना हुआ है।

गौरतलब है कि रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने भी संसद में मंगलवार को कहा गया था कि चीन लद्दाख में लगभग 38,000 वर्ग किमी क्षेत्र पर अवैध कब्जा किए हुए हैं।

उन्होंने बताया कि ‘मई के मध्य में, चीन ने पश्चिमी सेक्टर के हिस्सों में LAC पार करने की कोशिश की थी।

इसमें कोंगका ला, गोगरा और पैंगॉन्ग झील का उत्तरी किनारा शामिल थे। किसी को भी देश की सीमाओं की सुरक्षा को लेकर हमारी प्रतिबद्धता पर शक नहीं करना चाहिए।

भारत मानता है कि पारस्परिक सम्मान और संवेदनशीलता पड़ोसियों के साथ शांतिपूर्ण संबंधों का आधार है।’ दरअसल, LAC के पास चीन के अतिक्रमण को लेकर अभी तक सरकार ने आधिकारिक तौर पर स्थिति साफ नहीं की है।

इतना ही नहीं, अगस्त महीने में, रक्षा मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर एक दस्तावेज अपलोड किया था, जिसमें कहा गया था कि ‘5 मई, 2020 के बाद से LAC पर, खासकर गलवान घाटी में चीनी घुसपैठ बढ़ती जा रही है,

और ‘चीन 17-18 मई को कुंगरंग नाला, गोगरा और पैंगॉन्ग त्सो झील के उत्तरी किनारे वाले इलाकों में चीनी पक्ष घुसा है।’ लेकिन फिर इसे डिलीट कर दिया गया था।

 

No intrusion on Indo-China border in last 6 months:Govt

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × one =

Back to top button