breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंराज्यों की खबरें
Trending

Breaking News-हिजाब पर हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, कही बड़ी अहम् बातें, इस्लाम में…

मुस्लिम महिलाओं का हिजाब पहनना इस्‍लाम में जरूरी धार्मिक रिवाज नहीं है.

karnataka hijab vivad par high court ka faisla hijab islam ka hissa nahi 

बैंगलुरु/कर्नाटक (समयधारा): Breaking News-हिजाब पर हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, कही ये 3 बड़ी अहम् बातें l

  1. मुस्लिम महिलाओं का हिजाब पहनना इस्‍लाम में जरूरी धार्मिक रिवाज नहीं है।
  2. स्‍कूल यूनिफॉर्म तय करने पर स्‍टूडेंट्स आपत्ति नहीं जता सकते।
  3. सरकार के पास आदेश जारी करने की शक्तिl

कर्नाटक हाईकोर्ट ह‍िजाब विवाद (Hijab Controversy) पर अपने फैसले में कहा है क‍ि ह‍िजाब (Hijab) इस्‍लाम का अभ‍िन्‍न हि‍ंसा नहीं है।

ऐसे में कोर्ट ने सभी याचिकाएं रद्द कर दी हैं। कर्नाटक हाई कोर्ट ने हिजाब विवाद की सुनवाई पिछले महीने पूरी कर ली थी।

Kharmas 2022: शुरू हो गया खरमास या अधिकमास,मलमास, अब न करें ये शुभ काम

Kharmas 2022: शुरू हो गया खरमास या अधिकमास,मलमास;अब न करें ये शुभ काम

इस मामले की सुनवाई पूर्ण पीठ ने की थी जिसमें मुख्य न्यायाधीश रितुराज अवस्थी,

न्यायमूर्ति जेएम खाजी और न्यायमूर्ति कृष्ण एम दीक्षित शामिल हैं। तीन जजों की पीठ ने आज इस पर फैसला दे दिया।

कर्नाटक के शिक्षण संस्थानों में हिजाब के लेकर हाई कोर्ट पहुंचे इस विवाद पर

फुल बेंच ने 15 से ज्यादा दिनों तक सुनवाई चली और दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद पिछले हफ्ते फैसला सुरक्षित रख लिया था।

Punjab के अंतर्राष्ट्रीय कबड्डी खिलाड़ी संदीप नंगल की भरे मैदान में गोलियों से भूनकर हत्या

इधर मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए राज्य सरकार ने कर्नाटक के जिलों में धारा 144 लागू कर दी है।

जो इलाके सबसे ज्यादा संवेदनशील हैं वहां के शिक्षण संस्थानों के बंद रखने का फैसला लिया है।

कोर्ट ने फैसला सुनाने से पहले ह‍िजाब से जुड़े तीन सवालों के जवाब दिए।

karnataka hijab vivad par high court ka faisla hijab islam ka hissa nahi 

पहला सवाल- क्या इस्लाम के तहत हिजाब पहनना अनिवार्य धार्मिक प्रथा है?

चीन में वापस लौटा कोरोना,2 साल में पहली बार एक दिन में 3300 से अधिक नए केस

कोर्ट का जवाब- अदालत ने कहा कि मुस्लिम महिलाओं का हिजाब पहनना इस्‍लाम में जरूरी धार्मिक रिवाज नहीं है।

दूसरा सवाल- क्या अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और निजता के अधिकार के तहत हिजाब पहनना इस्लाम के तहत आवश्यक धार्मिक प्रथा है?

जवाब- कोर्ट ने कहा कि स्‍कूल यूनिफॉर्म तय करने पर स्‍टूडेंट्स आपत्ति नहीं जता सकते। स्कूल यूनिफॉर्म का प्रिस्क्रिप्शन केवल एक उचित प्रतिबंध

तीसरा सवाल- क्या 5 फरवरी का जीओ बिना दिमाग लगाए और स्पष्ट रूप से मनमाना जारी किया गया था?

जवाब- अदालत ने कहा कि सरकार के पास आदेश जारी करने की शक्ति है।

The Kapil Sharma Show क्यों छोड़ा अली असगर ने?अब किया खुलासा

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button