breaking_newsअन्य ताजा खबरेंफैशनलाइफस्टाइल

Friday Thought – दिल अच्छा रखो, कर्म अच्छा रखो, आगे प्रभु की इच्छा…

जो व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति को धोखा देता है, तो वह यह भूल जाता है कि उसे भी धोखा देने के लिए प्रक्रिया शुरू हो गई है, यही तो ईश्वर का न्याय है.

Friday Thoughts in hindi Friday suvichar in hindi Suprabhat in hindi motivational quotes in hindi 

दिल अच्छा रखो 

कर्म अच्छा रखो 

आगे प्रभु की इच्छा

Wednesday thoughts:किसी की मजबूरियों पर मत हँसिए,कोई मजबूरियां खरीद कर…

 

जो व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति को धोखा देता है,

तो वह यह भूल जाता है कि

उसे भी धोखा देने के लिए प्रक्रिया शुरू हो गई है,

यही तो ईश्वर का न्याय है.

 

thursday-thoughts-guruvar-ke-vichar-sai-suvichar-guruvar-motivational-quotes-in-hindi-goodmorning-suprabhat-min

 

जिन्दगी से हमेशा प्यार करो क्योंकि जिन्दगी बहुत हसीन है।

वो समय भी आयेगा जिसका आपको इंतज़ार है

बस अपने प्रभु पर भरोसा करना सीखो और समय पर ऐतबार करना।

 

Monday Thoughts : कटना, पिसना और निचोड़ जाना अतिम बूंद तक 

 

किताबें भी बिलकुल

 मेरी  तरह है ..!

अल्फाज से भरपूर 

मगर खामोश..!!

Thoughts : इंसान की समझ सिर्फ इतनी हैं, कि उसे “जानवर” कहो तो

संपूर्ण जगत को रोशनी देने वाले
ब्रह्मांड के एक मात्र साक्षात
ईश्वर को सुबह का नमस्कार है 
भगवान सूर्य हम सभी के जीवन में
साहस उत्साह खुशी का रोशनी भर दें 
सदैव सुखी एवं निरोगी रखें

Tuesday Thoughts : जीत के कई परिणाम हो सकते है…

 

यह thoughts भी पढ़े

Friday Thoughts : मिलता तो बहुत कुछ है, इस ज़िन्दगी में….

Thursday Thoughts : हृदय से अच्छे लोग बुद्धिमान होने के बाद भी धोख़ा खा जाते हैं..

Sunday Thoughts : मार्गदर्शन सही हो तो, दीपक का प्रकाश भी, सूरज का काम कर जाता है….

Saturday Thoughts : साजिशें वो रचते है जिन्हें कोई जंग जितनी हो….

Friday Thoughts in hindi Friday suvichar in hindi Suprabhat in hindi motivational quotes in hindi 

Friday Thoughts : आपका अच्छा व्यवहार ही आपके संबंध को परिभाषित करता है.

Friends Thoughts : दोस्त सच्चें होने चाहिए, अच्छे तो कुत्तें भी होते है…

Wednesday Thoughts : गलत इंसान कितना भी मीठा बोले एक दिन….

Tuesday Thoughts : स्वयं के प्रति संतोष दूसरें के प्रति दया,इन्ही दो पंखो से आकाश छू सकते है हम …

Show More

Dropadi Kanojiya

द्रोपदी कनौजिया पेशे से टीचर रही है लेकिन अपने लेखन में रुचि के चलते समयधारा के साथ शुरू से ही जुड़ी है। शांत,सौम्य स्वभाव की द्रोपदी कनौजिया की मुख्य रूचि दार्शनिक,धार्मिक लेखन की ओर ज्यादा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button