breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीति
Trending

Rajiv Gandhi 77th Birth Anniversary: Bharat Ratna पूर्व PM राजीव गांधी के 77वें जन्मदिवस पर देश कर रहा नमन

भारत को टेलीफोन,आईटी और कंप्यूटर क्रांति की सौगात देने का श्रेय श्री राजीव गांधी जी को ही जाता है। पूर्व पीएम राजीव गांधी के 77वें जन्मदिवस पर कांग्रेस देशवासियों को राजीव गांधी के 21वीं सदी के विजन की नींव रखने वाले भविष्यवक्ता के रूप में पेश कर रही है।

Bharat-Ratna-former-PM-Rajiv-Gandhi-77th-Birth-Anniversary

नई दिल्ली:भारत रत्न(Bharat-Ratna)से सम्मानित पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री राजीव गांधी जी(former-PM-Rajiv-Gandhi-77th-Birth-Anniversary)का आज,20अगस्त को 77वां जन्मदिवस है।

राजीव गांधी के जन्मदिन(Rajiv-Gandhi Birthday) पर कांग्रेस सहित, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी(Rahul-Gandhi)सहित कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और पीएम मोदी(PM Modi) ने उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए।

आधुनिक भारत की बुनियाद रखने वाले पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी(Rajiv-Gandhi) स्वभाव से बेहद सरल और सौम्य कहे जाते है।

Bharat-Ratna-former-PM-Rajiv-Gandhi-77th-Birth-Anniversary

वे दूरदर्शी नेता थे जिन्होंने भारत को मजबूत,तरक्की पसंद और युवा भारत बनाने का सपना संजोया था।

भारत को टेलीफोन,आईटी और कंप्यूटर क्रांति की सौगात देने का श्रेय श्री राजीव गांधी जी को ही जाता है।

पूर्व पीएम राजीव गांधी के 77वें जन्मदिवस पर कांग्रेस देशवासियों को राजीव गांधी के 21वीं सदी के विजन की नींव रखने वाले भविष्यवक्ता के रूप में पेश कर रही है।

राजीव गांधी उपलब्धियां, उनकी सोच और आईटी विजन की पूरी रूपरेखा देश के समक्ष रखना कांग्रेस का उद्देश्य है।

पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी(Indira Gandhi) के सबसे बड़े पुत्र राजीव गांधी का जन्म 20 अगस्त 1944 को हुआ था।

देश की राजनीति में सबसे युवा और सौम्य प्रधानमंत्री राजीव गांधी की निहायत ही वीभत्स तरीके से लिट्टे उग्रवादियों द्ववारा हत्या कर दी गई थी।

लिट्टे उग्रवादियों ने एक आत्मघाती हमला करके राजीव गांधी को 21 मई 1991 में मरवा डाला था।

Bharat-Ratna-former-PM-Rajiv-Gandhi-77th-Birth-Anniversary

सूत्रों के अनुसार, राजीव गांधी की हत्या एक सोची-समझी साजिश थी जिसे लिट्टे (लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम) उग्रवादियों ने उनके एक फैसले के कारण अंजाम दिया था।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के 77वें जन्मदिवस के अवसर पर वर्चुअली कार्यक्रम आयोजित किए गए है।

पापा, हम आपको प्यार करते रहेंगे, आप हमारे दिलों में रहोंगे : राहुल

राजस्थान इनोवेशन विजन राजीव-2021(Rajasthan Innovation Vision Rajiv 2021) कार्यक्रम में विभिन्न आईटी योजनाओं को अशोक गहलोत ने लॉन्च किया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कार्यक्रम में न केवल राजीव गांधी की सोच और उनके विजन को याद किया बल्कि कांग्रेस से 76 सालों का हिसाब मांगने वाले भाजपा के नेताओं पर भी हमला बोला।

अशोक गहलोत ने कहा राजीव गांधी 40 साल की उम्र में प्रधानमंत्री बन गए थे।

जब उन्होंने देश को 21वीं सदी का भारत बनाने का सपना देखा था तब लोग नहीं जानते थे कि कंप्यूटर और टेलीकम्युनिकेशंस तकनीक क्या है,

लेकिन यह देश के लिए बड़े गर्व और फक्र की बात है कि राजीव गांधी ने उस सपने को साकार किया और आज देश के युवाओं का लोहा आईटी के क्षेत्र में पूरी दुनिया मान रही है।

Bharat-Ratna-former-PM-Rajiv-Gandhi-77th-Birth-Anniversary

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा पिछले 76 सालों में कांग्रेस ने देश में लोकतंत्र को जिंदा रखा यही वजह है कि देश में वर्तमान सरकार सुचारू तौर पर काम कर रही है. पाकिस्तान की तरह यहां फौजी शासन लागू नहीं होने दिया इंदिरा गांधी राजीव गांधी ने अपना बलिदान दिया लेकिन देश के रसिया और युगो स्लोवाकिया की तरह टुकड़े नहीं होने दिए. पंजाब से खालिस्तानी आतंकवाद को हटाया तो आसाम सहित नॉर्थ ईस्ट के इलाकों से भी विघटनकारी ताकतों को रोकने में भी कामयाबी हासिल की.

मुख्यमंत्री ने कहा आज भाजपा के नेता भले ही परंपराओं की बात करते हो लेकिन आलोचना का सामना करने की उम्र में हिम्मत नहीं है.

आलोचना करने वालों को देशद्रोही करार दे दिया जाता है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा राजीव गांधी ही वह नेता थे, जिन्होंने देश के युवा को 18 वर्ष की उम्र में मतदान का अधिकार दिया।

Bharat-Ratna-former-PM-Rajiv-Gandhi-77th-Birth-Anniversary

असम में कांग्रेस सरकार (Congress Government) की बलि देकर शांति अवॉर्ड लागू किया।दल बदल कानून बनाया।

अशोक गहलोत यहीं नहीं रुके उन्होंने वर्तमान केंद्रीय सरकार (Central Government) को लेकर कहा राजीव गांधी ने एचआरडी मिनिस्ट्री बनाई थी, लेकिन अब उसका नाम बदल दिया गया है।

नाम बदलना बड़ा आसान काम है। इतिहास को तोड़ना-मरोड़ना बहुत आसान है, लेकिन इतिहास बनाना मुश्किल वर्तमान सरकार की नाम बदलने की फितरत बहुत पुरानी है, अभी भी नाम बदले जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज किसान साथी पोर्टल, आई स्टार्ट वर्चुअल इन्क्यूबेशन प्रोग्राम और राजीव गांधी आईटी क्विजथॉन का भी शुभारंभ किया।

साथ ही, राजीव फंड के तहत 21 चयनित स्टार्ट-अप्स को 2 करोड़ रूपए के फंड का वितरण किया गया. मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में स्टार्ट-अप के क्षेत्र में उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल करने वाले युवाओं को राजीव गांधी इनोवेशन अवार्ड देने की घोषणा की।

इसके तहत प्रथम पुरस्कार के रूप में 2 करोड़ रूपए, द्वितीय पुरस्कार के रूप में 1 करोड़ रूपए तथा तृतीय पुरस्कार के रूप में 50 लाख रूपए की राशि प्रदान की जाएगी।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में 14 नवंबर से राजीव गांधी युवा कोर का शुभारंभ भी किया जाएगा।

Bharat-Ratna-former-PM-Rajiv-Gandhi-77th-Birth-Anniversary

साथ ही, प्रदेश के 200 मेधावी विद्यार्थियों को देश-विदेश के प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थानों में अध्ययन के लिए उन्होंने ‘राजीव गांधी स्कॉलरशिप फॉर एकेडमिक एक्सीलेंस’ की घोषणा की।

इस योजना पर प्रतिवर्ष करीब 100 करोड़ रुप खर्च किए जाएंगे, जिसमें विद्यार्थी के अध्ययन का पूरा खर्च राज्य सरकार वहन करेगी।

तकनीकी शिक्षा को अधिक रोजगारोन्मुखी बनाने के लिए जोधपुर में करीब 400 करोड़ रूपए की लागत से फिनटेक यूनिवर्सिटी की स्थापना की जा रही है।

उन्होंने इसका पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी के नाम पर करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि जयपुर में करीब 200 करोड़ रूपए की लागत से राजीव गांधी सेंटर ऑफ एडवास टेक्नोलॉजी की स्थापना भी की जा रही है।

राजीव गांधी के इनोवेशन सलाहकार रहे सैम पित्रोदा (Sam Pitroda) ने कहा कि स्व. गांधी एक दूरदर्शी नेता थे।

राजीव गांधी के प्रयासों से ही देश आज पोलियो से मुक्त हो पाया है। उन्होंने खाद्य तेल और दुग्ध उत्पादन में भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए गंभीर प्रयास किए।

Bharat-Ratna-former-PM-Rajiv-Gandhi-77th-Birth-Anniversary

स्व. गांधी के कार्यकाल में सी-डॉट, सी-डैक, एनआईसी जैसी प्रतिष्ठित आईटी संस्थाओं की स्थापना हुई, उन्होंने कहा कि जन सेवाओं को सुगम और पारदर्शी बनाने में आईटी का और बेहतर उपयोग किया जाना चाहिए।

खासकर कृषि, स्वास्थ्य और उत्पादन के क्षेत्र में इसके उपयोग की काफी संभावनाएं मौजूद हैं. शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि  मुख्यमंत्री गहलोत के नेतृत्व में प्रदेश में सुशासन की दिशा में सूचना तकनीक का उपयोग लगातार बढ़ रहा है और इससे आमजन का जीवन आसान हुआ है।

राजीव गांधी की जयंती के अवसर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजस्थान को देश में आईटी के क्षेत्र में अग्रणी राज्य बनाने का संकल्प लिया।

मुख्यमंत्री ने कहा हमारा मकसद है राजस्थान में आईटी के क्षेत्र में युवाओं को बढ़ावा मिले सरकारी स्तर पर पेपर लेस काम हो तकनीक का उपयोग बड़े जनजीवन को तकनीक के माध्यम से अधिक से अधिक लाभ दिया जाए।

 

 

 

Bharat-Ratna-former-PM-Rajiv-Gandhi-77th-Birth-Anniversary

(इनपुट एजेंसी से भी)

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 + 15 =

Back to top button