breaking_newsअन्य ताजा खबरेंविभिन्न खबरेंविश्वहेल्थ
Trending

विश्वभर में बढ़ा Monkeypox का कहर,WHO ने मंकीपॉक्स को घोषित किया ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी

ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी घोषित करने का मतलब है कि मंकीपॉक्स का प्रकोप एक "असाधारण घटना" है जो अधिक देशों में फैल सकती है और इसके लिए समन्वित वैश्विक प्रतिक्रिया की आवश्यकता होती है।

WHO-declared-Monkeypox-a-global-health-emergency

नई दिल्ली:कोरोनावायरस(Coronavirus)का खतरा अभी तक बरकरार है और अब ऐसे में विश्वभर में मंकीपॉक्स(Monkeypox) के मामले इतनी तेजी से बढ़ रहे है कि आज विश्व स्वास्थ्य संगठन(WHO)ने मंकीपॉक्स को ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी घोषित कर दिया(WHO-declared-Monkeypox-a-global-health-emergency) है। 

ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी(Global health Emergency)घोषित करने का मतलब है कि मंकीपॉक्स का प्रकोप एक “असाधारण घटना” है जो अधिक देशों में फैल सकती है और इसके लिए समन्वित वैश्विक प्रतिक्रिया की आवश्यकता होती है।

मंकीपॉक्स के बढ़ते मामलों को देखते हुए WHO ने आम जनता से सतर्क रहने की भी अपील की (WHO-declared-Monkeypox-a-global-health-emergency-as-highest-cases-rise)है।

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ही भारत के करेल में भी मंकीपॉक्स(Monkeypox)का पहला मामला सामने आया था। उस दौरान केंद्र सरकार द्वारा कहा गया था कि जिस शख्स में मंकीपॉक्स के लक्षण मिले थे वो कुछ दिन पहले ही यूएई(UAE) की यात्रा करके लौटा था।

इस मामले के ठीक बाद केरल में ही इस वायरस का दूसरा मामला भी सामने आया था।

गौरतलब है कि केरल में मंकीपॉक्स का दूसरा मरीज मिलने के बाद के केंद्र सरकार पूरी तरह से सतर्क हो गई थी। केंद्र ने एयरपोर्ट-बंदरगाहों पर कड़ी स्क्रीनिंग का दिया निर्देश दिया था, जिससे वक्त रहने मंकीपॉक्स के मरीजों की पहचान कर उनका इलाज किया जा सके।

Monkeypox क्या है? जानें इसके लक्षण और कैसे फैलता है ये वायरल संक्रमण?

साथ ही इनसे दूसरों में होने वाली बीमारी को रोका जा सके। वहीं राज्य के स्वास्थ्य विभाग (health Department) ने राज्य के सभी पांच हवाई अड्डों पर निगरानी बढ़ा दी थी।

दुनिया के 27 देशों में अभी तक मंकीपॉक्स के केस मिल चुके(WHO-declared-Monkeypox-a-global-health-emergency)हैं। भारत में अभी तक मंकीपॉक्स(India Monkeypox cases) के दो केस मिल चुके हैं।

अभी तक देश में मंकीपॉक्स के दो केस सामने आ चुके हैं और दोनों केरल से हैं। दूसरे केस के बारे में केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने बताया कि 31 वर्षीय युवक पिछले सप्ताह दुबई से केरल आया था।

बीमारी के लक्षण दिखने पर उसकी जांच की गई तो वह मंकीपॉक्स पॉजिटिव मिला। मंत्री ने कहा कि कन्नूर के रहने वाले युवक का परियाराम मेडिकल कॉलेज में उसका इलाज चल रहा था ।

बता दें कि पिछले हफ्ते कोल्लम जिले से मंकीपॉक्स के पहले मामले की पुष्टि होने पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्य के स्वास्थ्य अधिकारियों की सहायता के लिए पिछले सप्ताह केरल में एक उच्च स्तरीय बहु-अनुशासनात्मक टीम भेजी थी। 

 

बच्चों के लिए बेहद ही खतरनाक बुखार नया ‘टोमेटो फ्लू’ जानियें लक्षण व कैसे करें इलाज-बचाव

 

 

 

 

 

 

5 एयरपोर्ट पर स्वास्थ्य विभाग की नजर 

केरल में मंकीपॉक्स के दो मरीज मिलने के बाद राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने रविवार से राज्य के सभी पांच हवाई अड्डों पर निगरानी बढ़ा दी(Indian govt alert as Monkeypox cases rise)थी।

विदेशों से आने वाले लोगों की जांच की जा रही थी। देश में मंकीपॉक्स का पहला मामला केरल का ही था।

कोल्लम जिले के एक 35 वर्षीय व्यक्ति, जो मध्य पूर्व के एक देश से आया था, मंकीपॉक्स के लिए पॉजिटिव पाया गया और उसे तिरुवनंतपुरम मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया।

 

WHO ने चेताया-भारत में मिला Omicron का नया सब BA.2.75,जानें कितना चिंताजनक है?

WHO-declared-Monkeypox-a-global-health-emergency

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button