breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरें

Good News: आज से 15000 भक्त रोजाना कर सकेंगे माता वैष्णोदेवी के दर्शन

कोरोनावायरस (Coronavirus) के कारण लगी पाबंदियों की वजह से अभी तक वैष्णोदेवी के मंदिर में दर्शन हेतु प्रतिदिन 7000 श्रद्धालुओं को ही जाने की अनुमति दी हुई थी...

Vaishno Devi Temple 15000 devotees able to visit today from Nov 1st

जम्मू: त्योहारी मौसम में माता रानी के भक्तों के लिए नवंबर का पहला दिन खुशखबरी लाया है।

आज यानि एक नवंबर,रविवार से रोजाना 15000 भक्त या श्रद्धालु माता वैष्णोदेवी के मंदिर (Vaishno Devi Temple) के दर्शन कर सकेंगे।

यह फैसला जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने शुक्रवार को घोषित किया है।

दरअसल, कोरोनावायरस (Coronavirus) के कारण लगी पाबंदियों की वजह से अभी तक वैष्णोदेवी (Vaishno Devi) के मंदिर में दर्शन हेतु प्रतिदिन 7000 श्रद्धालुओं को ही जाने की अनुमति दी हुई थी।

लेकिन अब जम्मू-कश्मीर (Jammu&Kashmir) प्रशासन ने शुक्रवार को कहा है कि 1 नवंबर से प्रतिदिन 15,000 श्रद्धालु माता वैष्णोदेवी ( Mata Vaishno Devi Mandir) धाम के दर्शन के लिए जा सकेंगे।

नयी मानक संचालन प्रक्रिया में प्रशासन ने कहा, ‘‘ आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत प्रदत्त शक्तियों के तहत राज्य कार्यकारी समिति आदेश देती है कि दिशानिर्देश 30 नवंबर, 2020 तक जारी रहेंगे और बस उसमें थोड़ा बदलाव किया गया,

अब एक नवंबर, 2020 से 7000 के बजाय 15000 श्रद्धालुओं को कटरा के एसएमवीडी धर्मस्थल जाने की जाने की इजाजत होगी।”

त्रिकुटा पहाड़ियों पर स्थित यह धर्मस्थल COVID-19 महामारी के चलते करीब पांच महीने तक बंद रहने के बाद 16 अगस्त को खुला था। प्रारंभ में प्रशासन ने 2000 श्रद्धालुओं को ही अनुमति दी थी।

जिसमें बाहर के बस 100 तीर्थयात्रियों को ही इजाजत थी। बोर्ड के अधिकारियों ने बताया, कि यात्रा पंजीकरण काउंटरों पर भीड़ को रोकने के लिए श्रद्धालुओं का ऑनलाइन पंजीकरण जारी रहेगा।

भवन, अर्धकुवारी और जम्मू में बोर्ड के लॉज सभी निर्धारित एसओपी के अनुपालन के साथ खुले हैं।

इतना ही नहीं, इससे पहले वर्ष  2018 में भी जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल सत्यमलिक के साथ हुई बैठक में श्री माता वैष्णोदेवी श्राइन बोर्ड (एसएमवीडीएसबी) ने भी वैष्णोदेवी के दर्शन करने आने वाले भक्तों के लिए 5 लाख रुपये तक के फ्री दुर्घटना बीमा को मंजूरी दी थी।

इसके अतिरिक्त नजदीकी क्षेत्र में ट्रॉमा पीड़ितों के मुफ्त इलाज को भी अमुमति दी गई थी।

Vaishno Devi Temple 15000 devotees able to visit today from Nov 1st

Show More

Dropadi Kanojiya

द्रोपदी कनौजिया पेशे से टीचर रही है लेकिन अपने लेखन में रुचि के चलते समयधारा के साथ शुरू से ही जुड़ी है। शांत,सौम्य स्वभाव की द्रोपदी कनौजिया की मुख्य रूचि दार्शनिक,धार्मिक लेखन की ओर ज्यादा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

17 + 20 =

Back to top button