breaking_newsअन्य ताजा खबरेंफैशनलाइफस्टाइल
Trending

Friday Thoughts : चिड़िया जब जीवित रहती है, तब वो किड़े-मकोड़ों को खाती है..

और चिड़िया जब मर जाती है, तब किड़े-मकोड़े उसको खा जाते है, इसलिए इस बात का ध्यान रखो की समय और स्थिति कभी भी बदल सकते है, इसलिए कभी किसी का अपमान मत करो, कभी किसी को कम मत आंको, तुम शक्तिशाली हो सकते हो, पर समय तुमसे भी शक्तिशाली है.

Friday Thoughts in hindi Motivational quotes in hindi good morning images in hindi 

चिड़िया जब जीवित रहती है
तब वो किड़े-मकोड़ों को खाती है
और चिड़िया जब मर जाती है
तब किड़े-मकोड़े उसको खा जाते है
इसलिए इस बात का ध्यान रखो की समय और स्थिति कभी भी बदल सकते है
इसलिए कभी किसी का अपमान मत करो
कभी किसी को कम मत आंको
तुम शक्तिशाली हो सकते हो पर समय तुमसे भी शक्तिशाली है

……. “डर”……
मृत्यु को नही रोक सकता,
ये जीवन को रोकता है !

जितने वाला ही नहीं बल्कि कहाँ पर क्या हारना है..!!

ये जानने वाला भी सिकन्दर होता है..!!

Friday Thoughts in hindi Motivational quotes in hindi good morning images in hindi 

यह Thoughts भी पढ़े : 

Saturday Thoughts : जब तक जीना ,तब तक सीखना,अनुभव ही जिंदगी में सर्वश्रेष्ठ..

Wednesday Thoughts : मन ऐसा रखो कि किसी को बुरा न लगे…

Saturday Thoughts : मन का झुकना बहुत जरूरी है, केवल सर झुकाने से….

Friday Thoughts : बस एक तज़ुर्बा लिया है ज़िन्दगी से.. अपनो के नज़दीक रहना है..

Wednesday Thoughts : डाली से टूटा फूल फिर से लग नहीं सकता है मगर…

Tuesday Thoughts : किसी भी रिश्ते को बनाए रखने के लिए गिड़गिड़ाने की जरुरत नहीं

Sunday Thoughts : असफल होना बुरा है लेकिन प्रयास ही ना करना महाबुरा है

Friday Thoughts : मैं उन लोगों का आभारी हूं जिन्होंने मुझे छोड़ दिया…..

गुरुवार सुविचार : हम आ जाते हैं बहुत जल्दी दुनियां की बातों में गुरु की बातों में

Morning Thoughts : फर्क सिर्फ सोच का होता हैं.. सकारात्मक या नकारात्मक…!

Morning Thoughts : शांति के समान कोई तप नही है, संतोष से… 

Monday Thoughts : होकर मायूस न यूँ, शाम की तरह ढलते रहिये,जिंदगी एक भोर है.. 

Saturday Thought’s : मत कर यकीन किसी पर यहाँ पलभर की मुलाकात में…!!

Sunday Thoughts : हौसले के तरकश में कोशिश का वो तीर ज़िंदा रखो, हार जाओ चाहे

Show More

Dropadi Kanojiya

द्रोपदी कनौजिया पेशे से टीचर रही है लेकिन अपने लेखन में रुचि के चलते समयधारा के साथ शुरू से ही जुड़ी है। शांत,सौम्य स्वभाव की द्रोपदी कनौजिया की मुख्य रूचि दार्शनिक,धार्मिक लेखन की ओर ज्यादा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 + 12 =

Back to top button