breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबिजनेसबिजनेस न्यूज
Trending

सरसों के तेल में फिर लगी आग, दाम 200 के पार

देश के कई राज्यों में सरसों के तेल की कीमतें 200 रुपये प्रति लीटर से अधिक हैं। बीते एक साल में सरसों के तेल की कीमतों में 70 से 80 फीसदी से अधिक की बढ़ोतरी हुई।

India Mustard Oil Price Updates In Hindi 

नयी दिल्ली (समयधारा) : देश भर में महंगाई कम होने का नाम ही नहीं ले रहीl

आम लोगों से जुडी सभी वस्तुओं के दाम आसमान छू रही है l महंगाई ने आम लोगों को परेशान कर दिया है।

अब सरसों के तेल की कीमतें आजकल आसमान छू रही हैं। गौर करने वाली बात है कि सरसों के तेल की कीमतें कुछ ही दिनों में तेजी से बढ़ रही हैं।

Delhi Pollution-दिल्ली के स्कूल अगले आदेश तक एक बार फिर बंद

Delhi Pollution-दिल्ली के स्कूल अगले आदेश तक एक बार फिर बंद

देश के कई राज्यों में सरसों के तेल की कीमतें 200 रुपये प्रति लीटर से अधिक हैं।

बीते एक साल में सरसों के तेल की कीमतों में 70 से 80 फीसदी से अधिक की बढ़ोतरी हुई।

देश की राजधानी दिल्ली में 1 दिसंबर 2020 को सरसों के तेल की कीमत 136 रुपये प्रति लीटर थी।

वहीं 1 दिसंबर 2021 को दिल्ली में सरसों का तेल 203 रुपये प्रति लीटर पहुंच गई है।

दामों में 70 से 80 फीसदी की बढ़ोतरी हो चुकी है। दामों में पिछले एक साल में 67 रुपये प्रति लीटर तक बढ़ चुके हैं।

Omicron Variant की भारत में एंट्री, कर्नाटक में दो मामलें, महाराष्ट्र सरकार अलर्ट

Omicron Variant की भारत में एंट्री, कर्नाटक में दो मामलें, महाराष्ट्र सरकार अलर्ट

उससे पहले 2019 से 2020 में सरसों के तेल के दाम में 50 फीसदी की बढ़ोतरी हुई थी।

सरसों के तेल के बढ़ते दाम आपकी खाने की थाली पर असर डालने लगा है।

India Mustard Oil Price Updates In Hindi 

बढ़ती कीमतों के कारण परिवारों ने इसका इस्तेमाल कम कर दिया है।

देश में खाद्य तेलों का ज्यादातर हिस्सा आयात किया जाता है। केंद्र सरकार ने खाद्य तेलों की कीमतों में कमी लाने के लिए बेसिक ड्यूटी घटा दी थी।

इसमें कच्चे पाम ऑयल, कच्चे सोयाबीन तेल और कच्चे सूरजमुखी तेल आदि शामिल थे।

देश भर में आज से माचिस के दाम 1 रुपये से बढ़कर 2 रुपये, 14 साल बाद बड़े दाम

देश भर में आज से माचिस के दाम 1 रुपये से बढ़कर 2 रुपये, 14 साल बाद बड़े दाम

इसके अलावा खाद्य तेलों के दाम काबू में रखने के लिए पाम ऑयल, सूरजमुखी का तेल और सोयाबीन के तेल पर लगनेवाले आयात शुल्क को भी ठीक किया था।

इसका असर कीमतों पर नजर आया लेकिन बहुत ज्यादा असर दाम कम होने पर नजर नहीं आया।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × two =

Back to top button