breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंराज्यों की खबरें

उत्तर भारत : दिल्ली सहित कई राज्यों में लू की मार, राजधानी में टूटा 90 साल का रिकॉर्ड

एक तरफ दक्षिण भारत में बारिश का कहर जारी है, तो दूसरी तरफ उत्तर भारत में सूर्य देवता ने अपना प्रकोप मचा रखा है.

North India: Heat wave hit many states including Delhi 90-year record broken in the capital

नई दिल्ली (समयधारा) : कोरोना वायरस ने देश भर में कहर तो मचा ही रखा है,

पर अब जुलाई में भी लोगों की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही l

एक तरफ दक्षिण भारत में बारिश का कहर जारी है तो दूसरी तरफ उत्तर भारत में सूर्य देवता ने अपना प्रकोप मचा रखा है l 

दिल्ली में तो लू ने जुलाई महीने के पहले ही दिन 90 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया l 

गर्मी ने जुलाई में भी रेकॉर्ड बनाने का सिलसिला कायम रखा है। मॉनसून के सीजन में दिल्ली तीन दिनों से लू का जबर्दस्त प्रकोप झेल रही है।

Friday thoughts:नहीं जीना मुझे अब उस नकली अपनों के मेले में

तापमान लगातार बढ़ रहा है। हालांकि आज कुछ राहत मिलने की उम्मीद है।

आंशिक तौर पर बादल छाएंगे, बूंदाबांदी होने की संभावना है। हालांकि तापमान में कुछ कमी आएगी, लेकिन उमस बढ़ेगी।

North India: Heat wave hit many states including Delhi 90-year record broken in the capital

1 जुलाई के पहले दिन तापमान 43.6 डिग्री तक पहुंच गया जो सामान्य से 5 डिग्री ज्यादा था l

मौसम विभाग के अनुसार, इससे पहले एक जुलाई 1931 को तापमान 45 डिग्री तक पहुंचा था।

जुलाई में दो बार 5 जुलाई 1987 और 2 जुलाई 2012 को तापमान 43.5 डिग्री तापमान दर्ज हुआ है।

गुरूवार यानीं 1 जुलाई को दिल्ली में अलग-अलग जगहों का तापमान इस प्रकार रहा : 

  • मंगेशपुर में तापमान 45.2 डिग्री 
  • नजफगढ़ में 44 डिग्री
  • पीतमपुरा में 44.3 डिग्री रहा

वही मौसम विभाग (IMD) के अनुसार पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर राजस्थान और उत्तर प्रदेश में अगले दो दिन तक ‘लू’ की स्थिति बनी रहने की संभावना है ।

आईएमडी (IMD) ने कहा कि राजधानी दिल्ली और उसके आस-पास के इलाकों में 7 जुलाई से पहले मॉनसून की बारिश होने की कोई संभावना नहीं है।

मतलब की अगले दो दिनों तक संपूर्ण उत्तर भारत में लू का प्रकोप रहेगा l सूर्य देवता अपना प्रकोप जारी रखेंगे l

उत्तर भारत के अधिकतर क्षेत्रों में गुरुवार को लोगों को ‘लू’ के कहर का सामना करना पड़ा।

जिसके चलते भीषण गर्मी ने लोगों का जीना दूभर कर दिया, गर्मी के प्रकोप के कारण कई राज्यों में बिजली की मांग भी बढ़ गयी है। 

 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button