breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरें
Trending

Farmers Protest: ‘हां’ या ‘न’ के पोस्टर लेकर मौनव्रत रख किसानों ने सरकार से मांगा जवाब,फिर मिली तारीख

अब केंद्र सरकार ने किसानों से अगले दौर की बातचीत के लिए 9 दिसंबर की तारीख चुनी है और उस दिन बैठक बुलाई है...

Farmers Protest latest update-farmers on silent mode in  meeting with govt 

नई दिल्ली: सरकार (Government) और किसानों(Farmers) के बीच पांचवें दौर की बातचीत शनिवार को हुई जोकि फिर बेनतीजा रही।

किसान नए कृषि कानूनों (New farm law 2020) को वापस लेने की मांग पर डटे रहे और सरकार इनमें संशोधन को लेकर अड़ी रही।

इस दौर की बातचीत में किसानों ने मौनव्रत रखा और हाथों में पोस्टर लेकर सरकार से उनकी मांगों का जवाब सिर्फ ‘ हां’ या ‘नहीं’ में  मांगा।

अब केंद्र सरकार ने किसानों से अगले दौर की बातचीत के लिए 9 दिसंबर की तारीख चुनी है और उस दिन बैठक बुलाई है।

farmers-protest-latest-update-farmers-on-silent-mode-in-meeting-with-govt-next-talks-on-dec-9

Farmers Protest latest update-farmers on silent mode in  meeting with govt 

शनिवार को किसानों और सरकार के बीच हुई वार्ता तकरीबन चार घंटे से भी ज्यादा देर तक चली और इसके बाद किसान नेताओं ने कहा कि सरकार ने इस मुद्दे के समाधान के लिए अंतिम प्रस्ताव पेश करने के वास्ते आंतरिक चर्चा के लिए और समय मांगा है।

वैसे, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार बैठक में मौजूद 40 कृषक नेताओं से उनकी प्रमुख चिंताओं पर ठोस सुझाव चाहती थी। उन्होंने कहा कि उम्मीद है कि उनके सहयोग से समाधान निकाला जाएगा।

दूसरी और पांचवे दौर की बातचीत से पहले ही किसान आंदोलन कर रहे किसानों ने 8 दिसंबर को ‘भारत बंद’(Bharat Bandh) की घोषणा की है और चेतावनी दी है कि यदि सरकार उनकी मांगों को नहीं मानती तो आंदोलन राष्ट्रव्यापी हो जाएगा और दिल्ली आने वाले सभी मार्गों को रोक दिया जाएगा।

farmers-unions-calls-bharat-bandh-on-8-december_optimized
8 दिसंबर भारत बंद

ट्रेड यूनियनों और अन्य अनेक संगठनों ने इसमें उन्हें समर्थन जताया है। बैठक में कृषि मंत्री तोमर ने किसान नेताओं से बुजुर्गों, महिलाओं और बच्चों को प्रदर्शन स्थलों से घर वापस भेजने की अपील की।

तोमर ने सरकार की ओर से वार्ता की अगुवाई की। इसमें रेल, वाणिज्य और खाद्य मंत्री पीयूष गोयल तथा वाणिज्य राज्य मंत्री सोम प्रकाश ने भी भाग लिया।

Farmers Protest latest update-farmers on silent mode in  meeting with govt 

 

कृषि मंत्री ने कहा कि-MSP पर  जारी रहेगी खरीद
बैठक के बाद कृषि मंत्री ने कहा कि सरकार ने किसानों को आश्वासन दिया है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर खरीद जारी रहेगी और मंडियों को मजबूत किया जाएगा।

तोमर ने कहा, ‘‘हम कुछ प्रमुख मुद्दों पर किसान नेताओं से ठोस सुझाव चाहते थे, लेकिन आज की बैठक में ऐसा नहीं हुआ। हम 9 दिसंबर को एक बार फिर मिलेंगे।

हमने उनसे कहा है कि सरकार उनकी सभी चिंताओं पर ध्यान देगी और हमारा प्रयास समाधान खोजने का रहेगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अगर उन्होंने आज ही सुझाव दिए होते तो आसानी होती। हम उनके सुझावों का इंतजार करेंगे।’’

 

Farmers Protest latest update-farmers on silent mode in  meeting with govt 

कृषि मंत्री तोमर ने किसानों को कहा- शुक्रिया
तोमर ने किसानों के आंदोलन(Kisan Andolan) में अनुशासन बनाकर रखने के लिए किसान संगठनों का शुक्रिया अदा किया। हालांकि, उन्होंने प्रदर्शन का रास्ता छोड़कर संवाद में शामिल होने की अपील की। उ

न्होंने कहा कि मोदी सरकार किसानों के हित के लिए हमेशा प्रतिबद्ध है और रहेगी। सूत्रों ने बताया कि प्रदर्शनकारी किसान संगठनों के साथ महत्वपूर्ण बैठक से पहले तीनों मंत्रियों ने वरिष्ठ मंत्रियों राजनाथ सिंह और अमित शाह के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की

और प्रदर्शन कर रहे समूहों के सामने रखे जाने वाले संभावित प्रस्तावों पर विचार-विमर्श किया। किसानों ने अपनी मांगें नहीं माने जाने पर आंदोलन तेज करने की चेतावनी दी है।

 

Farmers Protest latest update-farmers on silent mode in  meeting with govt 

 किसान रहे मौन व्रत पर

केंद्र के साथ पांचवें दौर की वार्ता में किसानों का एक समूह तकरीबन एक घंटे तक मौनव्रत धारण किए रहा। उसने तीनों नए कृषि कानूनों को वापस लेने की अपनी मुख्य मांग पर ‘हां’ या ‘नहीं’ में जवाब मांगा।

इस बैठक में मौजूद कुछ किसान नेता अपने होठों पर अंगुली रखे हुए और ‘हां’ या ‘नहीं’ लिखा कागज हाथ में लिए हुए दिखे।

सूत्रों के मुताबिक मंत्रियों द्वारा रखे गये कुछ प्रस्तावों पर बैठक में भाग लेने वाले किसानों के बीच मतभेद भी सामने आया।

भारतीय किसान यूनियन (राजेवाल) के महासचिव ओंकार सिंह अगोल ने कहा कि हम ‘मौन व्रत’ पर थे क्योंकि सरकार कानून वापस लेने या नहीं लेने पर स्पष्ट जवाब नहीं दे रही थी।

एक किसान नेता ने कहा कि सरकार ने उनसे कहा कि पहले वे किसानों के प्रतिनिधियों को प्रस्ताव भेजेंगे और वे प्रस्तावों पर विचार-विमर्श करने के बाद ही अगली बैठक में शिरकत करेंगे।

 

 

Farmers Protest latest update-farmers on silent mode in  meeting with govt 

(इनपुट एजेंसी से भी)

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

19 − seven =

Back to top button