breaking_newsअन्य ताजा खबरेंबीमारियां व इलाजहेल्थ
Trending

सावधान ! लॉकडाउन में घर बैठे पी रहे है जूस, कोल्डड्रिंक तो सबकुछ हो जाएगा गड़बड़

जानियें ColdDrinks के साइड इफेक्ट्स

cold drinks side effects

नई दिल्ली : देश भर में कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन जारी है l जिस वजह से लोग घर में कैद हो गये है l

घर के बाहर गर्मी का आलम है ऐसे में लोग घर पर मीठे पेय पदार्थ मतलब की कोल्डड्रिंक्स जूस वगैरह का अत्यधिक सेवन करते है l

 इनके सेवन से शरीर पर काफी गहरा असर हो सकता है l यह आपको लगभग कोमा की स्थिति में भी ले जा सकते है l

ऐसे भी कोरोना में कोल्ड ड्रिंक्स को खतरनाक बताया गया है l

Covid 19 व अन्य कई बीमारियों को बढ़ाने में कोल्ड ड्रिंक्स – आग में घी का काम करते है l   

मीठे पेय पदार्थ याददाश्त के लिए नुकसानदेह होते हैं। एक शोध में पता चला है कि इस तरह के पेय पदार्थो से स्ट्रोक और डिमेंशिया का खतरा बढ़ जाता है।

शोध के निष्कर्षो के अनुसार, मीठे पेय पदार्थो से दिमाग की याददाश्त पर प्रभाव पड़ता है। इन निष्कर्षो को दो पत्रिकाओं में प्रकाशित किया गया है।

शोध का प्रकाशन पत्रिका ‘अल्जाइमर्स एंड डिमेंशिया’ में किया गया है। cold drinks side effects

पत्रिका में कहा गया है कि मीठे पेय पदार्थो का सेवन करने वालों में खराब स्मृति, दिमाग के आयतन में कमी और खास तौर से हिप्पोकैम्पस छोटा होता है।

हिपोकैम्पस दिमाग का वह भाग होता है जो सीखने और स्मृति के लिए जिम्मेदार होता है।

इस शोध के दूसरे भाग का प्रकाशन पत्रिका ‘स्ट्रोक’ में किया गया है।

इसमें कहा गया है कि दिन में रोजाना सोडा पीने वाले लोगों में स्ट्रोक और डिमेंशिया का खतरा नहीं पीने वालों की तुलना में तीन गुना होता है।

शोधकर्ताओं ने कृत्रिम मीठे को लेकर कई तरह की परिकल्पनाओं को भी प्रस्तुत किया है। इसमें इनके हानिकारक प्रभावों को भी बताया गया है। cold drinks side effects

बोस्टन विश्वविद्यालय के शोध के प्रमुख लेखक मैथ्यू पेस ने कहा, “हमें इस दिशा में अधिक काम करने की जरूरत है।”

( इनपुट समयधारा के पुराने पन्नों से )

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × three =

Back to top button