breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबीमारियां व इलाजहेल्थ
Trending

Zycov-D-12साल से ऊपर के बच्चों के लिए पहली कोरोना वैक्सीन को भारत में मंजूरी

Zydus Cadila की Zycov-D वैक्सीन दुनिया की पहली DNA वैक्सीन है।इस वैक्सीन के आपात इस्तेमाल को अधिकृत मंजूरी मिलने के बाद इसकी तीन डोज 0, 28 और 56 दिनों के अंतराल पर दी जा सकती है।

India-approves-Zycov-d-first-Covid-19-vaccine-for-children-above-12

नई दिल्ली:लंबे इंतजार के बाद आखिरकार देश में बच्चों के लिए पहली कोरोना वैक्सीन(Corona Vaccine)को मंजूरी मिल ही गई।

DCGI ने आज शुक्रवार को Zydus Cadila द्वारा निर्मित Zycov-D वैक्सीन को मंजूरी दे दी गई है।

यह वैक्सीन 12 साल से ऊपर के बच्चों के लिए उपलब्ध(India-approves-Zycov-d-first-Covid-19-vaccine-for-children-above-12) होगी।

Zydus Cadila की Zycov-D वैक्सीन दुनिया की पहली DNA वैक्सीन है।

Corona-third-wave: 6-8 महीने बाद कोरोना की तीसरी लहर,जुलाई-अगस्त से बच्चों को मिलेगा टीका:सरकार

इस वैक्सीन के आपात इस्तेमाल को अधिकृत मंजूरी मिलने के बाद इसकी तीन डोज 0, 28 और 56 दिनों के अंतराल पर दी जा सकती है।

इस वैक्सीन पर अभी तक का सबसे बड़ा ट्रायल हुआ है, जिसमें तकरीब 28000 लोग शामिल हुए थे।

विशेष बात यह है कि यह इंजेक्शन फ्री वैक्सीन है। ये फार्मा जेट इंजेक्शन फ्री सिस्टम के द्वारा दिया जाता है। इस वैक्सीन को 2 से 8 डिग्री पर स्टोर किया जा सकता है।

इससे पूर्व, Covishield, कोवैक्सीन(Covaxin),स्पूतनिक(Sputnik V), Moderna और Johnson and  Johnson को भारत में मंजूरी मिल चुकी है।

इस टीके को मंजूरी मिलने के बाद 12 साल से ऊपर के बच्चों के कोविड वैक्सीनेशन के रास्ते भी खुल गए हैं।

(India-approves-Zycov-d-first-Covid-19-vaccine-for-children-above-12)

Zydus ने इस वैक्सीन का निर्माण डिपार्टमेंट ऑफ बायोटेक्नोलॉजी के साथ मिलकर किया है।

इस वैक्सीन को मंजूरी मिलने के बाद देश में अब कोरोना के खिलाफ 6 वैक्सीन से लोगों को सुरक्षा दी जा सकेगी।

कंपनी ने कहा कि उसकी सालाना ZyCoV-D की 100 मिलियन से 120 मिलियन खुराक बनाने की योजना है।

कंपनी ने वैक्सीन का स्टॉक करना भी शुरू कर दिया है।

वैक्सीन लगवाने जाएं कहां? इस बात से है परेशान? तो WhatsApp पर पाएं सही जानकारी

कैडिला हेल्थकेयर लिमिटेड के रूप में सूचीबद्ध जेनेरिक दवा निर्माता ने 1 जुलाई को ZyCoV-D के प्राधिकरण के लिए आवेदन किया था।

वैक्सीन का ट्रायल 28,000 से अधिक स्वयंसेवकों पर किया गया है। परीक्षण में इसकी प्रभावकारिता 66.6 प्रतिशत आंकी गई है।

ZyCoV-D कोरोनावायरस के खिलाफ दुनिया का पहला प्लास्मिड डीएनए(DNA) वैक्सीन है।

यह वायरस से आनुवंशिक सामग्री के एक हिस्से का उपयोग करता है।

बॉयोटेक्नलॉजी विभाग के साथ साझेदारी में विकसित Zydus Cadila का टीका, भारत बायोटेक के Covaxin के बाद भारत में आपातकालीन प्राधिकरण प्राप्त करने वाला दूसरा घरेलू शॉट है.

दवा निर्माता ने जुलाई में कहा था कि उसका COVID-19 वैक्सीन नए कोरोनावायरस(Coronavirus) म्यूटेंट, विशेष रूप से डेल्टा वेरिएंट(Delta Variant) के खिलाफ प्रभावी है,

और यह शॉट पारंपरिक सीरिंज के विपरीत सुई-मुक्त ऐप्लिकेटर का उपयोग करके प्रशासित किया जाता है।

India-approves-Zycov-d-first-Covid-19-vaccine-for-children-above-12

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nine − 2 =

Back to top button