breaking_newsअन्य ताजा खबरेंअपराधएजुकेशनएजुकेशन न्यूजदेशदेश की अन्य ताजा खबरें

शिक्षा भर्ती घोटाला-कैश और सोने के भंडार, जानें अभी तक की सभी अपडेट

जानें पश्चिम बंगाल में हुए SSC Scam में अब तक क्या-क्या बरामद हुआ..

west bengal ssc scam news updates in hindi

पश्चिम बंगाल/नयी दिल्ली : इस देश में कुछ हो न हो पर घोटाले तो रोज होते है l भ्रष्टाचार ने हर और अपने पैर पसार लिए है l

अब पश्चिम बंगाल के SSC Scam को ही ले देखें अब तक इस घोटाले में कई चींजे बरामद हुई हैl 

  • 50 करोड़ रुपए कैश
  • 5 करोड़ का सोना 
  • कोड वर्ड में लिखी डायरी
  • आठ फ्लैटों की बिक्री के दस्तावेज
  • हाई-एंड पैसेंजर व्हीकल 
  • चांदी के कई सिक्के
  • 20 हाई-एंड Apple iPhone

अभी जांच जारी है इस घोटालें में और भी कई सामान/कैश बरामद होने की उम्मीद हैl

वही पश्चिम बंगाल (West Bengal) स्कूल सेवा आयोग घोटाले (SSC Recruitment Scam) गिराफ्तारी के बाद

ममता बनर्जी ने पार्थ चटर्जी (Partha Chatterjee) को राज्य मंत्री के पद से हटा दिया है।

इस मामले पर चौतरफा राजनीतिक हमले झेल रही सत्ताधारी पार्टी तृणमूल कांग्रेस (TMC) के भीतर भी पार्थ को पद से हटाने की मांग उठ रही थी।

चटर्जी को केंद्रीय एजेंसी ने पिछले हफ्ते उनकी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी के साथ गिरफ्तार किया था।

छापेमारी के दौरान उनके ठिकानों से लगभग 50 करोड़ रुपए कैश, सोना, प्रॉपर्टी के पेपर और विदेशी मुद्रा बरामद की गई है।

जहां ED इस पूरे मनी ट्रेल पर नजर रख रही है, वहीं कलकत्ता हाई कोर्ट के आदेश पर CBI भी मामले की जांच कर रही है।

west bengal ssc scam news updates in hindi

ये मामला कथित तौर पर पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग (SSC) की सिफारिशों पर सरकारी मान्यता और सहायता प्राप्त स्कूलों में ग्रुप C और D स्टाफ के साथ-साथ शिक्षकों की भर्ती के घोटाले का है।

जब ये कथित घोटाला हुआ, तब चटर्जी शिक्षा मंत्री थे।

जानियें इस घोटाले का अब तक का सारा अपडेटस 

  • कहानी 22 जुलाई को दक्षिण कोलकाता में डायमंड सिटी कॉम्प्लेक्स से शुरू हुई। इसी कॉम्प्लेक्स में अर्पिता मुखर्जी का घर है l
  • जहां ED पहली बार छापा मारा था। इस दौरान अधिकारियों ने कथित तौर पर कैश और कुछ दस्तावेज बरामद किए।
  • ED को साल्ट लेक में CGO कॉम्प्लेक्स में एजेंसी के कार्यालय में कैश और कीमती सामान लाने के लिए कोलकाता में RBI के रीजनल दफ्तर की मदद लेनी पड़ी।
  • परिसर से बरामद कैश की कीमत कुल 21.20 करोड़ रुपये थी। इसमें 500 रुपए और 2,000 रुपए के नोट थे। छापेमारी के दौरान कथित तौर पर 60 लाख रुपए की विदेशी करेंसी भी बरामद की गई।
  • 90 लाख रुपए के सोने के आभूषण जब्त किए जाने की बात कही जा रही है।
  • कथित तौर पर जब्त किए गए और सामानों में 20 हाई-एंड Apple iPhone,
  • आठ फ्लैटों की बिक्री के दस्तावेज और कई हाई-एंड पैसेंजर व्हीकल के दस्तावेज शामिल हैं।

कहा जाता है कि ED के अधिकारियों ने दो डायरियां भी बरामद की हैं, एक ब्लैक एग्जीक्यूटिव डायरी और एक पॉकेट डायरी। ब्लैक एग्जीक्यूटिव डायरी में कथित तौर पर शिक्षा विभाग पश्चिम बंगाल सरकार टाइटल था।रिपोर्ट्स का कहना है कि दोनों डायरियां कोड मैसेज से भरी हैं।

west bengal ssc scam news updates in hindi

IANS की एक रिपोर्ट में ED के सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि दोनों डायरियों में लिखावट न तो चटर्जी से मिलती है और न ही मुखर्जी से।

ED ने 28 जुलाई को कोलकाता के उत्तरी बाहरी इलाके में अर्पिता मुखर्जी के बेलघरिया फ्लैट की तलाशी ली थी।

जानकारी के अनुसार, परिसर में एक बेडरूम की अलमारी से 500 और 2,000 रुपए के नोटों के बंडल बरामद किए गए। ED ने कथित तौर पर यहां से 27.90 करोड़ रुपए कैश बरामद किए। अधिकारियों के हवाले से कहा गया कि नोट गिनने वाली मशीन, जो एक मिनट में एक बार में 1,000 नोटों की गिनती कर सकती है। उसे पूरा कैश गिनने में अगली सुबह तक का समय लगा। कथित तौर पर कुल 6 किलो वजन की सोने की छड़ें और गहने भी जब्त किए गए। सोने की कुल कीमत 4 करोड़ रुपए आंकी गई है।

चटर्जी के बेलघरिया फ्लैट से चांदी के कई सिक्के भी कथित तौर पर बरामद किए गए थे, लेकिन इनका बाजार मूल्य अभी पता नहीं चल पाया है।

न्यूज एजेंसी IANS की एक रिपोर्ट में ED के सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि अर्पिता मुखर्जी ने हिरासत में स्वीकार किया कि पश्चिम बंगाल के मंत्री पार्थ चटर्जी ने उन्हें अपनी प्रॉपर्टी को अवैध कैश रखने के लिए इस्तेमाल करने के लिए मजबूर किया था।

रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकारी ने कहा, उन्होंने कबूल किया है कि चटर्जी उनके टॉलीगंज और बेलघरिया दोनों घरों में हफ्ते में एक या दो बार आते थे। इस दौरान उनके साथ एक अज्ञात व्यक्ति भी रहता था। मुखर्जी ने यह भी माना कि उनके पास उस अलमारी की चाभी भी नहीं थी, जहां से कैश बरामद किया गया था।

दूसरी तरफ पश्चिम बंगाल सरकार ने इस घोटाले में जो एक्शन लिया है वो इस प्रकार है l

पश्चिम बंगाल सरकार ने गुरुवार को एक बयान जारी कर कहा कि पार्थ चटर्जी 28 जुलाई से अपने विभागों के प्रभारी मंत्री के रूप में अपने कर्तव्यों से मुक्त हो गए हैं।

west bengal ssc scam news updates in hindi

बंगाल में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस (TMC) के राज्य महासचिव एवं प्रवक्ता कुणाल घोष (Kunal Ghosh) सहित कई अन्य नेताओं ने मांग की थी कि एसएससी घोटाले की जांच के सिलसिले में गिरफ्तार पार्थ चटर्जी को मंत्री पद से तुरंत हटाया जाना चाहिए। घोष ने एक ट्वीट में कहा था कि पार्टी से भी उन्हें तत्काल निष्कासित किया जाना चाहिए।”

प्रवर्तन निदेशालय (ED) के अधिकारियों के अनुसार, पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी (Arpita Mukherjee) के अपार्टमेंट से करीब 50 करोड़ रुपये नकद और करोड़ों रुपये के सोने के आभूषण बरामद किए गए हैं। इसके अलावा कुछ संपत्तियों तथा विदेशी मुद्रा से संबंधित दस्तावेज भी बरामद किए गए हैं।

अर्पिता मुखर्जी ने कोलकाता के टॉलीगंज और बेलघरिया में उनके दो आवासों से लगातार दो बार भारी मात्रा में नकदी और सोना बरामद होने के बाद गुरुवार को ईडी के सामने कबूल किया कि उन्हें मजबूर किया गया था। पार्थ चटर्जी ने उनके घरों को अवैध नकदी रखने के लिए इस्तेमाल करने की अनुमति देने को कहा था।

ईडी के सूत्रों के मुताबिक, मुखर्जी ने यह भी स्वीकार किया कि उनके आवास से बरामद नकदी को चटर्जी ने अपने एक अज्ञात सहयोगी की मदद से वहां रखा था। ईडी के एक अधिकारी ने कहा कि अर्पिता ने कबूल किया है कि चटर्जी उसके टॉलीगंज और बेलघरिया दोनों आवासों में सप्ताह में एक या दो बार आते थे और उनके साथ एक अज्ञात व्यक्ति भी आया करता था।

अधिकारी ने कहा कि चटर्जी ने अर्पिता को अलमारी नहीं खोलने और उन कमरों में बार-बार आने से बचने का सख्त निर्देश दिया थे, जहां से नकदी बरामद की गई थी। यह पता चला है कि चटर्जी जब भी अर्पिता मुखर्जी के आवास पर जाते थे, तो मंत्री अज्ञात व्यक्ति के साथ बंद कमरे में बैठक करते थे। उसमें अर्पिता को भाग लेने की अनुमति नहीं थी।

(इनपुट एजेंसी से भी)

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button