breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीतिक खबरेंविश्व
Trending

आखिरकार पहली बार तालिबान से भारत ने की आधिकारिक बात,दोहा में मिले राजदूत

कतर की राजधानी दोहा में भारतीय राजदूत ने तालिबान(Taliban)के नेता से बात की है।उन्होंने काबुल से भारतीयों के सुरक्षित वतन वापसी के विषय में भी तालिबान नेता से बात की।

India-talks-Taliban-officially-first-time

नई दिल्‍ली: 20 साल बाद अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे(Taliban captured Afghanistan)के बाद आखिरकार पहली बार भारत ने तालिबान से आधिकारिक रूप से बातचीत की(India-talks-Taliban-officially-first-time) है।

दोहा में भारतीय राजदूत तालिबान के नेता से मिले और अफगानिस्तान की जमीन का भारत के खिलाफ आतंक फैलाने के लिए इस्तेमाल न किए जाए,इस पर चर्चा(raise-concern-terrorism-safe-evacuation) की।

कतर की राजधानी दोहा में भारतीय राजदूत ने तालिबान(Taliban)के नेता से बात की(India-talks-Taliban-officially-first-time) है।

उन्होंने काबुल(Kabul)से भारतीयों के सुरक्षित वतन वापसी के विषय में भी तालिबान नेता से बात की।

तालिबान चाहता था भारत अपना काबुल दूतावास खाली न करें,भेजा था संदेश:सूत्र

विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी की गई प्रेस रिलीज के मुताबिक,यह बातचीत तालिबान के अनुरोध पर की (India-talks-Taliban-officially-first-time)गई है।

अफगानिस्तान के नए शासक तालिबानियों के साथ भारत के राजदूत दीपक मित्तल ने मुलाकात कतर में (India-talks-Taliban-officially-raise-concern-terrorism)की।

राजदूत दीपक मित्‍तल ने इस मुल्‍क में तालिबान के राजनीतिक ऑफिस के  प्रमुख शेर मोहम्‍मद अब्‍बास स्‍टेनेकजई से मुलाकात की।

जारी बयान के अनुसार, दोहा स्थित भारतीय दूतावास में यह मुलाकात हुई।

इस दौरान भारत की ओर से अफगानिस्‍तान के क्षेत्र के आतंकियों के द्वारा इस्‍तेमाल किए जाने को लेकर चिंता का इजहार किया  गया।

बयान में बताया गया है कि स्‍टेनेकजई  नेआश्‍वस्‍त किया कि  भारत की चिंताओं का ध्‍यान रखा जाएगा।

Breaking:काबुल में कुछ भारतीयों को ले गए तालिबानी,कुछ भारतीयों की वापसी:सूत्र

बयान के अनुसार, ‘अफगानिस्‍तान (Afghanistan) में फंसे भारतीय नागरिकों  की सुरक्षा और शीघ्र वापसी के मसले पर भी चर्चा(India-talks-Taliban-officially-first-time)हुई।

अफगानिस्‍तान के नागरिकों, खासकर अल्‍पसंख्‍यकों, जो भारत आना चाहते है, का मुद्दा भी बातचीत के दौरान उठा। ‘

जानकारी के अनुसार, राजदूत दीपक मित्‍तल ने कहा कि अफगानिस्‍तान की जमीन का उपयोग किसी भी तरह से भारत विरोधी गतिविधि और आतंकवाद के लिए नहीं होना चाहिए।

अफगानिस्‍तान पर तालिबान के कब्‍जे के पहले भारत वहां अहम हितधारक (Important stakeholders) के तौर पर जुड़ा हुआ था लेकिन मौजूदा समय के घटनाक्रम पर वह बारीक नजर गड़ाए है और ‘वेट एंड वॉच’ की स्थिति में है।

India-talks-Taliban-officially-first-time

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

19 − six =

Back to top button