Trending

दिवाली पर SBI ने ग्राहकों को दिया झटका, सेविंग डिपाजिट ब्याज दरों में की कटौती

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने 15 अक्टूबर से बचत खातों पर ब्याज दर को 5 आधार अंकों से घटाकर 2.70 प्रतिशत कर दिया है।

sbi cuts savings deposit rate by 5 basis points

नयी दिल्ली (समयधारा) : देश में इस समय दिवाली का फेस्टिवल सीजन चल रहा है l

कई कंपनीज ग्राहकों को दिवाली का तोहफा दे रही है, पर देश के सबसे बड़े बैंक में से एक स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया ने इस दिवाली ग्राहकों को झटका दिया है l 

  • Saving Account Deposit Interest Rate : 2.70% (पहले 2.75 10 करोड़ रुपये से कम की शेष राशि पर)
  • Saving Account Deposit Interest Rate : 3.00% (पहले 2.75 10 करोड़ रुपये से अधिक की शेष राशि पर)

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने 15 अक्टूबर से बचत खातों पर ब्याज दर को 5 आधार अंकों से घटाकर 2.70 प्रतिशत कर दिया है।

Stock Market में तेजी, जाने क्या है आज पेट्रोल-डीजल के दाम

Stock Market में तेजी, जाने क्या है आज पेट्रोल-डीजल के दाम

यह नई बचत दरें 10 करोड़ रुपये से कम की शेष राशि पर लागू होगी, जिस पर बैंक पहले 2.75 प्रतिशत प्रति वर्ष ब्याज दर दे रहा था।

एसबीआई द्वारा बचत खातों पर दरों में कमी ऐसे समय में की गई है जब अन्य बैंक धन जुटाने के लिए जमा दरों में वृद्धि कर रहे हैं।

हालांकि, बचत खाते में 10 करोड़ रुपये और उससे अधिक की शेष राशि पर,

एसबीआई ने जमा दरों को पहले 2.75 प्रतिशत से बढ़ाकर 3 प्रतिशत प्रति वर्ष कर दिया है।

Dhanteras 2022: कंफ्यूज न हो! जानें धनतेरस कब है 22 या 23 अक्टूबर?,क्या है पूजा,खरीदारी का शुभ मुहूर्त

sbi cuts savings deposit rate by 5 basis points

वही दूसरी ओर बैंक ऑफ बड़ौदा ने विभिन्न मुद्राओं और परिपक्वता अवधि में विदेशी मुद्रा अनिवासी (FCNR) जमा पर ब्याज दरों में 135 आधार अंकों तक की बढ़ोतरी की।

बैंक ऑफ बड़ौदा ने सोमवार को एक विज्ञप्ति में कहा कि नई जमा दरें 16 अक्टूबर, 2022 से प्रभावी हुईं और 15 नवंबर, 2022 तक लागू रहेंगी।

ऋणदाता ने कहा कि संशोधित दरें ताजा और मौजूदा एफसीएनआर(FCNR) जमाओं पर लागू होती हैं जिन्हें परिपक्वता पर नवीनीकृत किया जाता है।

Dhanteras 2022 धनतेरस पर भूलकर भी ना खरीदें ये चीजें, हो जाएगा सत्यानाश

Show More

Dharmesh Jain

धर्मेश जैन www.samaydhara.com के को-फाउंडर और बिजनेस हेड है। लेखन के प्रति गहन जुनून के चलते उन्होंने समयधारा की नींव रखने में सहायक भूमिका अदा की है। एक और बिजनेसमैन और दूसरी ओर लेखक व कवि का अदम्य मिश्रण धर्मेश जैन के व्यक्तित्व की पहचान है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button