breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबिजनेसबिजनेस न्यूजराज्यों की खबरें

मोरटोरियम पीरियड को लेकर आई बड़ी खुशखबरी, ब्याज पर ब्याज माफ़

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा मोरटोरियम पीरियड में ब्याज पर ब्याज माफ करने को तैयार

willing-to-waive-off-interest-on-interest-during-moratorium centre government-to-supreme-court 

नई दिल्ली (समयधारा) : मोरटोरियम पीरियड को लेकर आई बड़ी खुशखबरी, ब्याज पर ब्याज नहीं लगेगा l 

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि वह मोरटोरियम पीरियड में ब्याज पर ब्याज माफ करने को तैयार है l 

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग (MSME) और व्यक्तिगत कर्जधारको के लिए भारी राहत की खबर है।

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि वह मोरेटोरियम अवधि (मार्च से अगस्त तक) के दौरान ब्याज पर ब्याज को माफ करने के लिए तैयार हो गई है।

Loan Moratorium पर सुप्रीम कोर्ट के बोल-RBI के पीछे न छुपें,लोगों की दुर्दशा के बारे में भी सोचना चाहिए

ये राहत दो करोड़ रुपये तक के लोन पर मिल सकती है। इस ब्याज पर ब्याज माफी में MSME,एजूकेशन, हाउसिंग,

कंज्यूमर ड्यूरेबल, ऑटो, क्रेडिट कार्ड बकाया, कारोबार और उपभोग के लिए लिए गए कर्ज शामिल होंगे।

willing-to-waive-off-interest-on-interest-during-moratorium centre government-to-supreme-court 

गौरतलब है कि पिछले सप्ताह सुप्रीम कोर्ट ने लोन मोरेटोरियम अवधि के दौरान ऋण के ब्याज पर ब्याज लेने के खिलाफ

दो जनहित याचिकाओं पर सुनवाई 5 अक्तूबर यानी सोमवार के लिए स्थगित की थी।

SBI ग्राहक कृप्या ध्यान दें,आप लोन रिस्ट्रक्चर का फायदा ले सकते है या नहीं, करें चेक

पिछली सुनवाई के दौरान वरिष्ठ एडवोकेट राजीव दत्ता ने कहा था कि केंद्र सरकार इस मामले में कोई ठोस फैसला नहीं ले पाई है।

इसलिए केंद्र को विभिन्न क्षेत्रों के लिए कुछ ठोस योजना पेश करने को कहा गया था।

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा दाखिल कर कहा है कि MSME कर्ज, एजूकेशन, आवास, उपभोक्ता,

ऑटो, क्रेडिट कार्ड बकाया, पेशेवर और उपभोग लोन पर लागू कंपाउंडिंग इंट्रेस्ट को माफ किया जाएगा।

सरकारी हलफनामे के मुताबिक 6 महीने के लोन मोराटोरियम समय में दो करोड़ रुपये तक के लोन के ब्याज पर ब्याज की छूट देगी।

willing-to-waive-off-interest-on-interest-during-moratorium centre government-to-supreme-court 

केंद्र ने कहा है कि कोरोना वायरस महामारी की स्थिति में ब्याज की छूट का भार सरकार वहन करे  केवल यही समाधान है।

साथ ही केंद्र ने कहा है कि उपयुक्त अनुदान के लिए संसद से अनुमति मांगी जाएगी।

इस हलफनामें में सरकार ने आगे कहा है कि ब्याज पर ब्याज माफी उपर उल्लिखित सभी श्रेणियों के कर्ज पर लागू होगी चाहे

इन पर कर्जधारक ने मोरेटोरियम लिया हो या नहीं लिया है।

अगर कर्ज पर कर्ज माफी का ये भार सरकार अपने ऊपर न लेकर बैंकों पर छोड़ देती तो बैंकों पर 6 लाख करोड़ रुपए को बोझ पड़ता।

इसका देश के बैंकिंग सिस्टम पर बहुत ही बुरा असर होता। इस स्थिति में ब्याज की छूट का भार सरकार वहन करे  केवल यही समाधान है।

इस हलफनामें मे आगे कहा गया है कि अगर   6 लाख करोड़ रुपए की ये जिम्मेदारी बैंको पर छोड़ दी जाती है तो,

इससे उनके नेटवर्थ का बड़ा हिस्सा साफ हो जाएगा और तमाम बैंकों लिए अस्तित्व बचाना मुश्किल हो जाएगा। ऐसे में सरकार ये भार वहन करने को तैयार है।

willing-to-waive-off-interest-on-interest-during-moratorium centre government-to-supreme-court 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × five =

Back to top button