breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबिजनेसबिजनेस न्यूज
Trending

bank strike today:बैंकों में आज और कल हड़ताल,नहीं होगा कामकाज,जानें कारण

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस ने यह हड़ताल सरकार के प्राइवेटाइजेशन के फैसले और इसे लेकर चल रही तैयारियों के विरोध में बुलाई है।

bank-strike-today-16-and-tomorrow-17-dec-against-privatisation

नई दिल्ली:अपने जरुरी वित्तीय काम निपटाने के लिए अगर आज आप बैंक जाने का प्लान कर रहे है तो बेहतर होगा कि इसे टाल दें चूंकि सरकारी बैंक कर्मचारियों ने आज और कल देशव्यापी हड़ताल का आव्हान किया(bank-strike-today-and-tomorrow)है,जिसके कारण बैंकों में आज और कल कामकाज प्रभावित(services may affect)रहेगा।

जी हां,यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस (United Forum of Bank Unions) ने 16दिसंबर,गुरुवार और 17 दिसंबर शुक्रवार को सभी सरकारी बैंक कर्मचारियों से हड़ताल पर जाने का आव्हान किया(bank-strike-today-16-and-tomorrow-17-dec-against-privatisation)है।

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस ने यह हड़ताल सरकार के प्राइवेटाइजेशन के फैसले और इसे लेकर चल रही तैयारियों के विरोध में बुलाई है।

शेयर बाजार में तेजी का रुख, Powergrid-Hindalco-AxisBank आदि शेयरों में एक्शन

आपको बता दें कि यूएफबीयू (UFBU) के अंतर्गत बैंकों की नौ यूनियनें आती है। इसलिए दो दिवसीय बैंकों की हड़ताल से ग्राहकों को खासी दिक्कत का  सामना करना पड़ सकता है।

हालांकि इससे पहले स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI), इंडियन बैंक, यूको बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ इंडिया, पंजाब एंड सिंध बैंक और केनरा बैंक जैसे सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने अपने कर्मचारियों से दो दिवसीय हड़ताल शुरू करने के निर्णय को वापस लेने की अपील की थी।

लेकिन सरकारी बैंक कर्मचारियों ने सरकार द्वारा प्राइवेटाइजेशन की तैयारियों का विरोध करते हुए देशव्यापी दो दिवसीय हड़ताल का एलान कर दिया(bank-strike-today-16-and-tomorrow-17-dec-against-privatisation)है।

नतीजा आज और कल बैंकों में सेवाएं बाधित रहेंगी। इसलिए आप अपने काम टाल दें।

इसके बाद रविवार को साप्ताहिक अवकाश के चलते भी बैंक बंद रहेंगे और सिर्फ एक दिन शनिवार को बैंक अगर खुलें तो भी कितना काम हो सकेगा,यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा।

गौरतलब है कि यूएफबीयू नौ यूनियनों का एकछत्र निकाय है, जिसमें अखिल भारतीय बैंक अधिकारी परिसंघ (AIBOC),अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ (AIBEA) और राष्ट्रीय बैंक कर्मचारी संगठन (NOBW) शामिल हैं।

इस यूनियन के अधीन 9 लाख कर्मचारी हैं।

यूनाइटेड फोरम आफ बैंक यूनियंस के आह्वान पर सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण के विरोध में 16 व 17 दिसंबर को बैंक कर्मचारियों ने देशव्यापी हड़ताल का एलान किया(bank-strike-today-16-and-tomorrow-17-dec-against-privatisation)है।

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के प्रदेश संयोजक महेश मिश्रा ने विज्ञप्ति जारी कर बताया की इस हड़ताल में सार्वजनिक क्षेत्र की 4,000 से भी अधिक शाखाओं में कार्यरत 25,000 अधिकारी व कर्मचारी शामिल होंगे। 

उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार संसद के मौजूदा सत्र में बैंकिंग कानून संशोधन विधेयक लेकर आ रही है जिससे भविष्य में किसी भी सरकारी बैंक को निजी क्षेत्र में देने का रास्ता साफ हो जाएगा।

बैंक कर्मचारी व अधिकारी सरकार के इस निर्णय के खिलाफ लामबंद होकर 16 व 17 दिसंबर की दो दिन की देशव्यापी हड़ताल करने जा रहे है।

जानें बैंकों में हड़ताल की वजह-bank-strike-reason

हाल ही में सालाना बजट पेश करने के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने विनिवेश के ज़रिए 1.75 लाख करोड़ रुपये जुटाने की घोषणा की थी।

मोदी सरकार कई सरकारी कंपनियों के साथ-साथ कुछ बैंकों के निजीकरण के ज़रिए इतनी रक़म जुटाएगी।

बैंक कर्मचारी संघ वर्तमान सत्र में मौजूदा कानूनों में संशोधन करके दो सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण के सरकार के प्रस्तावित कदम का विरोध कर रहे हैं।

bank-strike-today-16-and-tomorrow-17-dec-against-privatisation

Punjab National Bank ने दिया ग्राहकों को तगड़ा झटका, SA की ब्याज दरें घटाईं

सोशल मीडिया पर बैंकों ने अपने ग्राहकों को किया अलर्ट

एसबीआई ने अपने कर्मचारियों से हड़ताल वापस लेने की अपील करने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया।

बैंक ने एक ट्वीट में कहा, “हम अपने स्टाफ सदस्यों से अपने फैसले पर पुनर्विचार करने और अपने ग्राहकों, निवेशकों और बैंक के हित में 16 और 17 दिसंबर 2021 को प्रस्तावित हड़ताल में भाग लेने से परहेज करने का अनुरोध करते हैं।

इसके अलावा चल रही महामारी की स्थिति को देखते हुए, हड़ताल का सहारा लेने से हितधारकों को बड़ी असुविधा होगी। ”

यूको बैंक ने भी अपनी यूनियनों से ग्राहकों के हित में देशव्यापी बैंक हड़ताल को वापस लेने का अनुरोध किया है।  

Bank अकाउंट में जीरो बैलेंस होने पर भी, मिलेंगे आपको 10 हजार रुपए,जानें स्कीम

इसी तरह सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने यूनियनों से कहा है कि वे अपने सदस्यों को बैंक के समग्र विकास के लिए अपने प्रदर्शन को बेहतर बनाने को अधिकतम प्रयास करने की सलाह दें।

केनरा बैंक ने एक ट्वीट में कहा कि बैंक ने विभिन्न मुद्दों पर चर्चा के लिए 14 दिसंबर को संबंधित पक्षों के साथ बैठक बुलाई है।

bank-strike-today-16-and-tomorrow-17-dec-against-privatisation

इंडियन बैंक ने ट्वीट किया, ”अपने ग्राहकों को निर्बाध सेवाएं सुनिश्चित करने के लिए हमने प्रमुख संघों / यूनियनों के नेताओं को चर्चा के लिए आमंत्रित किया है और उनसे 16 और 17 दिसंबर, 2021 को प्रस्तावित हड़ताल वापस लेने की अपील की है।”

RBI का Mastercard पर बैन,क्या ग्राहकों के डेबिट/क्रेडिट कार्ड होंगे ब्लॉक?SBI,ICICI,Axis,HDFC,Yes Bank पर पडे़गा प्रभाव?

बैंकिंग कामकाज 19 दिसंबर तक रहेगा प्रभावित

भले ही बैंकों में देशव्यापी हड़ताल(Bank strike)16 और 17 दिसंबर तक बुलाई गई है लेकिन इसके बाद 18 दिसंबर को शिलॉन्ग में बैंकों में कामकाज नहीं(bank-strike-today-16-and-tomorrow-17-dec-against-privatisation) होगा।

इस दिन यू सोसो थाम की पुण्यतिथि है। इसके अतिरिक्त 19 दिसंबर को रविवार का दिन है।

दूसरे शब्दों में कहें तो 19 दिसंबर तक देश के अलग-अलग हिस्सों में बैंकों में सेवाएं प्रभावित रहेगी। इसलिए ऐसे में सुचारू ढंग से कामकाज के लिए आपको  20 दिसंबर तक का इंतजार करना पड़ेगा।

bank-strike-today-16-and-tomorrow-17-dec-against-privatisation

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen − 9 =

Back to top button