breaking_newsHome sliderदेशराजनीति

हिंदू आतंकवाद-हिंदू समाज का अपमान : अमित शाह : अमित शाह

भोपाल, 4 मई : हिंदू आतंकवाद-हिंदू समाज का अपमान : अमित शाह : अमित शाह 

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार को भोपाल में पार्टी की प्रदेशस्तरीय विस्तारित बैठक को संबोधित करते हुए कांग्रेस और पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी पर जमकर हमला बोला।

साथ ही कांग्रेस पर हिंदू समाज को अपमानित करने, ‘हिंदू आतंकवाद’ शब्द की उत्पत्ति का आरोप लगाया।

अमित शाह ने भेल के दशहरा मैदान में आयोजित कार्यकर्ता रैली में कहा कि कांग्रेस ने हिंदू आतंकवाद शब्द की उत्पत्ति करके न सिर्फ हिंदू समाज को बदनाम किया, बल्कि तुष्टीकरण का रास्ता अपनाते हुए राष्ट्रवादी तत्वों को भगवा आतंकवाद के नाम पर जेल में ठूंस दिया, लेकिन न्यायालय ने इन राष्ट्रवादियों को ससम्मान दोषमुक्त कर दिया है।

यह कांग्रेस के मुंह पर करारा तमाचा ही नहीं, बल्कि इसने कांग्रेस द्वारा की जा रही साजिश की पोल भी खोल दी है।

कांग्रेस ने सदैव संवैधानिक संस्थाओं की गरिमा को भंग किया और उन्हें लांछित करने में कभी कमी नहीं की। इससे साबित होता है कि उसे न लोकतंत्र की चिंता है और न संविधान का सम्मान।”

सच तो यह है कि ‘हिंदू आतंकवाद’ शब्द तत्कालीन केंद्रीय गृह सचिव आर.के. सिंह ने दिया था, जो इस समय मोदी मंत्रिमंडल में मंत्री हैं और उन्होंने ही लालकृष्ण आडवाणी का रथ बिहार के समस्तीपुर में रुकवाकर उन्हें गिरफ्तार किया था। उन्होंने ही समझौता एक्सप्रेस और मालेगांव विस्फोट मामले के आरोपियों की सूची जारी की थी। 

अमित शाह ने कर्नाटक में जीत का दावा करते हुए कहा, “भाजपा ने 2014 के आम चुनाव में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने के बाद जितने भी विधानसभा चुनाव हुए सभी में जीत दर्ज की। महाराष्ट्र से शुरू हुआ जीत का यह सिलसिला कर्नाटक में भी जारी रहेगा। 15 मई को आने वाले नतीजों में भाजपा लगातार 15वें राज्य में जीत दर्ज करेगी।”

मध्यप्रदेश के आगामी विधानसभा चुनावों का जिक्र करते हुए शाह ने कहा कि यहां भाजपा को हराने का दम कांग्रेस में नहीं है, क्योंकि यहां मुकाबला कार्पोरेट समर्थक और किसान के बीच है। 

शाह ने कहा, “मध्य प्रदेश में भाजपा का अंगद की तरह पैर अडिग है, जिसे कोई उखाड़ नहीं सकता।

देश में कांग्रेस का हाल यह हो गया है कि राहुल बाबा को दूरबीन का उपयोग करने पर भी कांग्रेस कहीं नहीं दिखती।”

कांग्रेस के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ का नाम लिए बगैर शाह ने कहा, “कांग्रेस का कार्पोरेट समर्थक चेहरा है तो भाजपा की ओर से किसान। इन दोनों के बीच मुकाबला है। कांग्रेस ने राजा-महाराजा को आगे किया है। जनता सबकी वास्तविकता को जानती है। उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को पिछड़ा वर्ग विरोधी करार दिया।” 

शाह ने आगे कहा, “भाजपा वर्ष 2014 में केंद्र की सत्ता में आई, उसके बाद से हुए सभी विधानसभा चुनावों में भाजपा ने जीत दर्ज की है। कांग्रेस को हर तरफ हार का सामना करना पड़ा है और कर्नाटक में 15 मई को जो नतीजे आएंगे, उसमें भी भाजपा को जीत मिलेगी।”

भाजपा अध्यक्ष ने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि वह देश में बंटवारे की राजनीति को बढ़ावा दे रही है, जातिगत आंदोलन भड़काने की कोशिश करेगी, ऐसे में संगठन की जिम्मेदारी होगी कि वह ऐसे लोगों की मंशा विफल कर दे।

शाह ने आगे कहा कि 2018 के विधानसभा चुनाव में पार्टी भारी बहुमत के साथ चुनाव जीतेगी। प्रदेश के पार्टी के एक करोड़ सदस्य इसकी बड़ी शक्ति है और यह सदस्य प्राणपण से जुटकर कांग्रेस के लिए उसका स्थान सुनिश्चित करेंगे। 

उन्होंने कहा, “यह एक करोड़ कार्यकर्ता पांच दिनों तक बूथ स्तर तक जाएंगे तो पूरे प्रदेशभर में हम योजनाओं और विचारधाराओं को व्यवस्थित तरीके से पहुंचा सकते हैं और ऐसा करने के बाद दुनिया की कोई ताकत हमें सफलता के शिखर पर पहुंचने से नहीं रोक सकती। हमने अपनी शक्ति का परिचय 2003 में दिया है। 2008 में दिया है और 2013 में भी दिया है। हमारी शक्ति उत्तरोत्तर बढ़ रही है और मुझे विश्वास है कि 2018 में हमारे देवदुर्लभ कार्यकर्ताओं और समर्पण के दम पर पिछले रिकार्ड भी तोड़ेंगे।”

शाह ने कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि वे राज्य से कांग्रेस को समूल उखाड़ फेंकें और यहां से तय करके जाएं कि जिन दो क्षेत्रों (छिंदवाड़ा और गुना) में भाजपा नहीं जीतती है, वहां की सभी विधानसभा सीटों को जीतना है। 

इस मौके पर राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल, केंदीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित अनेक नेता मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन महामंत्री विष्णुदत्त शर्मा ने किया। 

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अपने निर्धारित समय से लगभग दो घंटे की देरी से भोपाल पहुंचे। स्टेट हैंगर पर शाह की अगवानी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह सहित अन्य नेताओं और कार्यकर्ताओं ने की। उनका जोरदार स्वागत हुआ। कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बाद शाह कर्नाटक के लिए रवाना हो गए।

–आईएएनएस

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

7 − one =

Back to top button