breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीति

लालकृष्ण आडवाणी 94वां जन्मदिन : बीजेपी की मजबूत इमारत का आधार-एक मजबूत स्तंभ

PM नरेंद्र मोदी, अमित शाह, राजनाथ सिंह, वेंकैया नायडू, जेपी नड्डा सहित बीजेपी के कई बड़े नेताओं ने दी घर जाकर बधाई

LalKrishna Advani 94th birthday special

नईं दिल्ली (समयधारा) : आज भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी का 94वां बर्थडे है l 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी,  अमित शाह, राजनाथ सिंह, वेंकैया नायडू, जेपी नड्डा सहित बीजेपी के कई बड़े नेताओं ने दी घर जाकर बधाई दीl 

वही इन नेताओं ने उनके आवास पर जाकर उनके साथ केक भी काटा है l 

इस समय बीजेपी के मार्गदर्शक लालकृष्ण आडवाणी का राजनीति में कद काफी ऊँचा है l

आज बीजेपी की जो भी तस्वीर है जो भी वजूद है उसमे लालकृष्ण आडवाणी की भूमिका बेहद ही महत्वपूर्ण है l 

आडवाणी ने ब्लॉग से छलकाया दर्द, कहा बीजेपी की विचारधारा……

चुटकुला : पति पत्नी और शांति के साथ जीने का बेहतरीन व्यंग

अटल बिहारी वाजपेयी के सबसे प्रमुख सहयोगी और बीजेपी की दूसरी पीड़ी को खडा करने में आडवाणी जी का प्रमुख योगदान है l 

8 नवंबर 1927 को जन्मे लालकृष्ण आडवाणी ने कमला आडवाणी से शादी की l जिनका देहांत 2016 में हुआ l उनकी दो संतान एक बेटा और एक बेटी है l  

अटल बिहारी वाजपेयी ने जब बीजेपी का गठन किया तो आडवाणी जी पहले बीजेपी के अध्यक्ष बने l

आडवाणी के नेतृत्व में बीजेपी राम जन्मभूमि को लेकर अयोध्या विवाद का राजनीतिक चेहरा बनीl 

Life Thoughts : “जिन्दगी” मे कभी किसी को “कम” मत समझो

उनकी रथ यात्रा ने बीजेपी का जनाधार आम लोगों तक पहुंचा दिया l उनका आंदोलन इस विश्वास के आधार पर था कि

यह स्थल राम का जन्मस्थान था  और यह कि एक मंदिर एक बार वहां खड़ा था l 

LalKrishna Advani 94th birthday special

जिसे मुगल सम्राट बाबर ने बाबरी मस्जिद का निर्माण करते समय ध्वस्त कर दिया था।

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने इस दावे का समर्थन किया है कि एक संभावित विध्वंस पर टिप्पणी किए बिना, एक बार हिंदू संरचना साइट पर खड़ी थी। 

1980 के दशक की शुरुआत में, विश्व हिंदू परिषद (VHP) ने अयोध्या में बाबरी मस्जिद स्थल पर हिंदू देवता राम को समर्पित एक मंदिर के निर्माण के लिए एक आंदोलन शुरू किया था।

भाजपा ने इस अभियान के पीछे अपना समर्थन दिया, और इसे अपने चुनावी घोषणापत्र का एक हिस्सा बनाया, जिसने 1989 के आम चुनावों में बहुत लाभ मिला l 

चुनाव में कांग्रेस को ज्यादा सिट मिलने के बावजूद उसने सरकार बनाने से इनकार कर दिया 

और फिर वीपी सिंह की राष्ट्रीय मोर्चा सरकार ने शपथ ली। 86 सीटों के साथ भाजपा ने तब  नई सरकार को समर्थन दिया l  

Diwali पर रिलीज़ हुए नई फिल्मों को देखें वो भी Free-Free-Free

LalKrishna Advani 94th birthday special

चलियें जानते है उनके अब तक के जीवन के सफ़र के बारें में l 

1967–70: Chairman, Metropolitan Council, Delhi[4]
1970–72: President, Bharatiya Jana Sangh, Delhi
1970–89: Member, Rajya Sabha (four terms)
1973–77: President, Jana Sangh
1977: General-Secretary, Janata Party
1977–79: Union Cabinet Minister, Ministry of Information and Broadcasting
1977–79: Leader of the House, Rajya Sabha
1980–86: General Secretary, Bharatiya Janata Party (BJP)
1980-86: Leader, BJP, Rajya Sabha
1986–91: President, BJP
1989: Elected to 9th Lok Sabha (1st term as Lok Sabha member), New Delhi constituency
1989–91: Leader of the Opposition, Lok Sabha
1991: Elected to 10th Lok Sabha (2nd term), from Gandhinagar
1991–93: Leader of the Opposition, Lok Sabha
1993–98: President, Bharatiya Janata Party
Did not contest 1996 election, and did not join the 13-day Vajpayee govt as hawala case was pending against him.
1998: Elected to 12th Lok Sabha (3rd term)

देखें सूर्यवंशी जैसी कई नयी फ़िल्में मुफ्त में, जाने कैसे

1998–99: Union Cabinet Minister, Home Affairs
1999: Elected to 13th Lok Sabha (4th term)
1999–2004: Union Cabinet Minister, Home Affairs
2002–2004: Deputy Prime Minister of India
2004: Elected to 14th Lok Sabha (5th term)
2009: Elected to 15th Lok Sabha (6th term)
2014: Elected to 16th Lok Sabha (7th term)

(इनपुट wikipedia से भी )

हल्दी है गुणों का खज़ाना,इन बीमारियों में इसे आजमाना…

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen + six =

Back to top button