breaking_newsअन्य ताजा खबरेंराजनीतिक खबरेंविश्व
Trending

Monkeypox Vaccine की वैक्सीन 100फीसदी सुरक्षा नहीं देती-WHO ने किए चौंकाने वाले खुलासे

डब्ल्यूएचओ ने यह बात तब कही है जब विश्वभर के 92 से ज्यादा देशों में मंकीपॉक्स(Monkeypox)के 35,000 से अधिक मामले दर्ज हुए(Monkeypox after more than 35,000 cases reported) है और इसके कारण 12 लोगों की जान गई है।

Monkeypox-vaccine-not-100-percent-effective-says-WHO

मंकीपॉक्स की वैक्सीन (Monkeypox-vaccine)100 फीसदी सुरक्षा प्रदान नहीं करती,यह कहना है विश्व स्वास्थ्य संगठन का। WHO ने मंकीपॉक्स को लेकर हाल में कई चौंकाने वाले खुलासे किए।

उसने कहा कि मंकीपॉक्स वायरस की वैक्सीन 100 प्रतिशत सुरक्षितन नहीं है इसलिए जनता को इसके संक्रमण के खतरे को खुद कम करना (Monkeypox-vaccine-not-100-percent-effective-says-WHO)चाहिए।

आपको बता दें कि डब्ल्यूएचओ ने यह बात तब कही है जब विश्वभर के 92 से ज्यादा देशों में मंकीपॉक्स(Monkeypox)के 35,000 से अधिक मामले दर्ज हुए(Monkeypox after more than 35,000 cases reported) है और इसके कारण 12 लोगों की जान गई है।

WHO की तकनीकी प्रमुख रोज़मुंड लेविस (Rosamund Lewis)ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि, “मंकीपॉक्स से बचाव को लेकर WHO वैक्सीन से  100 प्रतिशत प्रभावशीलता की उम्मीद नहीं कर रहा(Monkeypox-vaccine-not-100-percent-effective-says-WHO)है।

ऐसे में अब लोगों को संक्रमण के अपने जोखिम को कम करना चाहिए।

 

WHO-declared-Monkeypox-a-global-health-emergency-as-highest-cases-rise
मंकीपॉक्स बना ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

WHO का दावा-मंकीपॉक्स के लिए वैक्सीन नहीं है पूरा सुरक्षित उपाय

उन्होंने आगे कहा कि वैक्सीन इसका पूरा सुरक्षित उपाय नहीं(Monkeypox-vaccine-not-100-percent-effective-says-WHO)है।

हर व्यक्ति यह पहले से महसूस कर सकता है कि वह जोखिम में है और इसे कम करने के लिए वैक्सीन पर ही निर्भर नहीं रहा जा सकता।

सभी लोगों को पहले से ही ध्यान रखना है कि वह खुद को इस वायरस से बचाएं और सफाई को लेकर पूरा ध्यान रखें।

 मंकीपॉक्स के मामले यूरोप-अमेरिका से ज्यादा आ रहे हैं

वहीं, डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम घेबियस ने कहा कि पिछले हफ्ते लगभग 7,500 मामले सामने आए, जो पिछले सप्ताह की तुलना में 20 प्रतिशत ज्यादा हैं।

यूरोप और अमेरिका में सबसे ज्यादा मंकीपॉक्स के मामले सामने आ रहे हैं, जो पुरुषों के साथ यौन संबंध रखते हैं।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Monkeypox Alert! खतरनाक रूप से फैल रहा है मंकीपॉक्स,केंद्र ने एयरपोर्ट,बंदरगाहों को किया सतर्क

 

 

 

 

 

 

 

इन लोगों को मंकीपॉक्स का ज्यादा खतरा 

ज्यादातर लोग आमतौर पर बिना इलाज के ही कुछ हफ्तों में मंकीपॉक्स से ठीक हो जाते हैं। इसके लक्षण शुरू में फ्लू जैसे होते हैं, जैसे बुखार, ठंड लगना और सूजी हुई लिम्फ नोड्स।

डब्ल्यूएचओ(WHO) के अनुसार यह वायरस छोटे बच्चों, गर्भवती महिलाओं और ऐसे व्यक्तियों में ज्यादा गंभीर हो सकता है जिनकी इम्युनिटी कम है।

मंकीपॉक्स वायरस (Monkeypox Virus)ब्रोकन स्किन, रेस्पिरेटरी ट्रैक, आंख, नाक और मुंह और शारीरिक तरल पदार्थों के माध्यम से आपके शरीर में प्रवेश कर सकता है। मंकीपॉक्स एक जूनोटिक डिजीज है।

यह जानवरों में उत्पन्न होता है और मध्य और पश्चिम अफ्रीका के दूरदराज के हिस्सों में ज्यादा पाया जाता है। 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

नाम बदलने पर WHO कर रहा विचार

अब WHO मंकीपॉक्स बीमारी के साथ जुड़े लांछन के कारण इसका नाम बदलने की भी तैयारी भी कर रहा है। इस बीमारी का नाम बंदरों के लिए भी खतरे का कारण बन रहा है। 

उदाहरण के तौर पर हाल ही में ब्राजील में ऐसी खबरें आईं हैं कि लोगों  ने बीमारी के डर से बंदरों पर हमला किया।

डब्लू एच ओ की प्रवक्ता फादेला चाइब ने पत्रकारों ने जेनेवा में कहा कि “इंसानों में फैलने वाले मंकीपॉक्स” को नाम बीमारियों को नाम देने की बेस्ट प्रेक्टिस से पहले दिया गया था।

उन्होंने कहा, ” हम सच में यह ऐसा नाम खोजना चाहते हैं जो किसी शर्म से ना जुड़ा हो।” उन्होंने कहा कि कोई भी इसके नाम का विकल्प दे सकता है और इससे जुड़ी वेबसाइट पर यह सुविधा उपलब्ध है।

 

 

Delhi में Monkeypox का खतरा बढ़ा,चौथा केस दर्ज,देशभर में अब मंकीपॉक्स के 9 मरीज

 

 

 

Monkeypox-vaccine-not-100-percent-effective-says-WHO

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button