breaking_newsअन्य ताजा खबरेंघरेलू नुस्खेदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंफैशनलाइफस्टाइलहेल्थ

'हरसिंगार' बेहद ही ख़ास व आम पौधा जो है चमत्कारी, दूर रखेगा कोरोना हो या कोई अन्य बीमारी

'हरसिंगार' पौधा : स्वास्थ्य-सौंदर्य से भरा बीमारी में असरदार...!!

Harsingar-Plant-Medical-Uses  Benefits-of-Night-Jasmine-or-Harsingar Paudha 
नई दिल्ली, 9 अगस्त (समयधारा) : हरसिंगार ~ बीमारी में असरदार
नारंगी डंडी वाले सफेद खूबसूरत – महकते फूलों को आपने जरूर देखा होगा !
लेकिन क्या आपने कभी हरसिंगार की पत्तियों से बनी चाय पी है … ?
इसके फूल – बीज – छाल का प्रयोग स्वास्थ्य – सौंदर्य उपचार के लिए क्या है ..?
हरसिंगार के चमत्कारी औषधीय गुण … !
जोड़ों में दर्द
हरसिंगार के 6 से 7 पत्ते तोड़कर इन्हें पीस लें – पीसने के बाद इस पेस्ट को पानी में डालकर तब तक उबालें जब तक कि इसकी मात्रा आधी न हो जाए !
Harsingar-Plant-Medical-Uses  Benefits-of-Night-Jasmine-or-Harsingar Paudha 
अब इसे ठंडा करके प्रतिदिन सुबह खाली पेट पिएं !
नियमित रूप से इसका सेवन करने से जोड़ों से संबंधित अन्य समस्याएं भी समाप्त हो जाएगी !
खांसी
खांसी हो या सूखी खांसी – हरसिंगार के पत्तों को पानी में उबालकर पीने से बिल्कुल खत्म की जा सकती है !
आप चाहें तो इसे सामान्य चाय में उबालकर पी सकते हैं या फिर पीसकर शहद के साथ भी प्रयोग कर सकते हैं !
बुखार
किसी भी प्रकार के बुखार में हरसिंगार की पत्तियों की चाय पीना बेहद लाभप्रद होता है !
डेंगू से लेकर मलेरिया या फिर चिकनगुनिया तक – हर तरह के बुखार को खत्म करने की क्षमता इसमें होती है !
साइटिका
दो कप पानी में हरसिंगार के लगभग 8 से 10 पत्तों को धीमी आंच पर उबालें और आधा रह जाने पर इसे अंच से उतार लें !
ठंडा हो जाने पर इसे सुबह शाम खाली पेट पिएं !
एक सप्ताह में आप फर्क महसूस करेंगे !
Harsingar-Plant-Medical-Uses  Benefits-of-Night-Jasmine-or-Harsingar Paudha 
बवासीर
हरसिंगार को बवासीर या पाइल्स के लिए बेहद उपयोगी औषधि माना गया है !
इसके लिए हरसिंगार के बीज का सेवन या फिर उनका लेप बनाकर संबंधित स्थान पर लगाना फायदेमंद है !
त्वचा के लिए
हरसिंगार की पत्त‍ियों को पीसकर लगाने से त्वचा संबंधी समस्याएं खत्‍म होती हैं l
 इसके फूल का पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाने से चेहरा उजला और चमकदार हो जाता है !
हृदय रोग
हृदय रोगों के लिए हरसिंगार का प्रयोग बेहद लाभकारी है !
इस के 15 से 20 फूलों या इसके रस का सेवन करना हृदय रोग से बचाने में कारगर है !
Harsingar-Plant-Medical-Uses  Benefits-of-Night-Jasmine-or-Harsingar Paudha 
दर्द
हाथ – पैरों की मांसपेशियों में दर्द व खिंचाव होने पर हरसिंगार के पत्तों के रस में बराबर मात्रा में अदरक का रस मिलाकर पीने से फायदा होता है !
अस्थमा
सांस संबंधी रोगों में हरसिंगार की छाल का चूर्ण बनाकर पान के पत्ते में डालकर खाने से लाभ होता है !
इसका प्रयोग सुबह और शाम को किया जा सकता है !
प्रतिरोधक क्षमता
हरसिंगार के पत्तों का रस या फिर इसकी चाय बनाकर नियमित रूप से पीने पर शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और शरीर हर प्रकार के रोग से लड़ने में सक्षम होता है !
इसके अलावा पेट में कीड़े होना – गंजापन – स्त्री रोगों में भी बेहद फायदेमंद है !
हरसिंगार के फूलों से लेकर पत्त‍ियां – छाल एवं बीज भी बेहद उपयोगी हैं !
इसकी चाय न केवल स्वाद में बेहतरीन होती है – सेहत के गुणों से भी भरपूर है !
इस चाय को आप अलग – अलग तरीकों से बना सकते हैं और सेहत व सौंदर्य के कई फायदे पा सकते हैं !
विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं के लिए इसके लाभ और चाय बनाने का तरीका !
Harsingar-Plant-Medical-Uses  Benefits-of-Night-Jasmine-or-Harsingar Paudha 
वि‍धि-1
हरसिंगार की चाय बनाने के लिए इसकी दो पत्तियां और एक फूल के साथ तुलसी की कुछ पत्त‍ियां लीजिए और इन्हें 1 गिलास पानी में उबालें !
जब यह अच्छी तरह से उबल जाए तो इसे छानकर गुनगुना या ठंडा करके पी लें !
आप चाहें तो स्वाद के लिए शहद या मिश्री भी डाल सकते हैं !
यह खांसी में फायदेमंद है !
वि‍धि-2
हरसिंगार के दो पत्ते और चार फूलों को पांच से 6 कप पानी में उबालकर – 5 कप चाय आसानी से बनाई जा सकती है !
इसमें दूध का इस्तेमाल नहीं होता – यह स्फूर्तिदायक होती है !
चाय के अलावा भी हरसिंगार के वृक्ष के कई औषधीय लाभ हैं !!!
कौन – कौन सी बीमारियों में कैसे करें इसका इस्तेमाल … ?
Harsingar-Plant-Medical-Uses  Benefits-of-Night-Jasmine-or-Harsingar Paudha 
(इनपुट सोशल मीडिया से)

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

13 − three =

Back to top button