breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीति
Trending

Lakhimpur Kheri case:आखिरकार ‘मंत्री का बेटा’ आशीष मिश्रा पुलिस पूछताछ में हुआ शामिल,समर्थकों की भीड़ जुटी

वहीं लखीमपुर केस में किसी भी दबाव के तहत किसी भी कार्रवाई से यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इनकार किया है।

lakhimpur-kheri-case-Minister-son-Ashish-Mishra-arrives-at-Crime-Branch office-today

लखनऊ:लखीमपुर खीरी हिंसा केस (Lakhimpur Kheri Violence Case) में बेहरमी से अपनी कार से किसानों को कुचलने के आरोपी केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष(Minister-son-Ashish-Mishra)आखिरकार आज,शनिवार(9 अक्टूबर)को यूपी पुलिस के क्राइम ब्रांच ऑफिस पहुंच (Ashish-Mishra-arrives-at-Crime-Branch office-today)गए है।

आशीष मिश्रा से पूछताछ(interrogation)जारी है और सवाल दागे जा रहे है,जिनका एक-एक करके मंत्री पुत्र आशीष मिश्रा जवाब दे रहे है।

आशीष के साथ उनके वकील भी है।अब देखना है कि केंद्रीय मंत्री के बेटे की गिरफ्तारी होती है या रिहाई। चूंकि यूपी पुलिस ही इसका फैसला करेगी। 

डीआईजी और एसपी भी पुलिस लाइंस में मौजूद हैं।

आपको बता दें कि 3अक्टूबर को लखीमपुर खीरी(Lakhimpur Kheri)में चार किसानों को अपनी कार से कथित रुप से रौंदने के आरोपी आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी तो दूर,अभी तक यूपी पुलिस ने उन्हें समन तक नहीं भेजा था।

सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद उन्हें दो-दो बार समन भेजा गया,तब जाकर आशीष मिश्रा आज शनिवार को क्राइम ब्रांच(Crime Branch)के ऑफिस अपने समर्थकों की भीड़ के साथ पहुंचे।

lakhimpur-kheri-case-Minister-son-Ashish-Mishra-arrives-at-Crime-Branch office-today

सुप्रीम कोर्ट(Supreme Court)पहले ही इस मामले में यूपी सरकार की जांच से नाखुशी जता चुका है और सवाल पूछे है कि आखिर आशीष मिश्रा जिस पर मर्डर की धाराएं है,उन्हें अभी तक गिरफ्तार क्यों नहीं किया(Why Ashish Mishra not arrested yet) गया।

कोर्ट ने संकेत दिए है कि जांच की जिम्मेदारी किसी और एजेंसी को भी दी जा सकती है।

पुलिस ने आशीषी मिश्रा को सीआरपीसी की धारा 160 के तहत समन भेजा है।

माना जा रहा है कि अगर पुलिस (UP Police)आशीष के जवाब से संतुष्ट नहीं होती है तो उनकी गिरफ्तारी भी हो सकती है। हालांकि योगी सरकार और यूपी पुलिस के रवैये पर अब सुप्रीम कोर्ट ने भी सवाल खड़े किए है।

खैर,किसी भी तरह की अप्रिय घटना से बचने के लिए  लखीमपुर खीरी में सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

राहुल गांधी को देर तक लखनऊ एयरपोर्ट पर रोकने के बाद लखीमपुर जाने की इजाजत

आशीष मिश्रा को वैसे तो कल (शुक्रवार) को ही पेश होने की नोटिस दी गई थी, लेकिन जब वह नहीं पहुंचे तो दो बजे के बाद पुलिस ने सीआरपीसी की धारा 160 के तहत दूसरी नोटिस घर चस्पा कर दी, अब आज (शनिवार) दोपहर 11 बजे तक कमेटी के सामने पेश होने को कहा गया है।

lakhimpur-kheri-case-Minister-son-Ashish-Mishra-arrives-at-Crime-Branch office-today

वहीं पुलिस ने इस मामले के दो आरोपियों को जेल भेज दिया है।

इससे पहले कल ही खीरी पहुंचे कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू(Navjot Singh Siddhu) बवाल में मारे गए निघासन के पत्रकार के घर सिद्धू धरने व मौन अनशन पर पर बैठ गए।

सिद्धू ने घटना के मुख्य आरोपी गृहराज्यमंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी तक मौन धारण करने की बात कही।

गिरफ्तार प्रियंका गांधी ने पीएम मोदी को भेजा ये Video,गेस्ट हाउस बना अस्थायी जेल,11पर केस दर्ज

पहले वह कुछ देर बैठे रहे और बाद में टिन शेड के नीचे तख्त पर लेट गए और आंखें बंद कर लीं।

वहीं लखीमपुर केस में किसी भी दबाव के तहत किसी भी कार्रवाई से यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (UP CM Yogi Adityanath)ने इनकार किया है।

यूपी के सीएम ने कहा है कि उनकी सरकार किसी पर भी महज आरोपों के आधार पर कार्रवाई नहीं करेगी। मुख्यमंत्री का कहना है कि ठोस सबूतों के आधार पर मामले में कार्रवाई की जाएगी।

 

lakhimpur-kheri-case-Minister-son-Ashish-Mishra-arrives-at-Crime-Branch office-today

ताजा अपडेट्स के अनुसार:

 पूछताछ के दौरान आशीष पर हो रही सवालों की बौछार, बाहर समर्थकों का हुजूम लगा है। समर्थक नारेबाजी कर रहे हैं।

– आशीष मिश्रा के साथ उनके वकील भी पूछताछ कमरे में हैं मौजूद

– आशीष मिश्रा से शुरू हो गई पूछताछ, एसआईटी के सामने पहले रखेंगे अपना पक्ष

-समय से पहले और दूसरे रास्ते से क्राइच ब्रांच कार्यालय पहुंचे आशीष मिश्रा

-पुलिस लाइन पेशी पर पहुंचे आशीष मिश्रा,क्राइम ब्रांच करेगी पूछताछ

– लखनऊ में रैली में मायावती बोलीं, लखीमपुर की घटना शोषण का उदाहरण

-पुलिस लाइन पहुंचे पुलिस अधिकारी, क्राइम ब्रांच कर सकता है लंबी पूछताछ

-आशीष मिश्रा के वकील ने की पुष्टि, कुछ देर में आशीष मिश्रा पुलिस लाइन पहुंचने वाले हैं

-अजय मिश्रा घर से निकले, बेटे को लेकर कुछ देर में पहुंचेंगे पुलिस लाइन

-अजय मिश्रा ने कहा कि मेरा बेटा कहीं नहीं गया है, वो शहपुरा में अपनी कोठी में है। आपको विश्वास नहीं है तो लखीमपुर चलो।

 – संयुक्त किसान मोर्चा ने किया ऐलान, 18 अक्टूबर को करेंगे रेल रोको आंदोलन

-आशीष मिश्रा के पेश होने से पहले पुलिस लाइन में बढ़ी हलचल, बढ़ाई सुरक्षा, की गई बैरेकेडिंग

-खीरी जिले में रविवार शाम आठ बजे से बंद नेट सेवा शुक्रवार की अलसुबह शुरू की गई थी।

शुक्रवार को लोगों ने कई दिनों से लंबित पड़े काम पूरे किए। किसी ने नेट बैंकिंग का काम निपटाया तो किसी ने ऑनलाइन खरीदारी की। पर रात को आठ बजे प्रशासन ने फिर नेट सेवा पर ब्रेक लगा दिया है।

सूत्रों ने बताया कि नेट सेवा रविवार की शाम 5 बजे तक इंटरनेट सेवाएं बाधित रहेंगी।

lakhimpur-kheri-case-Minister-son-Ashish-Mishra-arrives-at-Crime-Branch office-today

 

हेल्पलाइन जारी,यहां दे सकते हैं जानकारी

उधर, तिकुनिया कांड की जांच के लिए पुलिस महानिदेशक उत्तर प्रदेश के निर्देश पर हाई-लेवल पर्यवेक्षण समिति ने हेल्पलाइन नंबर जारी किया है।

इसमें आम लोगों से घटना से जुड़े वीडियो साक्ष्य मांगे गए हैं। घटना के संबंध में अगर किसी को कोई भी जानकारी, वीडियो क्लिप है तो वह ईमेल spkhi-up.nic.in पर दे सकता है।

इसके अलावा समिति के पदाधिकारियों के मोबाइल नम्बर पर भी जानकारी दे सकता है। इसके लिए मोबाइल नम्बर जारी किए गए हैं।

मोबाइल नंबर- 9454400454, सुनील कुमार सिंह सेनानायक 10वीं वाहिनी पीएसी बाराबंकी के मोबाइल-9454400394, अरुण कुमार सिंह अपर पुलिस अधीक्षक खीरी के मोबाइल नंबर- 9454401072, संदीप सिंह क्षेत्राधिकारी मितौली के मोबाइल नम्बर 9454402453, संजय नाथ तिवारी क्षेत्राधिकारी गोला के मोबाइल नंबर-9454401486 पर दे सकता है।

इसके अलावा जारी किए गए हेल्पलाइन नंबर 9454403800 पर सूचना व साक्ष्य दे सकते हैं। साक्ष्य देने वाले की पहचान गुप्त रखी जाएगी।

 

 

lakhimpur-kheri-case-Minister-son-Ashish-Mishra-arrives-at-Crime-Branch office-today

(इनपुट एजेंसी से भी)

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

7 + 14 =

Back to top button