breaking_newsअन्य ताजा खबरेंराजनीतिक खबरेंविश्व
Trending

Pakistan के PM इमरान खान ने खोया बहुमत का आंकड़ा,अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग से पहले ही मुख्य सहयोगी ने छोड़ा साथ

इमरान खान की सरकार ने 3 अप्रैल को होने जा रही अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग से पहले ही बहुमत खो दिया है चूंकि उनकी मुख्य सहयोगी पार्टी ने इमरान खान को छोड़ विपक्ष के साथ गठजोड़ कर लिया है।

Pakistan-PM-Imran-Khan-lost-majority-before-voting-today-on-no-confidence-motion-key-alliance-left

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान(Pakistan PM Imran Khan)के सितारे गर्दिश में चल रहे है।

विपक्ष द्वारा उनके खिलाफ लाएं गए अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान से पहले ही इमरान खान ने संसद में बहुमत का आंकड़ा खो(Pakistan-PM-Imran-Khan-lost-majority)दिया।

जी हां, इमरान खान की सरकार ने 3 अप्रैल को होने जा रही अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग से पहले ही बहुमत खो दिया है चूंकि उनकी मुख्य सहयोगी पार्टी ने इमरान खान को छोड़ विपक्ष के साथ गठजोड़ कर लिया(Pakistan-PM-Imran-Khan-lost-majority-before-voting-today-on-no-confidence-motion-key-alliance-left)है।

नतीजतन इमरान खान(Imran Khan)अल्पमत में आ गए है।

एमक्यूएम-पी के पास सात सांसद हैं। जमीयत उलेमा-ई-इस्लाम (JUI-F) के प्रमुख मौलान फजलुर रहमान ने कहा कि संसद के निचले सदन नेशनल असेंबली में अब विपक्ष के पास 175 सांसद हैं।

यह पहले ही एलान किया जा चुका है कि पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (PML-N) के अध्यक्ष और विपक्ष के नेता शहबाज शरीफ को इमरान खान के हटने के बाद नया प्रधानमंत्री बनाया जाएगा।

पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) नीत गठबंधन सरकार के अहम सहयोगी दल मुत्तहिदा कौमी मूवमेंट-पाकिस्तान (एमक्यूएम-पी) ने इस्लामाबाद में प्रेस कांफ्रेंस कर ऐलान किया कि वह विपक्षी खेमे में शामिल हो गया है।

Pakistan: पाक पीएम इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश,31 मार्च को वोटिंग

एमक्यूएम-पी प्रमुख खालिद मकबूल सिद्दिकी ने कहा, ‘हम सहिष्णुता और सच्चे लोकतंत्र की राजनीति के लिए नई शुरुआत करना चाहते हैं।

‘सात सांसदों वाले दल एमक्यूएम-पी के साथ छोड़ने से इमरान सरकार ने सदन में स्पष्ट रूप से बहुमत खो दिया(Pakistan-PM-Imran-Khan-lost-majority-before-voting-today-on-no-confidence-motion-key-alliance-left) है।

सरकार के एक अन्य सहयोगी और पांच सांसद रखने वाले दल बलूचिस्तान अवामी पार्टी (बीएपी) ने सोमवार को ही ऐलान कर दिया था कि उसने इमरान सरकार के खिलाफ मतदान करने के विपक्ष की पेशकश को स्वीकार कर लिया है।

इमरान खान की अध्यक्षता में आयोजित कैबिनेट की विशेष बैठक के बाद राशिद ने मीडिया को संबोधित किया। क्या अपने संबोधन के दौरान इमरान खान इस्तीफा दे देंगे? इस सवाल के जवाब में राशिद ने कहा, ‘किसी भी हालत में नहीं, वह अंतिम गेंद तक खेलेंगे।’

 

इमरान खान ने हिंदू विरोधी टिप्पणी करने पर पाकिस्तान के मंत्री को हटाया

 

 

इमरान खान को कुर्सी  बचाने के लिए पड़ेगी 172 वोटों की जरूरत

Pakistan-PM-Imran-Khan-lost-majority-before-voting-today-on-no-confidence-motion-key-alliance-left

पाकिस्तान में गत 8 मार्च को नेशनल असेंबली में विपक्षी दलों की ओर से संयुक्त रूप से अविश्वास प्रस्ताव लाने के बाद देश में राजनीतिक अस्थिरता उत्पन्न हो गई है।

अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के लिए नेशनल असेंबली के सत्र का आयोजन बृहस्पतिवार को होगा।  इमरान खान को सरकार बचाने के लिए 342 सदस्यीय संसद (नेशनल असेंबली) में 172 मत की जरूरत पड़ेगी।

जियो न्यूज की खबर के मुताबिक एमक्यूएम-पी ने विपक्ष का सहयोग करने का फैसला किया है और इसके दो मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है।

 

भारत का बड़ा फैसला- पाकिस्तानी उच्चायोग 7 दिन में अपना 50% स्टाफ कम करें

 

 

 इमरान खान की पार्टी के सदन में 155 सांसद

बताया जा रहा है कि एमक्यूएम-पी के सांसद फारोग नसीम और अमीनउल हक ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। एमक्यूएम-पी के नेता फैजल सब्जवाडी ने बुधवार को कहा कि संयुक्त विपक्ष के साथ उसका समझौता हो चुका है।

इमरान खान (69) की पार्टी पीटीआई के सदन में 155 सांसद हैं। इमरान को करीब दो दर्जन सांसदों की बगावत और सहयोगी दलों की चुनौतियों का भी सामना करना पड़ रहा है।

पाकिस्तान के इतिहास में अब तक किसी भी प्रधानमंत्री को अविश्वास प्रस्ताव(No Confidence Motion) के जरिये नहीं हटाया गया है, लेकिन इस चुनौती का सामना करने वाले इमरान खान तीसरे प्रधानमंत्री हैं।

 

ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हमले से देश में रोष, SGPC प्रतिनिधिमंडल जायेगा पाकिस्तान

 

 

अविश्वास प्रस्ताव पर  3 अप्रैल को मतदान

इससे पहले इमरान खान ने अपनी पार्टी के सदस्यों को सख्त निर्देश दिया कि वह अवश्विास प्रस्ताव पर मतदान के दिन या तो सदन में अनुपस्थित रहें या फिर मतदान में भाग नहीं लें।

अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान तीन अप्रैल को होने की संभावना है।

साल 2018 में ‘नया पाकिस्तान’ बनाने का वादा करके इमरान सत्ता में आये, लेकिन बेलगाम महंगाई पर नियंत्रण पाने में सरकार की विफलता ने विपक्ष को सरकार के खिलाफ एक मौका दे दिया। पाकिस्तान में अब तक कोई प्रधानमंत्री पांच साल का कार्यकाल नहीं पूरा कर सका है।

 

 

 

 

 

 

 

Pakistan-PM-Imran-Khan-lost-majority-before-voting-today-on-no-confidence-motion-key-alliance-left

(इनपुट एजेंसी से भी)

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button