breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीति
Trending

यासीन मलिक को उम्रकैद,टेरर फंडिंग केस में मिली सजा,घाटी में बिगड़े हालात

टेरर फंडिंग केस में दिल्ली की स्पेशल एनआईए(NIA)कोर्ट द्वारा यासीन मलिक को उम्रकैद की सजा का ऐलान(Yasin-Malik-Gets-Life-Sentence-in-Terror-Funding-Case)होते ही जम्मू कश्मीर(Jammu-Kashmir)में हालात बिगड़ने की स्थिति को देखते हुए श्रीनगर के मैसूमा और डाउनटाउन इलाकों में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं।

Yasin-Malik-Gets-Life-Sentence-in-Terror-Funding-Case

नई दिल्ली:यासीन मलिक को आज,बुधवार NIA कोर्ट की ओर से उम्रकैद की सजा सुनाई गई है।कश्मीरी अलगाववादी(Kashmiri separatist)यासीन मलिक को उम्रकैद की सजा टेरर फंडिग केस में मिली(Yasin-Malik-Gets-Life-Sentence-in-Terror-Funding-Case)है।

यासीन मलिक को दो मामलों में उम्रकैद की सजा सुनाई गई है और 5 मामलों में 10 साल की सजा दी गई है। सभी सजाएं एक साथ चलेंगी और अधिकतम सजा उम्रकैद की है।

इस तरह अब ताउम्र यासीन मलिक(Yasin-Malik)को जेल में ही काटनी होगी। 

हालांकि NIA की ओर से आतंकवाद के वित्तपोषण के मामले में दोषी कश्मीरी अलगाववादी नेता को मृत्युदंड दिए जाने की मांग अदालत में की गयी थी।

मलिक को सेक्शन 121 में उम्रकैद की सज़ा हुई है साथ ही यूएपीए के सेक्शन 17 में भी उम्रकैद की सजा सुनाई गयी(Yasin-Malik-Gets-Life-Sentence-in-Terror-Funding-Case)है।

दालत ने कहा है कि दोनों ही सजा साथ-साथ चलेगी. 10 लाख 70 हज़ार का जुर्माना भी अदालत ने अलगावादी नेता पर लगाया है।

एनआईए कोर्ट(NIA court) के विशेष न्यायाधीश प्रवीण सिंह ने 19 मई को मलिक को गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) के तहत आरोपों में दोषी ठहराया था।

J&K:Kashmiri Pandit घाटी छोड़ें या मौत का करें सामना…पुलवामा में आतंकी संगठन

पटियाला हाउस स्थित विशेष न्यायाधीश ने एनआईए अधिकारियों को उसकी वित्तीय स्थिति का आकलन करने का निर्देश दिया था, जिससे जुर्माने की राशि निर्धारित की जा सके।

इससे पहले 10 मई को मलिक ने अदालत में कहा था कि वह खुद के खिलाफ लगाए आरोपों का सामना नहीं करना चाहता है।

उसने अपना जुर्म कबूल लिया था। मलिक इस वक्त दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद है।

आपको बता दें कि मलिक की तरफ से अदालत में कहा गया था कि 1994 में हथियार छोड़ने के बाद मैंने महात्मा गांधी के सिद्धांतों का पालन किया है और तब से मैं कश्मीर में अहिंसक राजनीति कर रहा हूं।

कोर्ट रूम में यासीन ने कहा कि 28 सालो में अगर मैं कही आतंकी गतिविधि या हिंसा में शामिल रहा हूं इंडियन इंटेलिजेंस अगर ऐसा बता दे तो मैं राजनीति से भी सन्यास ले लूंगा, फांसी मंजूर कर लूंगा। 7 पीएम के साथ मैंने काम किया है।

इधर यासीन मलिक की सजा पर अदालत का फैसला आने से पहले श्रीनगर के कुछ हिस्से बुधवार को बंद रहे।

Jammu-Kashmir: थम नहीं रहा गैर कश्मीरियों का खून बहाने का सिलसिला,आतंकियों ने की दो और बिहारी मजदूरों की हत्या

उन्होंने बताया कि लाल चौक की कुछ दुकानों सहित मैसूमा और आसपास के इलाकों में ज्यादातर दुकानें और व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे।

लेकिन यासीन मलिक की सजा का एलान होते ही घाटी में हालात बिगड़ गए। नतीजा इंटरनेट सेवा भी बंद करनी (After-Yashin-Malik-verdict-clash-in Srinagar)पड़ी।

टेरर फंडिंग केस में दिल्ली की स्पेशल एनआईए(NIA)कोर्ट द्वारा यासीन मलिक को उम्रकैद की सजा का ऐलान(Yasin-Malik-Gets-Life-Sentence-in-Terror-Funding-Case)होते ही जम्मू कश्मीर(Jammu-Kashmir)में हालात बिगड़ने की स्थिति को देखते हुए श्रीनगर के मैसूमा और डाउनटाउन इलाकों में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं।

इससे पहले श्रीनगर के मैसूमा इलाके में कश्मीरी अलगाववादी नेता यासीन मलिक के समर्थकों और जम्मू-कश्मीर पुलिस के बीच मारपीट हुई।

जिसके बाद पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे।

 

 

 

Yasin-Malik-Gets-Life-Sentence-in-Terror-Funding-Case

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button