breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबीमारियां व इलाजहेल्थ
Trending

गुड न्यूज! कोरोना पर सबसे ज्यादा प्रभावी दवा,अब भारत में भी जल्द उपलब्ध

इस दवा का इंजेक्‍शन केवल प्रिस्क्रिप्‍शन पर मिलेगा और अस्‍पताल या इंस्‍टीट्यूशनल सेटअप में ही उसका इस्तेमाल होगा...

Most effective coronavirus treatment medicine Remdesivir

नई दिल्‍ली:कोरोनावायरस(Coronavirus)के कहर को झेल रहेभारतीयों के लिए एक खुशखबरी है। कोरोना के मरीजों पर सबसे ज्यादा असरदार साबित हुई दवा अब जल्द ही भारत में भी उपलब्ध होगी।

जी हां, कोरोना संक्रमितों के इलाज (Corona positive treatment) में अब तक सबसे ज्यादा असरदार साबित रही दवा रेमडेसिवीर (Remdesivir) अब भारत में भी बिक्री के लिए उपलब्ध (Remdesivir now available in India) होगी।

दरअसल, अमेरिका में इस दवा के क्लिनिकल ट्रायल के नतीजे बहुत ही उत्साहवर्धक और उम्मीद जताने वाले साबित हुए है।

COVID-19 महामारी ने जहां विश्व को बेहाल कर रखा है।वहीं रिसर्चर रात-दिन कोरोनावायरस की दवा (Coronavirus medicine) बनाने में जुटे है।

कोरोना के प्रकोप को देखते हुए सेंट्रल ड्रग्‍स स्‍टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (CDSCO) ने रेमडेसिवीर (Remdesivir) के ‘इमर्जेंसी यूज’ को अनुमति दे दी (Most effective coronavirus treatment medicine Remdesivir)है।

रेमडेसिवीर की मार्केटिंग का ऑथराइजेशन अमेरिकी कंपनी Gilead Sciences को मिला है।

 

 

रेमडेसिवीर के इस्तेमाल के लिए क्या है गाइडलाइन?

Most effective coronavirus treatment medicine Remdesivir

-फिलहाल तो CDSCO ने रेमडेसिवीर के इस्‍तेमाल को सीमित किया है।

-यह दवा कोरोना संक्रमण के संभावना वाले या कन्फर्म मरीजों को 5 दिन दी जा सकती है,लेकिन वो भी इमरजेंसी में।

रेमडेसिवीर को भारत में इंजेक्शन के रूप में अप्रूवल मिला है।

-इस दवा का इंजेक्‍शन केवल प्रिस्क्रिप्‍शन पर मिलेगा और अस्‍पताल या इंस्‍टीट्यूशनल सेटअप में ही उसका इस्तेमाल होगा।

-सामान्यत: यह दवा मरीजों को 10 दिन के दी जाती है लेकिन भारत में यह समय सीमा 5 दिन रखी गई है।

 

 

महज 4 दिन में मिला कोरोना की इस दवा को अप्रूवल

Most effective coronavirus treatment medicine Remdesivir

कोरोना महामारी के हालातों को देखते हुए इस दवा के अप्रूवल प्रोसेज को तेज दिया गया था।

समाचार एजेंसी पीटीआई ने एक सूत्र के हवाले से बताया कि न्‍यू ड्रग एंड क्लिनिकल ट्रायल रूल्‍स, 2019 के स्‍पेशल प्रोविजंस का इस्‍तेमाल कर अप्रूवल दिया गया है।

सामान्‍य परिस्थितियों में भारत में किसी दवा को बिना क्लिनिकल ट्रायल के अप्रूवल नहीं मिलता।

भारत में यह दवा Gilead की मैनुफैक्‍चरिंग यूनिट से मुंबई की क्लिनेरा ग्‍लोबल सर्विसेज के पास इम्‍पोर्ट होगी।

 

 

 रेमडेसिवीर रिकवरी में कम वक्त लगाती है

Most effective coronavirus treatment medicine Remdesivir

अमेरिका के नैशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इन्‍फेक्शियस डिजीजेज (NIAID) की ओर से फंडेड ट्रायल में रेमडेसिवीर ने अच्‍छे नतीजे दिए है।

द न्‍यू इंग्‍लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन (NEJM) के अनुसार, COVID-19 मरीजों के इलाज में Remdesivir का 10 दिन का कोर्स प्‍लेसीबो से कहीं ज्‍यादा असरदार साबित हुआ है।

जब दोनों तरीकों से इलाज किया गया तो पाया गया कि रिकवरी में लगने वाला समय Remdesivir में कम था।

हालांकि डाटा इस बात को भी दिखाता है कि अकेले इस दवा से कोरोना (Corona treatment) का इलाज नहीं हो सकेगा।

इसलिए रिसर्चर्स ने सुझाव दिया था कि अलग-अलग कॉम्बिनेशन ट्राई करके देखने चाहिए।

 

 

Remdesivir से किन मरीजों को हुआ फायदा?

Most effective coronavirus treatment medicine Remdesivir

रिसर्चर्स ने पाया कि 14 दिन के आधार पर, प्‍लेसीबो ट्रीटमेंट का मार्टलिटी रेट 11.9 पर्सेंट रहा है, जबकि remdesivir के साथ मार्टलिटी रेट 7.1% रहा।

हालांकि 7.1% की दर भी बहुत ज्‍यादा है जिसे लेकर रिसर्चर्स अपनी चिंता जाहिर कर चुके हैं।

रिसर्चर्स ने कहा है कि शुरुआती रिपोर्ट्स के मुताबिक, “remdesivir उन मरीजों पर प्रयोग हो सकती है जो कोविड-19 से पीड़ित हैं और जिन्‍हें सप्लिमेंटल ऑक्‍सीजन थेरेपी की जरूरत है।

 

 

अमेरिका में भी रेमडेसिवीर का इस्तेमाल गंभीर सिचुएशन वाले मरीजों पर होता है

गौरतलब है कि रेमडेसिवीर का पहले इस्तेमाल इबोला वायरस के लिए भी किया जा चुका है। यह मिडल ईस्‍ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (MERS) और सीवियर एक्‍यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (SARS) पर भी Remdesivir असरदार है।

MERS और SARS भी कोरोनावायरस से होने वाली बीमारियां हैं। US फूड एंड ड्रग एडमिनिस्‍ट्रेशन (FDA) ने बीते महीने गंभीर रूप से बीमार कोरोना मरीजों पर इमर्जेंसी में remdesivir यूज करने की अनुमति दे दी थी।

 

 

Most effective coronavirus treatment medicine Remdesivir

 

 

 

(इनुपट एजेंसी से भी)

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

15 + four =

Back to top button